बंगाल : मैं देश का एकमात्र राज्यपाल जिसे मुख्यमंत्री ममता से नहीं मिला दीवाली अभिवादन : राज्यपाल

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सरकार के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। रविवार को राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने एक बार फिर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्य सरकार पर अपनी अवहेलना का आरोप लगाया है। रविवार शाम कोलकाता के कलामंदिर में कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे राज्यपाल ने बाद में मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि जबसे उन्होंने राज्यपाल के तौर पर शपथ ली है उसके बाद से लेकर आज तक राज्य सरकार ने उन्हें किसी भी सरकारी उत्सव में आधिकारिक तौर पर आमंत्रित नहीं किया है। आगामी आठ नवंबर को आयोजित होने वाले कोलकाता अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का जिक्र करते हुए राज्यपाल ने कहा कि इसमें दुनिया भर के कई देशों के लोग आ रहे हैं लेकिन राज्यपाल आमंत्रित नहीं हैं। उन्होंने अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि कोई मेरी जगह पर अपने आप को रखकर देखिए कि कितना बुरा लगेगा।

उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर भी खुद को पूरी तरह से नजरअंदाज करने का आरोप लगाया। धनखड़ ने कहा कि दीपावली के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी राष्ट्रपति के पास शुभकामना के लिए गए थे लेकिन मैं देश का एकमात्र ऐसा राज्यपाल हूं जिन्हें दीपावली के मौके पर मुख्यमंत्री की ओर से आधिकारिक तौर पर कोई शुभकामना या अभिवादन नहीं किया गया। यह काफी ठेस पहुंचाने वाला था।

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह राज्यपाल अपनी पत्नी सुदेश धनखड़ के साथ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के आवास पर काली पूजा में शामिल होने के लिए गए थे। करीब दो घंटे तक वहां रहे थे और कहा था कि मुख्यमंत्री के घर मां काली की पूजा में शामिल होकर वह खुद को सौभाग्यशाली महसूस कर रहे हैं। इसके पहले गत 23 अक्टूबर को वह उत्तर और दक्षिण 24 परगना में प्रशासनिक बैठक के लिए गए थे लेकिन राज्य सरकार का कोई भी अधिकारी नहीं आया था। तब उन्होंने इसे पूरी तरह से असहयोग और असंवैधानिक करार दिया था। इसके पूर्व दुर्गा पूजा के बाद होने वाली मूर्तियों की शोभायात्रा में भी उन्होंने खुद को अपमानित करने का आरोप मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर लगाया था। उन्होंने कहा था कि साढ़े चार घंटे तक उन्हें बैठाकर रखा गया लेकिन राज्य सरकार की ओर से समाचार चैनल को दिए गए वीडियो प्रसारण में उन्हें कहीं नहीं दिखाया गया।

ममता बनर्जी की सरकार पर भी लगाया जासूसी का आरोप 

राज्यपाल ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की सरकार पर गोपनीयता के अधिकार को भंग कर जासूसी का आरोप लगाया। दरअसल एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि उनका फोन रिकॉर्ड किया जाता है। इस बारे में जब जगदीप धनखड़ से रविवार को सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री किस आधार पर यह बात कह रही हैं, मैं नहीं जानता लेकिन मेरे पास बहुत ऐसे लोग आते हैं जो अपना फोन राज्य प्रशासन द्वारा टैप करने की शिकायत करते हैं। यहां भी गोपनीयता के अधिकार को भंग कर लोगों की जासूसी होती है।

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram