उत्तराखंड: देश की सबसे बड़ी FIR! 4 दिन से लिख रही है पुलिस, लगेंगे और 3 दिन

उत्तराखंड के काशीपुर कोतवाली में इतिहास की सबसे बड़ी एफआईआर लिखी जा रही है. रिपोर्ट लिखते-लिखते चार दिन गुजर चुके हैं लेकिन अभी तक ये पूरी नहीं हो पाई है. बताया जा रहा है कि इसे पूरा करने में दो से तीन दिन और लग सकते हैं.

यह मामला अटल आयुष्मान योजना से जुड़ा है. इस घोटाले में लिप्त दो बड़े अस्पतालों के खिलाफ पुलिस एक एफआईआर दर्ज कर रही है. यह एफआईआर पुलिस के लिए भी सरदर्द बन गई है. हिंदी और अंग्रेजी में भेजी गई यह एफआईआर लिखने में पुलिस के पसीने छूट रहे हैं.

ये भी पढ़े..  देश की पहली नेत्रहीन IAS हैं प्रांजिल पाटिल, इन्होंने बिन आंखों के सपने देखे और उन्हें पूरा भी किया- https://bit.ly/2lVHJsu

दरअसल, पुलिस के एफआईआर टाइप करने वाले सॉफ्टवेयर की क्षमता 10 हजार शब्दों से अधिक नहीं होती, यही कारण है कि इस एफआईआर को पुलिस हाथ से लिखकर तैयार कर रही है.

fir

फर्जी उपचार बिल क्लेम आए थे सामने

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अटल आयुष्मान योजना के तहत रामनगर रोड स्थित एमपी अस्पताल और तहसील रोड स्थित देवकी नंदन अस्पताल में भारी अनियमितताएं पकड़ी थीं. जांच में दोनों अस्पतालों के संचालकों की ओर से नियम के खिलाफ रोगियों के फर्जी उपचार बिलों का क्लेम वसूलने का मामला पकड़ में आया था.

रोगी डिस्चार्ज फिर भी चालू रहा बिल मीटर

एमपी अस्पताल में रोगियों के डिस्चार्ज होने के बाद भी मरीज कई-कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती दिखाए गए. आईसीयू में भी क्षमता से अधिक रोगियों का उपचार दर्शाया गया. डायलिसिस केस एमबीबीएस डॉक्टर की ओर से किया जाना बताया गया और वो भी अस्पताल की क्षमता से कई गुना बढ़ाकर. आपको बता दें कि कई मामलों में बिना इलाज किए भी क्लेम प्राप्त कर लिया गया, जिसकी मरीज को भनक तक नहीं है.

कोतवाली में नहीं सॉफ्टवेयर

उत्तराखंड अटल आयुष्मान के अधिशासी सहायक धनेश चंद्र की ओर से दोनों अस्पताल संचालकों के खिलाफ पुलिस को तहरीर सौंपी गईं थी. इसमें से एक तहरीर 64 पन्ने की है, तो दूसरी तहरीर करीब 24 पन्नों की. तहरीरों में अधिक विवरण होने के कारण इन अस्पताल संचालकों के खिलाफ ऑनलाइन एफआईआर दर्ज नहीं हो सकती.

ये भी पढ़े.. एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया होंगे वायुसेना के अगले अध्यक्ष- https://bit.ly/2m4ogWj

कोतवाली में एफआईआर दर्ज करने वाले सॉफ्टवेयर की क्षमता 10 हजार शब्दों से अधिक नहीं है जिसकी वजह से पुलिस के पसीने छूट रहे हैं. एफआईआर दर्ज करने में देरी को लेकर एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने 2 दिन में एफआईआर लिख कर पूर्ण करने की चेतावनी दी है.

मुसीबत इस एफआईआर में लिखने तक ही सीमित नहीं है. इतनी बड़ी एफआईआर की जब पुलिस विवेचना करेगी तो कम से कम एक पर्चा कटने में ही 15 दिन लग सकते हैं, जबकि विवेचना की डेडलाइन 3 महीने रखी गई है जो किसी भी तरह से पूरी नहीं हो सकती है. पुलिस के लिए पहली चुनौती इसको दर्ज करने की और उसके बाद इसकी विवेचना की, दोनों ही आसान नहीं है. (…य़ह खबर आजतक से ली गई है।)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram