रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर होता भारत, रक्षा निर्यात में लगभग 700 प्रतिशत वृद्धि

रक्षा क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने कि लिये सीडीएस जनरल बिपिन रावत का कहना है कि भारत को अपनी सैन्‍य जरूरतों के लिए अन्‍य देशों पर निर्भरता और ‘प्रतिबंधों की धमकियों’ के डर को खत्‍म करना होगा। गुरुवार को रक्षा क्षेत्र में निर्यातक देश बन कर उभरने पर जोर देते हुये कहा कि भारत अपने पुराने हथियार उन देशों को निर्यात भी कर सकता है जिनके पास खुद की रक्षा के लिए पर्याप्‍त हथियार नहीं है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

सीडीएस जनरल रावत ने साफ किया कि भारत की डिफेंस इंडस्‍ट्री अब कई गुना ग्रोथ को तैयार है। उन्होंने कहा कि भारत 2019 में रक्षा निर्यातकों की सूची में 19वें स्थान पर था और भारत ने रक्षा निर्यात में 700 प्रतिशत की ग्रोथ की है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि भारत ने 2016-17 में 1521 करोड़ रुपये का रक्षा निर्यात किया था। यह 2018-19 में बढ़कर 10,745 करोड़ रुपये हो गया। यानी दो वर्षों में लगभग 700 प्रतिशत वृद्धि देखी है।

झक्कास खबर
झक्कास खबर

क्‍वालिटी कंट्रोल बढ़ाने की जरूरत

जनरल बिपिन रावत भारतीय वाणिज्य और उद्योग महासंघ (फिक्की) में ‘कैटालाइजिंग डिफेंस एक्सपोर्ट’ विषय पर आयोजित एक ई-सिम्पोजियम को वीडियो कॉन्फ्रेंस से संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत के डिफेंस पब्लिक सेक्‍टर यानी पीएसयू और ऑर्डनेंस फैक्ट्रियों में काम का माहौल सुधारने और क्‍वालिटी कंट्रोल बढ़ाने की जरूरत है। जनरल रावत ने कहा कि भारत की सेनाएं स्‍वदेशी हथियारों से युद्ध जीतने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्‍होंने कहा कि हमारे पास पुराने हथियार सिस्‍टम अच्छे तो हैं लेकिन अब बदलती तकनीक के जमाने में उनकी जगह अत्याधुनिक हथियारों की जरूरत है। भारत अपने इन पुराने हथियार उन देशों को निर्यात भी कर सकता है जिनके पास खुद की रक्षा के लिए पर्याप्‍त हथियार नहीं है।

प्रतिबंध के डर से बाहर निकलना होगा

सीडीएस ने इस बात पर भी जोर दिया कि भारत को दूसरे देशों से हथियार खरीदने की निर्भरता से बाहर आना होगा। जैसे अमेरिकी प्रतिबंधों के डर के बावजूद भारत ने अक्‍टूबर 2018 में रूस से एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्‍टम का सौदा किया। इसलिए अब भारत को इस तरह के प्रतिबंधों की चिंता छोड़कर आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत की अधिकतर डिफेंस पीएसयू ‘नवरत्‍न’ या मिनी रत्‍न की श्रेणी में है क्‍योंकि उनका प्रदर्शन शानदार रहा है। इसलिए उन्‍होंने डिफेंस पीएसयू का कॉर्पोरेटाइजेशन करने का सुझाव दिया। जनरल रावत ने कहा कि हम न केवल संख्या के आधार पर, बल्कि सघन युद्ध अनुभव, पेशेवर रवैये और गैर-राजनीतिक प्रकृति के कारण दुनिया के अग्रणी सशस्त्र बलों में से एक हैं। पिछले कुछ साल में भारत के रक्षा क्षेत्र में ऊर्जा भरने के लिए कई कदम उठाए गए हैं और कुछ योजनाएं शुरू की गई हैं। हम अपने स्वदेशीकरण के मूल्यों के प्रति गहराई से प्रतिबद्ध हैं।

 

झक्कास खबर
झक्कास खबर

रक्षा निर्यात में दो वर्षों में लगभग 700 प्रतिशत वृद्धि

सैन्य बलों के प्रमुख (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत ने कहा कि भारत 2019 में रक्षा निर्यातकों की सूची में 19वें स्थान पर था और भारत ने रक्षा निर्यात में 700 प्रतिशत की ग्रोथ की है। उन्होंने बताया कि भारत ने 2016-17 में 1521 करोड़ रुपये का रक्षा निर्यात किया था। यह 2018-19 में बढ़कर 10,745 करोड़ रुपये हो गया। यानी दो वर्षों में लगभग 700 प्रतिशत वृद्धि देखी है। उन्होंने कहा कि हम सिर्फ अपने सुरक्षाबलों की जरूरतों को पूरा करने के लिए हथियारों और रक्षा उपकरणों का उत्पादन नहीं कर रहे, बल्कि धीरे-धीरे एक रक्षा निर्यात उद्योग बन रहे हैं। हमने 2016-17 में 1521 करोड़ रुपये का रक्षा निर्यात किया था जो 2018 में यह रक्षा निर्यात बढ़कर 10,745 करोड़ रुपये हो गया।

 

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram