जब 2017 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की तारीफ करते हुए रो दिए थे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बताया था पिता जैसा

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक जताते हुए एक तस्वीर ट्वीट की है जिसमें वह उनका पैर छूकर आशीर्वाद लेते दिख रहे हैं। पीएम ने यह भी याद किया कि कैसे 2014 में प्रधानमंत्री बनने पर वह दिल्ली में जब नए-नए थे तब मुखर्जी का उन्हें भरपूर सहयोग और आशीर्वाद मिला था। दरअसल पीएम मोदी और प्रणब मुखर्जी के रिश्तों में गर्मजोशी ही ऐसी थी। 2017 में तो मोदी तत्कालीन राष्ट्रपति मुखर्जी की तारीफ करते हुए रो दिए थे और उन्हें अपने लिए एक पिता जैसा बताया था।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

दरअसल, 2017 में मुखर्जी का राष्ट्रपति के तौर पर कार्यकाल खत्म होने से चंद दिनों पहले उन पर एक किताब के विमोचन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी उनकी तारीफ करते-करते भावुक हो गए थे। ‘प्रेजिडेंट प्रणब मुखर्जी : अ स्टेट्समैन ऐट द राष्ट्रपति भवन’ किताब को जारी करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि प्रणब मुखर्जी उनका ऐसे ख्याल रखते हैं जैसे कोई पिता अपनी संतान का रखता है।

 

प्रणब दा से मिले डांट का जिक्र करते हुए तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था, ‘अंतर्मन से कह रहा हूं। कोई पिता अपनी संतान की जैसे देखभाल करे। देखो मोदीजी, आधा दिन तो आराम करना ही पड़ेगा। मुझे डांटे थे प्रणब दा जी ने। भाई इतना काहे दौड़ रहे हो। कुछ कार्यक्रम कम करो। तुम तबीयत का संभालो। चुनाव के दिन थे उत्तर प्रदेश में। मुझे कहते थे कि भाई जीत और हार तो चलती रहती है लेकिन शरीर का भी देखोगे कि नहीं देखोगे। ये राष्ट्रपति के दायित्व का हिस्सा नहीं था। लेकिन उनके भीतर का इंसान अपने एक साथी की चिंता। और मैं मानता हूं कि ये व्यक्तित्व, ये सम्मान, ये रूप राष्ट्रजीवन के लिए एक बहुत बड़ा हम जैसे लोगों के लिए एक प्रेरणा देने वाला काम होता है और वो काम प्रणब दा ने किया है। आदरणीय राष्ट्रपति जी ने किया है।’
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन, कई दिनों से वेंटिलेटर पर थे

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram