गणेशजी को पसंद है दूर्वा तो विष्णुजी और हनुमानजी को पसन्द हैं अलग अलग फूल

सनातन धर्म में भगवान को फूलों का अर्पण करने का विशेष महत्व है। पूजा और धार्मिक अनुष्ठानों में देवी-देवताओं को प्रसन्न करने के लिए फूल चढ़ाए जाते हैं। फूलों के बिना पूजा और धार्मिक अनुष्ठान को अधूरा माना जाता है। शास्त्रों में भी कहा गया है कि देवता का मस्तक या सिर हमेशा फूलों से सुशोभित रहना चाहिए। हिन्दू धर्म में किसी भी भगवान को कोई भी फूल चढ़ाया जा सकता है, लेकिन कुछ देवताओं को विशेष रंग के फूल चढ़ाने से वह जल्दी प्रसन्न होते हैं।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

भगवान श्रीगणेश
प्रथम पूज्य भगवान श्रीगणेश को दूर्वा बहुत ही प्रिय है। दूर्वा के ऊपरी हिस्से में तीन या पांच पत्तियां हो तो यह और भी शुभ माना जाता है। तुलसीदल से कभी भी भगवान श्रीगणेश की पूजा नहीं करना चाहिए।

ImageSource

भगवान श्रीविष्णु
तुलसीदल से भगवान श्रीविष्णु की पूजा करने से वह जल्दी प्रसन्न होते हैं। साथ ही कार्तिक मास में भगवान श्रीविष्णु को केतकी के फूल अर्पित करने से भी वह जल्दी प्रसन्न होते हैं। इनके अलावा कमल, मौलसिरी, जूही, कदम्ब, केवड़ा, चमेली, अशोक, मालती, वासंती, चंपा और वैजयंती के फूल भी भगवान श्रीविष्णु को प्रिय है।

ImageSource

भगवान शिव
भगवान शिव को धतूरे के फूल बहुत प्रिय होते हैं। इसके अलावा उन्हें हरसिंगार, नागकेसर के सफेद पुष्प, कनेर, आक और कुश के फूल भी प्रिय है। शास्त्रों के अनुसार केवड़े के फूल और तुलसीदल से कभी भी भगवान शिव की पूजा नहीं करना चाहिए।

ImageSource

भगवान श्रीकृष्ण
भगवान श्रीकृष्ण वैजंतीमाला और तुलसीदल से जल्दी प्रसन्न होते हैं। उन्हें कुमुद, करवरी, चणक, मालती, पलाश व वनमाला के फूल भी पसंद आते हैं।

ImageSource

भगवान हनुमानजी
हनुमानजी को लाल रंग के फूल पसंद हैं। उन्हें लाल फूल, लाल गुलाब, लाल गेंदा और तुलसीदल अर्पण करने से मनोकामना जल्दी पूर्ण होती है।

सूर्य भगवान
भगवान सूर्य सभी ग्रहों के राजा है। उन्हें आक का फूल और जल सबसे ज्यादा प्रिय है। भगवान सूर्य को धतूरा और अपराजिता के फूल अर्पण नहीं करना चाहिए।

ImageSource

माता लक्ष्मी
माता लक्ष्मी का सबसे प्रिय फूल कमल है। उन्हें पीला फूल या लाल गुलाब चढ़ाकर भी प्रसन्न किया जा सकता है।

ImageSource

शनिदेव
शनिदेव को न्यायाधीश का दर्जा दिया है। उन्हें नीला फूल बहुत ही प्रिय होता है।

ImageSource

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram