लद्दाख की ऊंची चोटियों पर भारतीय सेना ने खोजा आधा दर्जन पहाड़ों पर भूजल

पूर्वी लद्दाख की सीमा पर मई से जारी तनाव जल्द खत्म होता नहीं दिख रहा है। ऐसे में देश के जवान न सिर्फ देश की सीमा पर सुरक्षा के लिये खड़े हैं, बल्कि ऊंची पहाड़ियों के बीच पानी की स्थायी व्यवस्था कर रहे हैं। ताकि लंबी तैनाती के दौरान पेयजल संकट का सामना न करना पड़े। इसी तहत अब तक गलवान घाटी के अलावा पैंगोंग त्सो, लुकुंग, थाकुंग, चुशुल, रेजांग ला और तांग्से में ड्रिलिंग करके पानी की तलाश पूरी की जा चुकी है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

इस समय 17 हजार फीट की ऊंचाई पर दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) और डेप्सांग इलाके में पानी की खोज के लिए ड्रिलिंग की जा रही है। वहीं चीन के साथ जारी तनाव की वजह से सीमा पर हजारों की संख्या में सैनिक तैनात हैं और पूरी सर्दी उनकी तैनाती रह सकती है। इसीलिए भारतीय सेना इस पहाड़ी रेगिस्तान में पानी की स्थायी व्यवस्था कर रही है।

झक्कास खबर
झक्कास खबर

जवान ने कई भूजल स्त्रोत की खोज की

सेना का यह चुनौती भरा मिशन हजारों फीट ऊंचे गलवान घाटी के अलावा पैंगोंग त्सो, लुकुंग, थाकुंग, चुशुल, रेजांग ला और तांग्से में पूरा हो चुका है। यह पूरा इलाका रणनीतिक ऊंचाइयों वाली चोटियों के बीच फैला है। इन ठंडी पहाड़ियों के बीच पानी की तलाश पूरी होने के बाद अब दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) और इससे सटे डेप्सांग मैदान इलाके में भूजल का स्त्रोत खंगाला जा रहा है।डीबीओ को चीन सीमा पर भारत की अंतिम चौकी माना जाता है। इस मिशन में लगी सेना की टीम ने हाल ही में दौलत बेग ओल्डी और लेह का दौरा किया है। सेना की टीम के साथ भू-वैज्ञानिक डॉ रितेश आर्या पानी की खोज में लगे हैं। उन्हें गहरी ड्रिलिंग के बाद डीबीओ में भी भूजल की तलाश पूरी होने की उम्मीद है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

झक्कास खबर
झक्कास खबर

जवानों को पहुंचाया जा रहा जरूरी सामान

लद्दाख की सीमा पर चीन के साथ तनाव की वजह से हजारों सैनिकों की तैनाती की गई है। चीनी सेना से लंबी लड़ाई के लिए भारतीय सेनाओं की तैयारियां इन दिनों जोरों पर हैं। हाल ही में लोकसभा में बोलते हुये रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी कहा कि जवानों की जरूरत की सभी सामान मुहैया कराई जा रही है। वायुसेना के परिवहन विमानों से सैनिकों की जरूरत का सामान लेह-लद्दाख पहुंचाया जा रहा है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

आने वाली सर्दियों को देखते हुए जरूरी हथियार, राशन और साजो-सामान को अग्रिम चौकियों तक पहुंचाने के लिए चिनूक हेलीकॉप्टर को लगाया गया है। इसीलिए भारतीय सेना इन इलाकों में पेयजल की भी स्थायी व्यवस्था करने में जुटी है। हजारों फीट ऊंचे पहाड़ों के बीच पानी की तलाश आसान नहीं है लेकिन हर मुश्किल काम के लिए आसान राह बनाने की पहचान रखने वाली भारतीय सेना ने इन पहाड़ी रेगिस्तानों में भी पानी की खोज कर डाली है।

झक्कास खबर
झक्कास खबर

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

पानी की स्थाई व्यवस्था करने के साथ ही सीमा पर तैनात जवानों को लगातार राशन भेजा जा रहा है। इसके अलावा सर्दियों के लिए कपड़े, सर्दियों के लिए टेंट, खाना, सूखा राशन, हथियार और अन्य जरूरी सामान की खेप पहुंचना शुरू हो गई है। इस मिशन में वायुसेना का सी-17 ग्लोबमास्टर सेना की मदद कर रहा है ताकि सर्दियों से पहले सभी आपूर्ति को पूरा किया जा सका। अगले महीने से इस इलाके में बर्फबारी शुरू हो सकती है, ऐसे में यातायात को लेकर काफी दिक्कतें आती हैं। इसी वजह से सभी आपूर्ति को इससे पहले पूरा किया जा रहा है।

 

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram