सीक्रेट वीडियो आया बाहर, चीन में आंखों पर पट्टी बांध मुस्लिमों के साथ जुल्म?

आंखों पर पट्टी और हथकड़ी में जकड़े लोग. चारों तरफ भारी संख्या में सुरक्षाबल के जवान. कथित रूप से चीन के इस वीडियो के बारे में दावा किया जा रहा है कि ये चीन के वीगर मुस्लिमों की हकीकत बयां कर रहा है. Sky News की रिपोर्ट के मुताबिक, यूरोपियन सिक्योरिटी फोर्स के सूत्रों ने कहा है कि ये वीडियो सही मालूम पड़ता है. हालांकि, स्वतंत्र रूप से इस वीडियो की पुष्टि नहीं की गई है.

 सीक्रेट वीडियो आया बाहर, चीन में आंखों पर पट्टी बांध मुस्लिमों के साथ जुल्म?

ऑनलाइन सामने आए वीडियो में सैकड़ों लोगों को देखा जा सकता है जिनकी आंखें बंधी हुई हैं. बता दें कि इससे पहले ऐसी रिपोर्ट आ चुकी है कि चीन ने वीगर मुस्लिमों को कैद करके रखा है. उनके सुधार के नाम पर उन्हें जेल में रखा गया है.

सीक्रेट वीडियो आया बाहर, चीन में आंखों पर पट्टी बांध मुस्लिमों के साथ जुल्म?

मानवाधिकार संगठन आरोप लगाते रहे हैं कि चीन ने करीब 10 लाख लोगों को (जिनमें ज्यादार वीगर हैं) झिनजियांग के डिटेंशन कैंप में कैद करके रखा है. हालांकि, चीन की सरकार ऐसे आरोप से इनकार करती रही है.

सीक्रेट वीडियो आया बाहर, चीन में आंखों पर पट्टी बांध मुस्लिमों के साथ जुल्म?

वहीं, नए फुटेज को अज्ञात व्यक्ति के अकाउंट से ट्विटर और यूट्यूब पर पोस्ट किया गया था. वीडियो में दिखाई देता है कि लोगों के सिर मुड़े हैं और उनके हाथों को बांध दिया गया है. वे लाइन बनाकर जमीन पर बैठे हुए हैं या आगे बढ़ रहे हैं.

सीक्रेट वीडियो आया बाहर, चीन में आंखों पर पट्टी बांध मुस्लिमों के साथ जुल्म?

स्काई न्यूज के मुताबिक, यूरोपियन सिक्टोरिटी फोर्स के सूत्र ने कहा कि वीडियो में करीब 600 कैदी दिख रहे हैं. चीन ऐसे कैदियों को इसी तरह एक जगह से दूसरी जगह ले जाता रहा है. ऐसा लगता है कि ये वीडियो इसी साल का है.

सीक्रेट वीडियो आया बाहर, चीन में आंखों पर पट्टी बांध मुस्लिमों के साथ जुल्म?

ब्रिटिश मीडिया इस वीडियो को लेकर लंदन स्थित चीनी एम्बेसी से संपर्क कर चुकी है. लेकिन खबर लिखे जाने तक उनकी ओर से कोई जवाब नहीं आया है.(सभी फोटो- Youtube Video से)

  • सीक्रेट वीडियो आया बाहर, चीन में आंखों पर पट्टी बांध मुस्लिमों के साथ जुल्म?

    यूनाइटेड नेशन्स के जानकार भी कहते हैं कि चीन के 10 लाख वीगर को पकड़कर रखने के ‘विश्वसनीय सबूत’ हैं. लेकिन चीन की सरकार ने कुछ वक्त पहले इन डिटेंशन कैंप को वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर बताया था. (यह खबर आजतक.इन से ली गई है।)

    आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram