बॉर्डर के पास मकान की खुदाई में मिले जिंदा कारतूस,1965 के युद्ध से कनेक्शन

राजस्थान के रेगिस्तान के बॉर्डर के इलाकों में 1965 और 1971 की लड़ाई के बाद भी कई बार भारत और पाकिस्तान के बीच तनातनी का माहौल बन गया था, जिसके चलते कई बार दोनों देशों की सीमाओं ने बॉर्डर पर मोर्चा संभाल लिया था.

बॉर्डर के पास मकान की खुदाई में मिले जिंदा कारतूस,1965 के युद्ध से कनेक्शन

यहां तक कि 1999 में तो बॉर्डर पर जबरदस्त तरीके से सेना का जमावाड़ा नजर आया था और कई गांव भी उस समय सेना ने अपने कब्जे में ले लिए थे जिसके चलते कई गोला-बारूद रेगिस्तान के अंदर आज भी मकान खुदाई या खेतों में मिलने का सिलसिला जारी है.

बॉर्डर के पास मकान की खुदाई में मिले जिंदा कारतूस,1965 के युद्ध से कनेक्शन

भारत और पाकिस्तान बॉर्डर सीमा पर किस तरीके से 1965 और 1971 में भारत ने पाकिस्तान को धूल चटाई थी, उसके प्रमाण आज भी बॉर्डर के गांवों में मिलते रहते हैं. जब भी बॉर्डर के गांवों में लोग अपने घरों की खुदाई करवाते हैं तो पुराने बारूद मिलते रहते हैं. ऐसा ही एक मामला राजस्थान के बाड़मेर जिले के भारत-पाक सीमा से महज 2 किलोमीटर पहले मीठाडाउ गांव में पीएम आवास योजना के लिए अपने घर की खुदाई का काम मजदूरों से शुरू करवाया तो घर में खुदाई के दौरान मिट्टी की हांडी में 52 जिंदा कारतूस मिले.

बॉर्डर के पास मकान की खुदाई में मिले जिंदा कारतूस,1965 के युद्ध से कनेक्शन

बाड़मेर जिले के चौहटन इलाके में जब मकान मालिक ने खुदाई शुरू की तो उसे तीखी लोहे की वस्तु देखी तो मजदूरों के भी होश उड़ गए लेकिन उसके बाद जब पूरी खुदाई हुई तो पता चला कि यहां पर भी किसी समय में सेना का मूवमेंट हुआ करता था.

बॉर्डर के पास मकान की खुदाई में मिले जिंदा कारतूस,1965 के युद्ध से कनेक्शन

दरअसल, सरहदी बीजराड़ थाना क्षेत्र के मीठाडाउ गांव में एक मकान के नींव खुदाई का कार्य चल रहा था कि अचानक बारूद मिलने से परिवार में हड़कंप मच गया. आनन फानन में उस जगह को छोड़कर परिवार को पहले दूर किया और फिर मीठाडाउ निवासी मदन कुमार तत्काल पुलिस थाने पहुंचा और बारूद होने की सूचना पुलिस को दी. इस सूचना के बाद बीजराड़ एसएचओ कैलाश दान मय जाब्ता मौके पर पहुंचे और खुदाई में मिले जिंदा कारतूस बरामद कर बीएसएफ को भी सूचना दी.

बॉर्डर के पास मकान की खुदाई में मिले जिंदा कारतूस,1965 के युद्ध से कनेक्शन

उप पुलिस अधीक्षक कार्यालय द्वारा इस बारे में जानकारी सेना को दी जाएगी. इसके बाद यह सामान सेना द्वारा सुरक्षा उपकरणों से मौके से हटाया जाएगा. तब तक प्रशासन की ओर से मकान मालिक को खुदाई बंद करने के आदेश दे दिए गए हैं. इससे पहले भी बॉर्डर के इलाकों में इसी तरीके से खुदाई के दौरान सेना से जुड़े सामान मिलते रहते हैं.

जानकारों का ऐसा मानना है कि 1965 युद्ध के दौरान गोलाबारी में गांव को जला दिया था. कई लोगों को गांव का छोड़कर चौहटन की तरफ आना पड़ा था. इसी दौरान सरकार की ओर से गांव की रखवाली के लिए ग्रामीणों को भी हथियार दिए जाते थे. ऐसे में हो सकता है कि यह वही कारतूस हों.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram