ये होंगे जुलाई 2020 के प्रमुख त्यौहार

वैसे तो देश के कई हिस्सों में कोरोना वाइरस की वजह से अभी लॉकडाउन चल रहा है, और कई जगह अनलॉक 2 भी शुरू हो गया है| लेकिन इन सबके बीच तीज त्योहारों के लिए लोगों के उत्साह में कोई कमी नहीं आई है| बेशक कई जगह अभी धार्मिक स्थल नहीं खुले हैं, लेकिन फिर भी पूजा पाठ के लिए भक्त घर में ही रहकर अपने आराध्य का ध्यान कर रहे हैं| जुलाई 2020 का महीना इस बार कई मायनों में ख़ास होगा, क्योंकि एक तो श्रावण का महीना भी 6 जुलाई से शुरू हो रहा है, इसके साथ ही ये पूरा महीना त्योहारों से भरा हुआ रहेगा| तोजानकारी के अनुसार जुलाई 2020 में आने वाले त्योहारों का विवरण इस इस प्रकार है|

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

01 जुलाई (बुधवार) – देवशयनी एकादशी, अषाढ़ी एकादशी
02 जुलाई (गुरूवार) – प्रदोष व्रत (शुक्ल)
05 जुलाई (रविवार) – गुरु पूर्णिमा, अषाढ़ पूर्णिमा व्रत
06 जुलाई (सोमवार) – श्रावण माह शुरू
08 जुलाई (बुधवार) – संकष्टी चतुर्थी
16 जुलाई (गुरूवार) – कामिका एकादशी, कर्क संक्रांति
18 जुलाई (शनिवार) – मासिक शिवरात्रि, प्रदोष व्रत (कृष्ण)
20 जुलाई (सोमवार) – श्रावण आमवस्या
23 जुलाई (गुरूवार) – हरियाली तीज
25 जुलाई (शनिवार) – नाग पंचमी
30 जुलाई (गुरूवार) – श्रावण पुत्रदा एकादशी

तो ये हैं जुलाई माह के सबसे प्रमुख त्यौहार, और इसके अलावा श्रावण माह में सोमवार का व्रत रखने वालों के लिए 6 जुलाई 2020 को पहला सोमवार व्रत, 13 जुलाई 2020 को दूसरा सोमवार व्रत, 20 जुलाई 2020 को तीसरा सोमवार व्रत और 27 जुलाई 2020 को चौथा सोमवार व्रत होगा|

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

इसके अलावा 30 जुलाई को आने वाली पुत्रदा एकादशी, जो साल में दो बार आती है, जिनमें से एक है, श्रावण एकादशी और दूसरी है पौष एकादशी| श्रावण महीने में आने वाली पुत्रदा एकादशी का व्रत संतान प्राप्ति तथा संतान की समस्याओं के निवारण के लिए किया जाता है| श्रावण की पुत्रदा एकादशी को विशेष फल देने वाला माना जाता है|

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram