गुप्त नवरात्रि आज से शुरू, जानें कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

चैत्र या वासंतिक नवरात्र और अश्विन या शारदीय नवरात्रों के बारे में सभी जानते हैं. लेकिन इसके अतिरिक्त दो और भी नवरात्र हैं जिनमे विशेष कामनाओं की सिद्धि की जाती है. कम लोगों को इसके बारे में जानकारी होने और इसके पीछे छिपे रहस्यमयी कारणों की वजह से इन्हें गुप्त नवरात्र कहते हैं. गुप्त नवरात्र इस बार 22 जून यानी आज से शुरू हो रहे हैं.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

वर्ष में दो बार होते हैं गुप्त नवरात्र

कुल मिलाकर वर्ष में चार नवरात्र होते हैं. यह चारों ही नवरात्र ऋतु परिवर्तन के समय मनाए जाते हैं. महाकाल संहिता और तमाम शाक्त ग्रंथों में इन चारों नवरात्रों का महत्व बताया गया है. इसमें विशेष तरह की इच्छा की पूर्ति तथा सिद्धि प्राप्त करने के लिए पूजा और अनुष्ठान किया जाता है.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

कलश स्थापना का मुहूर्त

22 जून को सुबह 9.30 बजे से सुबह 11 बजे तक

क्या अंतर है सामान्य और गुप्त नवरात्रि में?

– सामान्य नवरात्रि में आम तौर पर सात्विक और तांत्रिक पूजा दोनों की जाती है.

– वहीं गुप्त नवरात्रि में ज्यादातर तांत्रिक पूजा की जाती है.

– गुप्त नवरात्रि में ज्यादा प्रचार प्रसार नहीं किया जाता है, बल्कि अपनी साधना को गोपनीय रखा जाता है .

– गुप्त नवरात्रि में पूजा और मनोकामना जितनी ज्यादा गोपनीय होगी, सफलता उतनी ही ज्यादा मिलेगी.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

क्या होगी गुप्त नवरात्रि में मां की पूजा विधि?

– नौ दिनों के लिए कलश की स्थापना की जा सकती है

– अगर कलश की स्थापना की है तो दोनों वेला मंत्र जाप,चालीसा या सप्तशती का पाठ करना चाहिए.

– दोनों ही समय आरती भी करना अच्छा होगा .

– मां को दोनों वेला भोग भी लगायें , सबसे सरल और उत्तम भोग है लौंग और बताशा.

– मां के लिए लाल फूल सर्वोत्तम होता है पर मां को आक, मदार, दूब और तुलसी बिलकुल न चढ़ाएं .

– पूरे नौ दिन अपना खान पान और आहार सात्विक रखें.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

गुप्त नवरात्रि का महाप्रयोग

– एक लकड़ी की चौकी पर लाल कपड़ा बिछाएं

– उस पर मां की मूर्ति या प्रतिकृति की स्थापना करें

– मां के समक्ष एक बड़ा घी का एकमुखी दीपक जलाएं

– प्रातः और सायं मां के विशिष्ट मंत्र का 108 बार जप करें

– मंत्र होगा – “ऊं ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडाय विच्चे”

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang ) 22 June: गुप्त नवरात्रि आज से शुरू, जानें ग्रह-नक्षत्रों की चाल

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang ) 22 June : आज 19 जून को हिंदू पंचांग के अनुसार अषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि है. आज ही अषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratri) भी आज से शुरू हो रही है. गुप्त नवरात्रि पर तांत्रिक अपनी गुप्त साधनाएं करते हैं. पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल…

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

22 जून 2020
आज  का पंचांग

आज  की तिथि : प्रतिपदा – 12:01:02 तक
आज  का नक्षत्र : आर्द्रा – 13:31:17 तक

आज  का करण : बव – 12:01:02 तक, बालव – 23:44:24 तक

आज  का पक्ष : शुक्ल

आज  का योग: वृद्धि – 12:33:35 तक

आज  का वार : सोमवार

आज  सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय

सूर्योदय का समय : 05:24:03

सूर्यास्त का समय : 19:22:13

चंद्रोदय का समय: 06:05:59

चंद्रास्त का समय : 20:30:00

चंद्र राशि : मिथुन

हिंदू महीने और साल

शक सम्वत : 1942   शार्वरी

विक्रम सम्वत : 2077

काली सम्वत : 5122

दिन काल : 13:58:10

मास अमांत : आषाढ

मास पूर्णिमांत : आषाढ

शुभ मुहूर्त : 11:55:12 से 12:51:05 तक

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

आज  का अशुभ मुहूर्त

दुष्टमुहूर्त: 12:51:05 से 13:46:57 तक, 15:38:43 से 16:34:35 तक

कुलिक15:38:43 से 16:34:35 तक

कंटक: 08:11:41 से 09:07:34 तक

राहु काल07:08:50 से 08:53:36 तक

कालवेला / अर्द्धयाम10:03:27 से 10:59:19 तक

यमघण्ट11:55:12 से 12:51:05 तक

यमगण्ड: 10:38:22 से 12:23:09 तक

गुलिक काल14:07:55 से 15:52:41 तक (साभार- AstroSage.com)

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram