मकर संक्रांति पर बन रहा है ये विशेष योग, दान-पुण्य का मिलेगा कई गुना फल

Makar Sankranti 2020: देश भर में आज मकर संक्रांति का त्योहार मनाजा जा रहा है. मकर संक्रांति पर इस बार शोभन योग में सूर्य का राशि परिवर्तन हुआ है. इससे जप तप और श्राद्ध तर्पण का ये महापर्व काफी खास हो गया है. पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र और शोभन योग में मकर संक्रांति होने से इसका महत्व काफी बढ़ गया है. इसमें किया गया दान पुण्य और अनुष्ठान तत्काल फल देने वाला होता है. माघ कृष्ण पंचमी बुधवार 15 जनवरी को है और इसी तिथि पर विशेष योग बन रहा है.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

मकर संक्राति के दिन गंगा स्नान का महत्व

सनातन धर्म में मकर संक्रांति को मोक्ष की सीढ़ी बताया गया है. इसी तिथि पर भीष्म पितामह को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी. इसके साथ ही सूर्य दक्षिणायण से उत्तरायण हो जाते हैं और खरमास समाप्त हो जाता है. प्रयाग में कल्पवास भी मकर संक्रांति से शुरू होता है. इस दिन को सुख और समृद्धि का दिन माना जाता है. गंगा स्नान को मोक्ष का रास्ता माना जाता है और इसी कारण से लोग इस तिथि पर गंगा स्नान के साथ दान करते हैं.

कैसे करें सूर्य देव को प्रसन्न?

सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए बेला का फूल चढ़ा सकते हैं. कुछ फूल सूर्य देव को बिल्कुल नहीं चढ़ाने चाहिए. ये पुष्प हैं गुंजा, धतूरा, अपराजिता और तगर आदि. सूर्य को प्रसन्न करने का सबसे अच्छा दिन मकर संक्रांति का माना गया है. इस दिन सूर्य उत्तरायण होता है और यह वर्ष का सर्वश्रेष्ठ दिन है. इस दिन किए गए उपाय शीघ्र फलदायी भी होते हैं.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

सक्रांति के दिन क्या करें?

इस दिन प्रातःकाल उबटन आदि लगाकर तीर्थ के जल से मिश्रित जल से स्नान करें. यदि तीर्थ का जल उपलब्ध न हो तो दूध, दही से स्नान करें. तीर्थ स्थान या पवित्र नदियों में स्नान करने का महत्व अधिक है. स्नान के उपरांत नित्य कर्म तथा अपने आराध्य देव की आराधना करें.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram