नागरिकता संशोधन कानून पर हिंसा से दिल्ली में मेट्रो सेवा प्रभावित, 15 स्टेशन बंद

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. दिल्ली के साउथ ईस्ट इलाकों में नागरिकता कानून को लेकर हिंसा भड़की. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने कई बसों को आग के हवाले भी कर दिया. इस प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली में 15 मेट्रो स्टेशन पर आवाजाही बंद कर दी है.

 

इसके साथ ही इन 15 मेट्रो स्टेशन पर मेट्रो भी नहीं रुक रही हैं. इनमें जीटीबी नगर, शिवाजी स्टेडियम, पटेल चौक, विश्वविद्यालय, वसंत विहार, मुनिरका, आरके पुरम, सुखदेव विहार, जामिया मिलिया इस्लामिया, ओखला विहार पर भी मेट्रो सेवाएं बाधित रहेंगी.

प्रदर्शनों की वजह से जसोला विहार, शाहीन बाग और आश्रम मेट्रो स्टेशन पर भी मेट्रो सेवाएं बाधित हैं. इसके साथ ही आईटीओ और प्रगति मैदान पर भी मेट्रो सेवाएं बाधित रहेंगी.

जामिया इलाके में भड़की हिंसा

जामिया इलाके में रविवार को हुआ विरोध प्रदर्शन शाम 4 बजे के बाद से हिंसक हो गया. पुलिसकर्मियों ने उग्र विरोध प्रदर्शन करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की और घटनास्थल से खदेड़ा. बाद में पुलिसकर्मियों ने अराजक तत्वों के जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में घुसे होने के संदेह पर कैंपस से सभी छात्रों को बाहर निकाल दिया.

हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने उनके साथ बर्बरता की. जामिया प्रशासन का आरोप है कि पुलिस, कैंपस के अंदर घुस गई और छात्रों व वहां काम करने वाले स्टाफ को पीटा. रविवार रात नौ बजे के करीब सभी छात्र और विश्वविद्यालय प्रशासन के लोग दिल्ली के आईटीओ स्थित पुलिस मुख्यालय पहुंच गए और पुलिस के कथित क्रूर एक्शन के खिलाफ नारेबाजी की.

प्रदर्शन के दौरान कई छात्र-पुलिसकर्मी घायल

जामिया इलाके के होली फैमिली अस्पताल में 11 घायल छात्रों को इलाज के लिए लाया गया है. वहीं 24 छात्रों को हल्की चोटें आई हैं. जबकि हिंसक प्रदर्शन को रोकने के दौरान 6 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. वहीं पुलिस के मुताबिक प्रदर्शनकारियों ने कई बसों में आग लगा दी. आग बुझाते वक्त दमकलकर्मयों को भी चोटें आई थीं.

जामिया की लाइब्रेरी में भी तोड़-फोड़ की गई है. कुछ देर अराजकता की स्थिति रहने के बाद पुलिस ने अब इलाके में फ्लैग मार्च किया है. अब हालात नियंत्रण में है. इलाके में भारी पुलिस बल तैनात की गई है. डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने कहा है कि स्थिति अब नियंत्रण में है.

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram