बारींद्रनाथ घोष जीवनी – Biography of Kumar Ghosh in Hindi Jivani

बारींद्रनाथ घोष (5 जनवरी 1880 – 18 अप्रैल 1959) भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी और पत्रकार तथा “युगांतर” के संस्थापकों में से एक थे। वह ‘बारिन घोष’ नाम से भी लोकप्रिय हैं। बंगाल में क्रांतिकारी विचारधारा को फेलाने का श्री बारीन्द्र और भूपेन्द्र नाथ दत्त (स्वामी विवेकानंद जी के छोटे भाई) को ही जाता है। महान अध्यात्मवादी श्री अरविन्द घोष उनके बड़े भाई थे।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

बरेंद्र कुमार घोष एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी, क्रांतिकारी और पत्रकार थे। वह बंगाल के एक क्रांतिकारी संगठन जुगंतार के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। बर्न्द्र घोष का जन्म 5 जनवरी 1880 को लंदन के नॉरवुड में हुआ था। वे अरबिंदो घोष के छोटे भाई थे। उन्होंने देवघर में स्कूली शिक्षा और पटना कॉलेज में भाग लिया। उन्होंने बड़ौदा में सैन्य प्रशिक्षण प्राप्त किया इस समय के दौरान, (1800 के अंत – 1 9 00 के शुरुआती दिनों) बारिन अरबिंदो से प्रभावित थे और क्रांतिकारी आंदोलन के प्रति आकर्षित थे।

बारिन कोलकाता लौट आए और जतिन्द्रनाथ बनर्जी की मदद से बंगाल के कई क्रांतिकारी समूहों का आयोजन शुरू कर दिया। जल्द ही उन्होंने युगांतार, एक बंगाली साप्ताहिक प्रकाशित करना शुरू कर दिया और एक क्रांतिकारी संगठन जुगंतार का शीघ्र ही पालन किया। जुगांत का गठन अनुशासन समिति के आंतरिक चक्र से किया गया और इसके आतंकवादी गतिविधियों को शुरू किया। बरिन और बाघा जतिन बंगाल के कई युवा क्रांतिकारियों की भर्ती में सहायक थे। क्रांतिकारियों ने मणिकत्ला समूह, कोलकाता में एक गुप्त स्थान का गठन किया – जहां उन्होंने बम का निर्माण शुरू किया और हथियारों और गोला-बारूद एकत्र किए।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

कलकत्ता आए और सबसे अच्छे छपाई के घरों में से एक थे और उन्होंने पत्रकारिता में अपना कैरियर शुरू किया। बाद में उन्होंने कोलकाता में एक आश्रम स्थापित करने का फैसला किया और व्यवसाय से सेवानिवृत्त हो गया। 1 9 23 में उन्होंने पांडिचेरी के लिए श्री अरबिंदो आश्रम की स्थापना की थी और उनके बड़े भाई, अरबिंदो ने बहुत ही प्रेरित किया और आध्यात्मिकता और साधना के सौंदर्यवादी मूल्यों को आत्मसात करने लगे। 1 9 2 9 में, बैरींद्र कुमार घोष कोलकाता लौट आए और पत्रकारिता में अपना कैरियर शुरू कर दिया। 1 9 33 में, बैरींद्र कुमार घोष ने अंग्रेजी साप्ताहिक, द डॉन ऑफ इंडिया की शुरुआत की। वह द स्टेट्समैन के साथ भी जुड़ा था और एक स्तंभकार के रूप में शीर्षक अर्जित किया था। 1 9 50 में, वह बंगाली दैनिक दैनिक बसुमती के संपादक बने। 1 9 33 में, वह एक सम्मानित परिवार की विधवा सैलजा दत्ता से विवाह किया गया था। 1 9 5 9 में 18 अप्रैल को सत्तर नौ साल की उम्र में बैरींद्र कुमार घोष ने अपना अंतिम सांस ली। । उन्होंने खुद को विभिन्न भाषाओं में विभिन्न साहित्यिक गतिविधियों में शामिल किया, जो हाल ही में प्रकाश में आया था।

क्रांतिकारी गतिविधियाँ

सन 1902 में बारीन्द्र कुमार घोष कलकत्ता वापस आ गये थे और जतिन्द्रनाथ दास के साथ मिलकर बंगाल में अनेक क्रांतिकारी समूहों को संगठित करना शुरू कर दिया।

अनुशीलन समिति

बारीन्द्र कुमार घोष और भूपेन्द्रनाथ दत्त के सहयोग से 1907 में कलकत्ता में ‘अनुशीलन समिति’ का गठन किया गया, जिसका प्रमुख उद्देश्य था- “खून के बदले खून।” 1905 के बंगाल विभाजन ने युवाओं को आंदोलित कर दिया था, जो की अनुशीलन समिति की स्थापना के पीछे एक प्रमुख वजह थी।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

इस समिति का जन्म 1903 में ही एक व्यायामशाला के रूप में हो गया था और इसकी स्थापना में प्रमथनाथ मित्र और सतीश चन्द्र बोस का प्रमुख योगदान था। एम. एन. राय के सुझाव पर इसका नाम अनुशीलन समिति रखा गया। प्रमथनाथ मित्र इसके अध्यक्ष, चितरंजन दास व अरविन्द घोष इसके उपाध्यक्ष और सुरेन्द्रनाथ ठाकुर इसके कोषाध्यक्ष थे। इसकी कार्यकारिणी की एकमात्र शिष्य सिस्टर निवेदिता थीं। 1906 में इसका पहला सम्मलेन कलकत्ता में सुबोध मालिक के घर पर हुआ। बारीन्द्र कुमार घोष जैसे लोगों का मानना था की सिर्फ राजनीतिक प्रचार ही काफ़ी नहीं है, नोजवानों को आध्यात्मिक शिक्षा भी दी जानी चाहिए। उन्होंने अनेक जोशीले नोजवानों को तैयार किया जो लोगों को बताते थे कि स्वतंत्रता के लिए लड़ना पावन कर्तव्य है

ढाका अनुशीलन समिति

कार्य की सहूलियत के लिए अनुशीलन समिति का दूसरा कार्यालय 1904 में ढाका में खोला गया, जिसका नेतृत्व पुल्लिन बिहारी दास और पी. मित्रा ने किया। ढाका में इसकी लगभग 500 शाखाएं थीं। इसके अधिकांश सदस्य स्कूल और कॉलेज के छात्र थे। सदस्यों को लाठी, तलवार और बन्दूक चलने का प्रशिक्षण दिया जाता था, हालाँकि बंदूकें आसानी से उपलब्ध नहीं होती थीं।

रिहाई और आगे की गतिविधि

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

बारिन घोष को 1920 में प्रथम विश्वयुद्ध के बाद दी गयी आम क्षमा (general amnesty) में रिहा कर दिया गया जिसके बाद वह कलकत्ता आ गए और पत्रकारिता प्रारंभ कर दी। किन्तु जल्द ही उन्होंने पत्रकारिता भी छोड़ दी और कलकत्ता में आश्रम बना लिया। 1923 में वह पांडिचेरी चले गए जहाँ उनके बड़े भाई श्री अरविन्द ने प्रसिद्ध “श्री औरोविंद आश्रम ” बनाया था। श्री अरविन्द ने उन्हें आध्यात्म और साधना के प्रति प्रेरित किया जबकि श्री ठाकुर अनुकुलचंद उनके गुरु थे। इन्होने ही अपने अनुयायियों द्वारा बरीं की सकुशल रिहाई में मदद की थी। 1929 में बारिन दोबारा कलकत्ता आये और पत्रकारिता शुरू कर दी। 1933 में उन्होंने “द डान ऑफ इण्डिया (The Dawn of India) नामक अंग्रेजी साप्ताहिक पत्र शुरू किया। वह “द स्टेट्समैन से जुड़े रहे और 1950 में वह बांगला दैनिक “दैनिक बसुमती” के संपादक हो गए। 18 अप्रैल 1959 को इस महान सेनानी का देहांत हो गया।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram