जहरीली हो गई है दिल्ली की हवा, प्रदूषण लेवल 1200 के पार, ये हैं बचाव के उपाय

दिल्ली में प्रदूषण खतरनाक स्तर को पार कर गया है. कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 1200 के पार पहुंच गया. आनंद विहार इलाके में एयर क्वालिटी इंडेक्स 1350 रिकॉर्ड किया गया तो वहीं अशोक विहार में 1291 दर्ज किया गया. पूरे दिल्ली की बात करें तो यहां पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 1146 रिकॉर्ड किया गया.

दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण का स्तर सामान्य से 20 गुना से भी अधिक हो गया है. बारिश के बावजूद रविवार को  कई इलाकों में विजिबिलिटी बेहद कम हो गई. कुछ इलाकों में विजिबिलिटी 200 मीटर तक हुई.

 

प्रदूषण को रोकने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से राहत व बचाव कार्य करने की अपील की है. केजरीवाल ने कहा कि पूरे देश में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. दिल्ली सरकार ने कई कदम उठाए हैं.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बिना कुछ किए दिल्लीवासियों को खामियाजा भुगतना पड़ रहा है. पंजाब के मुख्यमंत्री ने भी अपनी चिंता व्यक्त की है. केंद्र सरकार को राहत व बचाव के लिए कदम उठाना चाहिए. हम केंद्र सरकार की हर पहल का समर्थन करेंगे.

प्रदूषण पर सीएम ने बुलाई आपात बैठक

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आपात बैठक बुलाई है. सीएम आवास पर हो रही बैठक में अधिकारी और मंत्री मौजूद हैं. प्रदूषण रोकने के उपायों पर चर्चा हो रही है.

वहीं, आम आदमी पार्टी की नेता आतिशी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि सैटेलाइट इमेज दिखाते हैं कि भारत का लगभग आधा हिस्सा एक जहरीले स्मॉग की चपेट में है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को बताना चाहिए कि इसे रोकने के लिए उन्होंने पिछले 6 महीनों में क्या कदम उठाए हैं? आप क्या कदम उठाने जा रहे हैं कि फिर कभी ऐसा न हो?

गैस चेंबर बनी दिल्ली, सांस लेना हुआ दूभर

गौरतलब है कि दिल्ली-एनसीआर में बारिश की फुहारों के बावजूद आज हवा की गुणवत्ता बेहद खतरनाक बनी हुई है. ज्यादातर इलाकों में एयरक्वालिटी इंडेक्स 900 के पार पहुंच गया है. कई इलाकों में AQI 900 के ऊपर पहुंच गया है. तो वहीं नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद की हवा भी ज़हरीली बनी हुई है.

बताया जा रहा है कि पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के सीमाई इलाकों में पराली जलाए जाने से दिल्ली की आबो-हवा में जहर घुल रहा है. पर्यावरण वैज्ञानिकों का कहना है कि यह हवा के डायरेक्शन की वजह से है, क्योंकि हवा हरियाणा और पंजाब जैसे राज्यों की तरफ से दिल्ली की तरफ आ रही है तो शायद उसमें पराली का धुंआ और ज्यादा लाया है.

प्रदूषित हवा से ऐसे करें बचाव :

1. एक्यूआई इंडेक्स 150 से ज्यादा होने पर ज्यादा फिजिकल एक्टिविटी वाली एक्सरसाइज, क्रिकेट, हॉकी, साइकलिंग, मैराथन से परहेज करें. प्रदूषण स्तर के 200 से ज्यादा होने पर पार्क में भी दौड़ने और टहलने ना जाएं. जब प्रदूषण स्तर 300 से ज्यादा हो तो लंबी दूरी की वॉक ना करें. जब स्तर 400 के पार हो तो घर के अंदर रहें, सामान्य वॉक भी ना करें. घर के भीतर रहें. प्रदूषण स्तर 1000 पर होने पर पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी जैसे हालात होते हैं. इस स्तर पर बिल्कुल भी घर से बाहर ना निकलें, घर पर ही रहें.

2. घर से बाहर निकलने से पहले चेहरे पर मास्क जरूर लगाएं.

3.अपने घर और आस-पास की जगहों पर ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं. ये हवा को प्यूरीफाई करने का काम करते हैं. जिससे आप ताजी हवा में सांस ले पाएंगे.

4. सांसों से शरीर में पहुंचे जहर को बाहर निकालने के लिए पानी बहुत जरूरी है. इसलिए पानी पीना नहीं भूलें. दिन में तकरीबन 4 लीटर तक पानी पिएं. घर से बाहर निकलते वक्त भी पानी पिएं. इससे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई सही बनी रहेगी और वातावरण में मौजूद जहरीली गैसें अगर ब्लड तक पहुंच भी जाएंगी तो कम नुकसान पहुंचाएंगी.

5.खाने में जितना हो सके विटामिन-सी, ओमेगा-3 को प्रयोग में लाएं. शहद, लहसुन, अदरक का खाने में ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें. खांसी, जुकाम की स्थिति में शहद और अदरक के रस का सेवन करें.

6. अगर घर से बाहर निकलना आपकी मजबूरी है तो घर आने के बाद गुनगुने पानी से मुंह, आंखें और नाक साफ करें. बाहर से आने के बाद भाप भी ले सकते हैं.

7.जब तक प्रदूषण है तब तक बच्चों को बाहर खेलने ना निकलने दें. साइकिलिंग करने से बचें, ज्यादा देर पैदल ना चलें.

8.कफ की दिक्कत है तो शहद में काली मिर्च मिलाकर लें. वहीं, लहसुन में एंटीबॉयटिक तत्व होते हैं जो प्रदूषण से लड़ने की क्षमता बढ़ाते हैं.

9.अस्थमा के मरीज हैं तो दवाइयां हमेशा साथ रखें. गर्भवती महिलाएं घर में रहने के दौरान भी मास्क पहनें.

10 .सुबह के वक्त प्रदूषण का स्तर ज्यादा होता है इसलिए मॉर्निंग वॉक पर नहीं जाएं. धूप निकलने के बाद ही बाहर ही निकलें. मोटरसाइकल या साइकिल से बाहर नहीं निकलें.

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram