मीरपुर, भूकंप प्रभावित वो शहर जिसे तिरंगे का इंतजार है…

पाक अधिकृत कश्मीर के सबसे बड़े शहर मीरपुर को न्यू मीरपुर सिटी के नाम से भी जाना जाता है. आधुनिकता की ओर बढ़ रहे इस शहर में ज्यादातर इलाका आज भी कृषि प्रधान है.

  • मीरपुर, भूकंप प्रभावित वो शहर जिसे तिरंगे का इंतजार है...

    भारत का हिस्सा रहे इस शहर को विशाल इमारतों और बड़े-बड़े बंगलों के लिए जाना जाता है. मंगलवार को भूकंप ने इस शहर में काफी तबाही मचाई है. आइए जानें, कैसा ये शहर जिसे तिरंगे का इंतजार है.

    मीरपुर, भूकंप प्रभावित वो शहर जिसे तिरंगे का इंतजार है...

    अगर इस शहर के इतिहास की बात करें तो यहां सिकंदर से लेकर गजनी तक ने राज किया है. प्राचीन काल में ये गंधार राज्य का हिस्सा हुआ करता था. इसके बाद यहां मौर्य, कुषाण और फिर दिल्ली सल्तनत ने राज किया. इसके अलावा मुगलों का भी यहां शासन रहा. वो क्षेत्र जो अब मीरपुर के नाम से जाना जाता है, वो ऐतिहासिक रूप से पोथोहर के साथ जुड़ा हुआ है. बताते हैं कि पंजाब में सिख शक्ति के उदय के साथ महाराजा रणजीत सिंह ने यहां अपना वर्चस्व स्थापित किया और भीमबेर व  खारी खारीयाली के छिब राज्यों पर अपनी निगाहें जमा दीं. यहां साल 1810 में भीमबेर के राजा सुल्तान खान के खिलाफ एक बल भेजा गया था और उग्र प्रतिरोध के साथ मुलाकात की गई थी.

    मीरपुर, भूकंप प्रभावित वो शहर जिसे तिरंगे का इंतजार है...

    मीरपुर कभी ऐतिहासिक रूप से पंजाब क्षेत्र का एक हिस्सा था. बाद में राज्य के शासकों और अंग्रेजों के बीच एक समझौते के तहत जम्मू और कश्मीर रियासत के विभाजन का हिस्सा बन गया. मीरपुर उस बिंदु पर स्थित है जहां से झेलम नदी पीर पंजाल पहाड़ों की भारी जंगलों की तलहटी से निकलकर बड़े पैमाने पर पंजाब के मैदानों में पहुंच जाती है.

    मीरपुर, भूकंप प्रभावित वो शहर जिसे तिरंगे का इंतजार है...

    ये पंजाब की पांच नदियों को सिंधु नदी तक और सिंधु डेल्टा के बंदरगाह पर ले जाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली नौकाओं के निर्माण के लिए एक आदर्श स्थान था. व्यापारी 3000 से अधिक सालों से हिंद महासागर में वहां से काम कर रहे हैं. पंजाब और सिंधु नदी प्रणाली के ऊपर और नीचे व्यापार करने वाली नौकाओं के अधिकांश चालक दल मीरपुर से आए थे, क्योंकि नाव बनाने वाले के लिए प्रशिक्षण एक आवश्यक शर्त थी.

    मीरपुर, भूकंप प्रभावित वो शहर जिसे तिरंगे का इंतजार है...

    ये है यूनिवर्सिटी व अन्य संस्थान

    यहां के शैक्षणिक संस्थानों में अंग्रेजी कॉमन विषय हुआ करता था, यहां पहले यूनिवर्सिटी ऑफ आजाद जम्मू एंड कश्मीर अकेला संस्थान था जहां उच्च शिक्षा मिलती थी. अब यहां द मीरपुर यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, द एक्सॉन कॉलेज ऑफ हेल्थ साइंस जैसे संस्थान भी खुल चुके हैं. इसके अलावा यहां द सिटी स्कूल, कश्मीर मॉडल कॉलेज मीरपुर, द निंबल स्कूल मीरपुर और पंजाब कॉलेज भी हैं.

    आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram