नव निर्माण संघ का उद्देश्य समाज का हर एक बच्चा शिक्षा और संस्कार के साथ बड़ा हो : प्रखर खरे

शिक्षा जीवन का एक अहम हिस्सा है। किसी भी देश की प्रगति के लिए, देश के नागरिकों का शिक्षित होना बहुत ही आवश्यक होता है। लेकिन हमारे देश में बहुत से ऐसे बच्चे हैं, जो अपनी आर्थिक तंगी और कुछ मजबूरियों के कारण शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाते। इन्ही बच्चों को एक नई दिशा दिखाने के लिए नव निर्माण संघ ने एक पहल की है। जिसके हर एक कार्यकर्ताओं ने बच्चों को अच्छी शिक्षा देने का संकल्प लिया है। इस NGO का नाम नवनिर्माण संघ है। जो पिछले एक साल से बच्चों की शिक्षा और उनकी जरूरतों को पूरा करने की कोशिश कर रहा है। नव निर्माण संह गरीब बस्तियों में शिक्षा की मसाल लेकर निकला है। यह बाते आज झक्कास खबर से बात करते हुए नव निर्माण संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रखर खरे ने कही।

नव निर्माण संघ के अध्यक्ष प्रखर खरे ने कहा नव निर्माण संघ एक समाजिक संगठन है। हमारे समाज में बहुत से ऐसे छोटे-भाई बहन हैं, जो पढ़ना लिखना चाहते हैं, लेकिन अपने आर्थिक कारणों के चलते पढ़ नहीं पाते। ऐसे भाई-बहनों को हमारा संगठन सहयोग करता है। हमारा उद्देश है कि समाज का हर एक बच्चा शिक्षा और संस्कार के साथ बड़ा हो।

नव निर्माण संघ के सचिव देवेंद्र सिंह ने कहा आज हमारा संगठन (नवनिर्माण संघ) आजादपुर दिल्ली की गाड़िया लुहार बस्ती के उत्थान के लिए विगत एक वर्ष से कार्य कर रहा है। हमारा उद्देश्य है कि बस्ती के सभी बच्चे शिक्षित हों। शिक्षा के साथ-साथ उनके सर्वांगीण विकास के लिए हमारा संगठन प्रयासरत है।

नव निर्माण संघ के लेखाधिकारी अमन कुमार का कहना है कि शिक्षा एक ऐसा जरिया है, जिससे हम आप अपनी जिंदगी को बदल सकते हैं। ये बात हम सबको पता है, लेकिन हमारे समाज में कुछ ऐसे लोग हैं, जो अपनी निजी समस्या के कारण अपने बच्चों को सही शिक्षा नहीं दे पाते हैं। हमारा संगठन ऐसे ही परिवार, समाज की मदद के लिए समर्पित है। आज हमें “नव निर्माण संघ” को 1 वर्ष हो गए हैं। सेवा करते हुए और मैं आप सभी को अपना आभार प्रकट करता हूं। ऐसे ही आप सभी अपना समर्थन हमें देते रहें।

नव निर्माण संघ फिलहाल दिल्ली में अपना संगठन चला रही है और यहां के गरीब बच्चों को शिक्षा देने का प्रयास कर रही है, लेकिन इनका लक्ष्य काफी बड़ा है। ये संगठन सिर्फ दिल्ली राज्य ही नहीं, बल्कि पूरे देश के गरीब बच्चों को उच्च शिक्षा देना चाहती है।


आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram