अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक दिवस : सुशील और साइना ने पदक जीतने की यादों को किया साझा

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक दिवस के अवसर पर मंगलवार को पहलवान सुशील कुमार और अनुभवी बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने ओलंपिक में पदक जीतने की अपनी पुरानी यादों को साझा किया।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

सुशील कुमार ने वर्ष 2008 के ओलंपिक में कांस्य पदक और 2012 के आयोजन में रजत पदक जीता था। उन्होंने कहा, 2008 में ओलंपिक पदक के साथ उनका जीवन बदल गया, जबकि 2012 में एक और पदक के साथ इतिहास बनाया गया।

सुशील ने ट्वीट किया, “2008 में ओलंपिक पदक के साथ मेरा जीवन बदल गया और 2012 में दूसरे पदक के साथ इतिहास बन गया। पदक का रंग बदलने के लिए कड़ी मेहनत करना है। आपका आशीर्वाद चाहिए।” वहीं,अनुभवी बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने कहा कि 2012 में कांस्य पदक जीतने वाला पल उनके लिए बेहद खास था।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

उन्होंने ट्वीट किया, ” लंदन ओलंपिक 2012 में कांस्य पदक जीतना मेरे करियर में बहुत ही खास पल था। जिस दिन से मैंने 1999 में बैडमिंटन खेलना शुरू किया तभी से ओलंपिक में पदक जीतना मेरा और मेरे माता-पिता का सपना था। कड़ी मेहनत, विश्वास और कुछ बलिदानों ने इसे संभव बनाया है।”

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

सोमवार को भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरिंदर ध्रुव बत्रा ने देश के ओलंपिक पदक विजेता और ओलंपियन से 23 जून को ओलंपिक दिवस के उत्सव का नेतृत्व करने का आग्रह किया है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री किरेन रिजिजू भी भारत को एक स्पोर्टहाउस बनाने के लिए मुखर रहे हैं। उन्होंने 2028 ओलंपिक में भारत को शीर्ष दस पदक विजेता देशों में प्रवेश कराने की आवश्यकता पर बार-बार जोर दिया है।

टोक्यो ओलंपिक इस साल जुलाई-अगस्त में आयोजित किया जाना था, लेकिन कोरोनोवायरस महामारी के कारण इस कार्यक्रम को अगले साल के लिए टाल दिया गया है।

बतादेंकि 1948 से हर साल 23 जून को ओलंपिक दिवस मनाया जाता है ताकि आधुनिक ओलंपिक खेलों की शुरुआत की जा सके।

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram