जानें कौन थे स्वामी विश्वेश तीर्थ, PM मोदी ने निधन पर जताया शोक

पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी का रविवार को गंभीर बीमारी के चलते निधन हो गया. वह बीमार थे और उनका काफी समय से केएमसी अस्पताल में इलाज चल रहा था. रविवार को ही उन्हें अस्पताल से मठ लाया गया था. विश्वेश तीर्थ स्वामी के निधन से मठ से जुड़े लोग शोक में डूबे हुए हैं. खुद पीएम मोदी ने उनके निधन पर शोक प्रकट किया है.

विश्वेश तीर्थ स्वामी पेजावर मठ के 32वें महंत थे. उडुपी के आठ मठों में से एक प्रमुख मठ पेजावर मठ भी है. विश्वेश तीर्थ स्वामी का जन्म 27 अप्रैल, 1931 को कर्नाटक के रामाकुंज में एक शिवाली मध्व ब्राह्मण परिवार में हुआ था.

माता-पिता ने इनका नाम वेंकटरामा रखा था, लेकिन 8 साल की उम्र में संन्यास लेने के बाद इनका नाम विश्वेश तीर्थ स्वामी पड़ गया. श्री भंडारकेरी मठ और पलिमारु मठ के गुरु श्री विद्यामान्या तीर्थ से इन्होंने शिक्षा हासिल की थी. उमा भारती से लेकर योगी आदित्यनाथ तक इन्हें एक महान संत मानते थे.

बचपन से ही विश्वेश स्वामी ने अपनी कृष्ण भक्ति से लोगों का ध्यान आकर्षिक कर लिया. आगे चलकर स्वामी जी ने कई सामाजिक कार्यक्रम संस्थाओं की बुनियाद रखी. उनके नेतृत्व में कई शैक्षणिक और सामाजिक संस्थानों की स्थापना हुई.

गरीब बच्चों की शिक्षा का खर्च उठाने वाली अखिल भारतीय मध्व महामंडल (एबीएमएएम) का निर्माण भी स्वामी जी के हाथों ही हुआ था. भारत में उन्होंने कई धार्मिक स्थलों पर ऐसे मठों का निर्माण किया जो दर्शन करने आए तीर्थ यात्रियों की सेवा करते हैं.

अयोध्या में राम जन्मभूमि आंदोलन से लेकर गौ संरक्षण के मुद्दों को भी स्वामी ने जमकर समर्थन किया था. देशभर में लोग इन्हें ‘राष्ट्र स्वामीजी’ के नाम से जानते थे.

पीएम मोदी ने जताया शोक
स्वामी विश्वेश तीर्थ के निधन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी है। पीएम ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘पेजावर मठ के विश्वेश तीर्थ स्वामी जी हमेशा एक प्रेरणास्रोत की तरह लाखों लोगों के दिल में रहेंगे। वह धार्मिक सेवा के एक ऊर्जास्रोत के तरह थे, जिन्होंने लगातार समाज के लिए काम किया। मैंने कई मौकों पर उनसे बहुत कुछ सीखा है। मैंने हाल ही में गुरू पूर्णिमा के पावन अवसर पर उनसे मुलाकात की थी। उनका अद्भुत ज्ञान हमेशा मेरे साथ रहा है। मेरी संवेदनाएं उनके अनुयायियों के साथ हैं।’

कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा ने विश्वेश तीर्थ स्वामी के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। बीएस येदियुरप्पा ने अपने शोक संदेश में लिखा, ‘भगवान कृष्ण उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। मैं प्रार्थना करता हूं कि ईश्वर उनके भक्तों को इस दुख से निकलने की शक्ति प्रदान करें।’

जबकि, राहुल गांधी ने विशेश्व तीर्थ जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट कर कहा- उडुपी के पेजावर मठ के विशेश्व तीर्थ स्वामी जी के निधन की खबर से दुखी हूं। मेरी संवेदना दुनियाभर के उनके अनुयायिकों के साथ है।

सीएम येदियुरप्पा और उमा भारती ने लिया था हालचाल
शनिवार को कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा और रविवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने मठ पहुंचकर विश्वेश तीर्थ स्वामी का हालचाल लिया था। 1992 में स्वामी विश्वेस तीर्थ से दीक्षा लेने वाली उमा भारती एक सप्ताह से ही उडुपी में मौजूद हैं और वह लगातार स्वामी विश्वेश तीर्थ का हालचाल ले रही थीं।

राजकीय सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार
मठ के अधिकारियों के अनुसार, निधन के बाद विश्वेश तीर्थ स्वामी का पार्थिव शरीर भक्तों के दर्शन के लिए उडुपी के महात्मा गांधी मैदान में रखा जाएगा। यहां दर्शन पूरा होने के बाद राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। अंतिम संस्कार में कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा समेत तमाम गणमान्य लोग शामिल होंगे।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram