योगी सरकार के तीन साल : रायबरेली में विकास को लगे पंख, एम्स की शुरुआत

रायबरेली। गांधी परिवार के गढ़ और सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र के विकास को लेकर हमेशा चर्चा होती रहती है। यहां के विकास को लेकर आरोप प्रत्यारोप चलते रहते हैं।प्रदेश की वर्तमान योगी सरकार पर भी रायबरेली को उपेक्षित करने के आरोप लगते रहते हैं, ऐसे में असली तस्वीर कुछ और ही कहानी बयां करती है।
रायबरेली के लिए सबसे अहम माने जाने वाले एम्स की शुरुआत योगी सरकार के ही कार्यकाल में हुई है। 13 अगस्त 2018 से विधिवत एम्स की ओपीडी शरू की गई। जिसमें जनरल मेडिसिन, नेत्र रोग,ओरल हेल्थ, ईएनटी और आर्थोपेडिक का इलाज किया जा रहा है। इसे और भी विस्तार देने की कवायद भी चल रही है। एम्स रायबरेली का पहला पूर्णकालिक निदेशक भी इसी वर्ष मिला है। अगर एम्स के विकास की बात करें तो केंद की इसे 2020 तक पूर्ण रूप से शुरू किए जाने की योजना है जिस पर योगी सरकार पूरी तरह से सक्रिय है। एम्स के लिए आवश्यक किसानों की करीब 228 किसानों की 49.85 एकड़ जमीन भी पिछले वर्ष हस्तांतरित हो चुकी है। इसमें करीब 42 करोड़ 76 लाख का मुआवजा देना है जिसकी पहली किश्त 10 करोड़ रुपये फरवरी 2019 में ही दिए जा चुके हैं। लंबे समय तक किसानों की यह जमीन एम्स के विकास में बाधक थी जिसे सरकार ने सक्रियता से हल किया। एम्स के शुरू होने से रायबरेली सहित अन्य जनपदों के लोगों को फायदा मिल रहा है। आरोप प्रत्यारोप से परे एम्स की ओपीडी का शुरू होना और इसे जल्दी पूर्ण करने की कवायद योगी सरकार की सक्रियता को प्रदर्शित करता है।
स्वास्थ्य के साथ सड़क और पुलों को भी मिली गति
रायबरेली में योगी सरकार के कार्यकाल में स्वास्थ्य सेवाओं पर खासा काम हुआ। जिला अस्पताल में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस 100 बेड का मैटरनिटी विंग चालू हुआ तो एक 30 बेड का चाइल्ड केयर यूनिट भी आमवन में चल रहा है। जिला अस्पताल में ही डायलसिस सेंटर के साथ-साथ दो सीएचसी और तीन पीएचसी भी मिले हैं। अगर सड़कों की बात करें तो 17 किमी लंबे रायबरेली रिंग रोड के निर्माण को गति मिली है। गंगा पर फतेहपुर और रायबरेली को जोड़ने वाले पुल का भी काम तेजी पर है। करीब 2 किमी लंबे इस पुल पर 87 करोड़ के खर्च होने का अनुमान है।रायबरेली और बुंदेलखंड कारीडोर के लिए बेहद अहम इस पुल का निर्माण तेजी से चल रहा है।
कई सड़कों पर बाईपास सहित ऊँचाहार का ओवर ब्रिज भी जल्द शुरू होने के आसार हैं। जिले के खजूरगांव को जहां ब्लाक का दर्जा मिला वहीं नसीराबाद को नगर पंचायत बनाया गया। प्रदेश की योगी सरकार के तीन साल के कार्यकाल में रायबरेली के कई योजनाओं को गति मिली है वहीं कुछ नए प्रस्तावित भी हैं।
भाजपा जिला अध्यक्ष रामदेवपाल के अनुसार प्रदेश सरकार रायबरेली का विकास बिना किसी भेदभाव के हो रहा है, पहले केवल घोषणा होती थी जबकि अब अमल हो रहा है। वरिष्ठ समाजसेवी रविन्द्र सिंह कहते है कि आशंकाओं के विपरीत योगी सरकार रायबरेली के विकास को गति दे रही है यह काबिलेतारीफ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram