(हमीरपुर बुलेटिन) अवैध वसूली के मामले में महिला अस्पताल की आशा बहु समेत तमाम कर्मियों पर मुकदमा दर्ज, पढ़े दिनभर की खबर

1- अवैध वसूली के मामले में महिला अस्पताल की आशा बहु समेत तमाम कर्मियों पर
मुकदमा दर्ज
-अस्पताल के अधीक्षक ने कोतवाली में भ्रष्टाचार अधिनियम में दर्ज कराई रिपोर्ट
-महिला अस्पताल में मरीजों से अवैध वसूली के मामले में मंत्री ने लगाई थी फटकार

हमीरपुर ब्यूरो। हमीरपुर जिला अस्पताल में मरीजों से अवैध वसूली के मामले
में प्रदेश सरकार के स्टांप व न्यायालय शुल्क पंजीयन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रवीन्द्र जायसवाल के निर्देश के बाद मंगलवार को सदर कोतवाली मेें महिला अस्पताल की एक आशा बहु व अस्पताल के अन्य कर्मियों के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया है। इस कार्रवाई से अस्पताल के चिकित्सकों में हड़कंप मच गया है। यहां के महिला अस्पताल के
अधीक्षक की तहरीर पर ये कार्रवाई की गयी है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

उल्लेखनीय है कि पड़ोसी जनपद कानपुर के धरछुआ गांव से राजेन्द्री नाम की महिला तीन दिन पूर्व यहां अस्पताल आयी थी। उससे इलाज के लिये अस्पताल में अवैध रुपये मांगे गये थे। उसी दिन हमीरपुर भ्रमण कार्यक्रम में आये प्रदेश सरकार के स्टांप एवं न्यायालय शुल्क पंजीयन राज्यमंत्री तथा प्रभारी मंत्री रवीन्द्र जायसवाल के सामने यह मामला भाजपा के कार्यकर्ताओं ने रखा था। महिला अस्पताल में अवैध वसूली किये जाने की शिकायत को सुनकर मंत्री गुस्से से भड़क गये और रात में जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी, पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार तथा सीएमओ डा.आरके सचान को लेकर सीधे अस्पताल मंत्री पहुंच गये। वहां फर्श पर बैठे कई मरीजों ने
मंत्री के सामने इलाज के नाम पर पैसे मांगने के आरोप लगाये। मंत्री ने जिलाधिकारी और सीएमओ को इस मामले में अवैध वसूली करने वाले कर्मियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जेल भेजने के निर्देश दिये थे। मंत्री के जाने के बाद जिलाधिकारी ने इस मामले की जांच के आदेश दिये। एसडीएम सदर ने अस्पताल पहुंचकर मामले की जांच की। मंगलवार को महिला अस्पताल के सीएमएस (अधीक्षक) डा.पीके सिंह ने आशा बहु सुनीता साहू तथा अस्पताल के अन्य अज्ञात
कर्मियों के खिलाफ सदर कोतवाली में तहरीर दी।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

कोतवाल ने इस तहरीर के आधार पर भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। सदर कोतवाली श्याम पटेल ने मंगलवार को शाम बताया कि मुकदमा दर्ज हो गया है। पूरे मामले की विवेचना सीओ सदर अनुराग सिंह को दी गयी है।

2- बाजार में दबंग आढ़तियों ने दूसरे आढ़ती की जमकर पीटा, मचा हंगामा
– एक पक्ष ने कोतवाली में दी तहरीर

हमीरपुर ब्यूरो। मंगलवार को सुभाष बाजार में सामान रखने को लेकर कुछ दबंग
आढ़तियों ने एक दुकानदार आढती की जमकर पिटाई कर दी। विवाद को देखते हुए
बाजार में अफरा तफरी मच गई। और हंगामा मच गया। विवाद को बढ़ने पर दोनों
पक्ष गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ
कोतवाली में तहरीर दी है।

मुख्यालय के सुभाष बाजार मोहल्ला निवासी असलम ने कोतवाली में तहरीर देकर
बताया कि मंगलवार व शनिवार को सब्जी मंडी में बड़ी बाजार लगती है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

कहा कि मंगलवार को सुबह वह सब्जी लेकर आढ़ती कर रहा था। कहा कि दुकान में सब्जी
रखकर तीन साल से काम कर रहा है। वहीं पास में दुकान रखे मो.उमर भी सब्जी बेचता है। कहा कि दुकान में सामान रखने को लेकर मो.उमर व उसके पुत्र इरशाद, यूनुस और शमसाद आकर उसको पीटने लगे। विवाद को लेकर बाजार में हडकंप मच गया। मारपीट में दोनों पक्ष गंभीर रूप से घायल हो गए। पास में दुकान रखे लोगों ने घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया। उपचार के असलम ने दूसरे पक्ष के खिलाफ  कोतवाली में तहरीर दी है। कोतवाल श्याम पटेल ने बताया कि तहरीर के आधार पर इरशाद व यूनुस के खिलाफ मारपीट का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

3- हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग
– शराब पिलाकर यमुना नदी में डुबाकर मारने का लगाया आरोप

हमीरपुर ब्यूरो। ललपुरा थानाक्षेत्र के भटपुरा कुम्हऊपुर के ग्रामीणों ने एसपी को दिए ज्ञापन में बताया कि दबंगों ने उसके पुत्र को शराब पिलाकर यमुना नदी में डुबाकर मार डाला। और उसके शव को नदी किनारे फेंक गए। कहा कि थाना में पुलिस रिपार्ट दर्ज नहीं कर रही है। पीड़ित ने हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

भटपुरा कुम्हऊपुर गांव निवासी ग्रामीणों ने बताया कि उसका लड़का सुभाष 17 दिसंबर को अपनी बहन सुधा को लेकर उसकी ससुलाल नहरामऊ थाना बकेबर जिला फतेहपुर गया था। कहा कि 18 दिसंबर को कपरिया ऊसर निवासी पप्पू व उसका बहनोई रामस्वरूप निवासी भगलापुर थाना चांदपुर उसके पुत्र को कहीं ले गए। आरोप लगाया कि उक्त लोग उसके पुत्र को छोटा कछार ले जाकर शराब पिलाई और यमुना नदी में डुबाकर मार कर शव को नदी किनारे फेंक दिया। कहा कि पप्पू का भाई अकबर की ससुराल उसके गांव निवासी रंजीत के यहां है। कहा कि 20
दिसंबर को सुमेरपुर पुलिस ने उसके पुत्र का पोस्टमार्टम कराया।

पीड़ित ने कहा कि कई बार शिकायत करने के बाद भी रिपोर्ट नहीं दर्ज की गई है। पीड़ित
ने उक्त दोनों के खिलाफ हत्या की रिपार्ट दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है। इस मौके पर दयानंद कुलदीप सिंह, मुन्ना, अर्जुन, ब्रजेश कुमार, पप्पू, रघुनाथ, महाराज सिंह, घासीराम, इंद्रपाल, मूर्ति, रानी, रामकली, रामदुलारी, संगीता, रामकली, सुशीला, रचना, सुमन, गीता, सोमवती आदि मौजूद
रहे।

4- हमीरपुर में फिर ठंड से तीन लोगों की मौत

सुमेरपुर हमीरपुर। मंगलवार को ठंड से फिर तीन लोगों की मौत हो गयी। वहीं
एक व्यक्ति ठंड के कारण आईसीयू में भर्ती कराया गया है। ठंड के सीजन में
अभी तक चालीस से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। एक गांव में ही आठ लोगों
की ठंड से मौत होने पर ग्रामीण सकते में है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।
सुमेरपुर कस्बे के इमिलिया थोक निवासी जागेश्वर प्रजापति (78) ठंड की
चपेट में आ गया जिसे इलाज के लिये नजदीक के सरकारी अस्पताल में भर्ती
कराया गया जहां उसकी मौत हो गयी। मृतक के पुत्र संतोष प्रजापति ने बताया
कि पिता की मौत ठंड से हुयी है। इसी तरह सुमेरपुर क्षेत्र के इंगोहटा
गांव निवासी रामचरन साहू (60) एवं किशोरी लाल धुरिया (62) की भी ठंड लगने
से मौत हो गयी। परिजनों ने बताया कि ठंड के कारण मौत हुयी है। ठंड के
सीजन में सुमेरपुर क्षेत्र में ही डेढ़ दर्जन लोगों की मौत हो चुकी है
वहीं इंगोहटा गांव में एक सप्ताह के अंदर आठ लोगों की ठंड से मौत हुयी
है। जिले में अभी तक 40 से अधिक लोगों की ठंड के सीजन में जान जा चुकी
है। मंगलवार को आसमान साफ रहा लेकिन शाम होते ही ठंड ने फिर से जोर पकड़
लिया है।

5- सातवीं आर्थिक गणना का आगाज, 339 ग्राम पंचायतों व निकायों में होगी गणना

हमीरपुर ब्यूरो। हमीरपुर में मंगलवार को सीडीओ आरके सिंह ने सातवीं
आर्थिक गणना का आगाज मोबाइल एप का बटन दबाकर किया। उन्होंने आर्थिक गणना
करने वाले सीएससी (कामन सर्विस सेंटर) के प्रगणकों को हरी झंडी दिखाकर
रवाना भी किया।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।
सीडीओ आरके सिंह ने बताया कि आर्थिक गणना न केवल आंकड़ों को एकत्रित करने
के लिये नहीं बल्कि देश और प्रदेश को भी आर्थिक महाशक्ति के रूप में
अग्रसर करने के लिये एक बहुत बड़े स्तंभ के रूप में कार्य करेगी। उन्होंने
बताया कि आर्थिक जनगणना कामन सर्विस सेंटर के माध्यम से की जायेगी। घर-घर
गणना के लिये प्रत्येक गांव में एक सुपरवाइजर रहेगा। जिसके सहयोग में
प्रगणक रहेंगे। इस बार की आर्थिक जनगणना मोबाइल एप पर जीपीएस लोकेशन के
साथ होगी। सीडीओ ने बताया कि आर्थिक जनगणना पूरी तरह पेपर लेस होगी।
परिवार के मुखिया के साथ उस परिवार के अन्य सदस्यों को आर्थिक गतिविधियों
का भी ब्यौरा लिया जायेगा। जिसमें महिलायें भी शामिल रहेगी। जिससे सभी की
आर्थिक स्थिति का सही पता लग सके। जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी वृंदावन
अहिरवार ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले माह आर्थिक
जनगणना की प्रदेश स्तर पर शुरुआत की थी। यहां मंगलवार को इसका शुभारंभ
किया गया है जिसमें जिले की सभी 339 ग्राम पंचायतों व नगर पालिकाओं तथा
नगर पंचायतों के क्षेत्र में आर्थिक जनगणना होगी।

6- जिला स्तरीय संपूर्ण समाधान दिवसः30 शिकायतों का निस्तारण

हमीरपुर ब्यूरो। जनपद स्तरीय संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन जिलाधिकारी डॉ
ज्ञानेश्वर त्रिपाठी की अध्यक्षता में तहसील सरीला हमीरपुर में संपन्न
हुआ। इस अवसर पर कुल 100 शिकायतें प्राप्त हुई जिसमें से 30 शिकायतों का
मौके पर गुणवत्तापूर्ण ढंग से निस्तारण किया गया। संपूर्ण समाधान दिवस के
अवसर पर  तहसील प्रांगण सरीला में एन०आर०एल०एम० ,एस०आर०एल०एम० के
स्टॉलों, कृषि रक्षा इकाई,बाल विकास एवं पुष्टाहार, पोषण मिशन, पशुपालन
विभाग, बेसिक शिक्षा, वन विभाग,उद्यान विभाग, कृषि विभाग,समाज कल्याण
विभाग,मिड डे मील, नगर विकास विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सहित
अन्य विभिन्न विभागों द्वारा लगाए गए प्रदर्शनी/ स्टॉलों का  जिलाधिकारी
, मुख्य विकास अधिकारी व अपर पुलिस अधीक्षक ने अवलोकन किया तथा आवश्यक
दिशा निर्देश दिए।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।
जिला स्तरीय संपूर्ण समाधान दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी डॉ ज्ञानेश्वर
त्रिपाठी ने जनसमस्याओं को सुनने के पश्चात उनके निस्तारण हेतु संबंधित
अधिकारियों को निर्देशित किया तथा कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस
,आईजीआरएस पोर्टल,  मुख्यमंत्री संदर्भ, 1076 के संदर्भ तथा
जनप्रतिनिधियों से प्राप्त  शिकायतों का समयबद्ध ढंग से गुणवत्तापूर्ण
निस्तारण किया जाए। उन्होंने कहा कि विभिन्न माध्यमों से  प्राप्त
शिकायतों  का ससमय व गुणवत्तापूर्ण निस्तारण शासन की सर्वाेच्च
प्राथमिकता है  अतः सभी अधिकारियों द्वारा शासन की मंशानुरूप कार्य किया
जाए। शिकायतों के निस्तारण में गुणवत्ता का विशेष ध्यान दिया जाए ताकि
शिकायतकर्ता को बार-बार परेशान ना होना पड़े । उन्होंने कहा कि जिस स्तर
की शिकायत है उसका उसी स्तर पर निस्तारण अनिवार्य रूप से सुनिश्चित किया
जाए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक प्राप्त होने वाली शिकायत पर सभी संबंधित
अधिकारियों द्वारा शिकायत की प्रकृति को देखते हुए टिप्पणी व अपना अभिमत
अंकित करते हुए शिकायतकर्ता को निस्तारण की समय अवधि सहित अन्य जरूरी
बातों के बारे में बताया जाए ताकि शिकायतकर्ता को तत्काल शिकायत के
निस्तारण में लगने वाले समय व उसकी समस्या के समाधान संबंधी आवश्यक
जानकारी तत्काल मिल सके ।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

यदि शिकायत आवास इत्यादि की मांग से संबंधित है तो उसके मिलने अथवा न मिलने के कारण व मिलने में लगने वाले समय सहित टिप्पणी अंकित की जाए। जिलाधिकारी ने सभी जिलास्तरीय अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि  आई०जी०आर०एस० सहित विभिन्न माध्यमों से प्राप्त
होने वाली शिकायतों का सभी अधिकारियों द्वारा निष्पक्षता से समयबद्ध ढंग
से गुणवत्तापूर्ण निस्तारण सुनिश्चित किया जाय। कोई भी शिकायत डिफाल्टर
श्रेणी में ना आने पाए, डिफाल्टर श्रेणी में शिकायत पाए जाने पर संबंधित
अधिकारी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सम्पूर्ण समाधान दिवस में आने
वाले फरियादियों से  विभिन्न लाभार्थीपरक योजनाओं ,आवास ,शौचालय, पेंशन,
राशन कार्ड , आयुष्मान भारत योजना,एन०आर०एल०एम०,शादी अनुदान, मुख्यमंत्री
सामुहिक विवाह योजना आदि के आवेदन लेने हेतु कैम्प/स्टॉल भी तहसील परिसर
सरीला में लगाये गए। इस दौरान अपर पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी
आर०के०सिंह, सी०एम०ओ० ए०के० वल्लभ,  उपजिलाधिकारी सरीला जुबेर बेग ,पीडी
डीआरडीए चित्रसेन सिंह, जिला विकास अधिकारी विकास  तथा अन्य संबंधित
विभागों के जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे ।

7- गांव पहुंचकर डीएम ने विकास कार्यों की जांच, शिकायत पर अफसरों को लताड़ा

सरीला हमीरपुर। जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने मंगलवार को शाम एक
गांव में चौपाल लगाकर विकास कार्यों की जांच की। 15 सालों से गांव में
लम्बित चल रही चकबंदी प्रक्रिया को लेकर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को कड़ी
फटकार लगाई है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

सरीला ब्लाक के भेड़ी डांडा गांव में पूर्व माध्यमिक स्कूल में जिलाधिकारी
ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने आवास, विकलांग, विधवा व वृद्धा पेशन के अलावा
गांव में कराये गये विकास कार्यों का सत्यापन कर जांच की। ग्रामीणों ने
जिलाधिकारी के सामने शिकायत कर बताया कि वर्ष 2004 से इस गांव में चकबंदी
नहीं करायी जा रही है। इसके लिये कई बार शिकायतें की जा चुकी है लेकिन
कोई भी लम्बित चकबंदी प्रक्रिया को लेकर कार्यवाही नहीं कर रहा है।
जिलाधिकारी ने इस मामले में अधिकारियों को जमकर फटकारा और कार्यवाही के
निर्देश दिये। गांव के संतोष सिंह, देव सिंह, बहादुर अनुरागी ने बताया कि
90 फीसद लोगों को एक साल से पीने का पानी पानी की टंकी से नहीं मिल रहा
है। विभागीय अधिकारी भी शिकायत के बाद कुछ नही कर रहे है। जिलाधिकारी ने
जलनिगम के अधिशाषी अभियंता को ग्रामीणों के सामने ही जमकर लताड़ा और
चेतावनी देते कहा कि यदि गांव में पेयजल की समस्या का निस्तारण समय रहते
नहीं किया गया तो सख्त कार्यवाही की जायेगी। ग्रामीणों ने गांव में तीन
किमी सड़क को बनवाये जाने की मांग की। इस मौके पर पुलिस अधीक्षक श्लोक
कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह, सीडीओ आरके सिंह सहित अन्य
अधिकारी मौजूद रहे।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।
गौवंशों के चारे भूसे के लिये 45 लाख की धनराशि अवमुक्त
मौदहा (हमीरपुर) तहसील क्षेत्र में अन्ना आश्रय केन्द्रों में दस हजार से
अधिक गौ वंशों के लिए जिले से भेजे गये सन्तावन लाख रूपयों में पैंतालिस
लाख रूपये गौ आश्रय केन्द्रों के गांव पंचायतों को गांयों की संख्या के
हिसाब से भेजे गये हैं। इस धनराशि से तीस लाख रूपया मौदहा विकास खण्ड के
इकसठ गौ आश्रय केन्द्रों में भेज दिये गये व पन्द्रह लाख रूपये मुस्करा
विकास खण्ड को दिये गये हैं।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

मौदहा विकास खण्ड में इकसठ ग्राम पंचायतों में गौ आश्रय केन्द्रों की
स्थापना है इनमें पहले भी तीस लाख रूपया दिया जा चुका है अब तीन माह बाद
पुनः दी गयी तीस लाख की धनराशि में सबसे अधिक अरतरा एक लाख अस्सी हजार
रूपया, सिसोलर एक लाख पैंतालिस हजार, रीवन एक लाख पच्चीस हजार, छिरका एक
लाख पच्चीस हजार, कम्हरिया चौरानवे हजार, सिलौली सत्तर हजार, परछछ साठ
हजार, मकरांव अटठावन हजार, उपरी अस्सी हजार, सायर तिरेसठ हजार, करहिया
नब्बे हजार, खण्डेह एक लाख, कपसा एक लाख नौ हजार, टिकरी तिहत्तर हजार,
पाटनपुर सरसठ हजार, रतौली पच्चीस हजार, लरौंद इकतीस हजार, खैर उनचास
हजार, कुनेहटा सत्तासी हजार, मदारपुर पचास हजार, छिमौली बांसठ हजार रूपये
गांव पंचायत के खातों में भेज दिये गये हैं। वहीं अन्य गांव में भी वहां
की संख्या के हिसाब से यह धनराशि भेजी गयी है।

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram