(हमीरपुर बुलेटिन) कन्नौज बस दुघर्टनाः हमीरपुर के एआरटीओ समेत पांच एआरटीओ निलम्बित, पढ़े दिनभर की खबर

1- हमीरपुर- कन्नौज बस दुघर्टनाः हमीरपुर के एआरटीओ समेत पांच एआरटीओ निलम्बित
-कन्नौज में तैनाती के दौैरान स्लीपर बस को फिटनेस देने में बरती थी लापरवाही
प्रदेश के कन्नौज में स्लीपर बस में आग लगने की घटना को लेकर शुक्रवार को प्रमुख सचिव परिवहन ने कार्रवाई करते हुये हमीरपुर और कन्नौज समेत पांच ए.आर.टी.ओ. को निलम्बित कर दिया है। इस कार्रवाई से यहां ए.आर.टी.ओ.विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। यहां के ए.आर.टी.ओ. ने स्लीपर बस को फिटनेस देने में लापरवाही बरतने के आरोप लगाये गये है।

बता दे कि 10 जनवरी की रात कन्नौज के छिबरामऊ के जीटी रोड पर ट्रक की टक्कर से स्लीपर बस में आग लग गयी थी जिसमें एक दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गयी थी। 25 से अधिक यात्री गंभीर रूप से घायल हुये थे। करीब दस यात्रियों ने किसी तरह से निकलकर जान बचायी थी। इस मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिये गये थे। जांच के बाद परिवहन निगम उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव राजेश सिंह ने बड़ी कार्रवाई करते हुये कन्नौज के ए.आर.टी.ओ.संजय झा को लापरवाही बरतने, प्रवर्तन कार्य न करने और फाइल गायब करने के मामले में निलम्बित कर दिया है। हमीरपुर में तैनात ए.आर.टी.ओ.मो.हसीब को भी निलम्बित किया गया है। कन्नौज में तैनाती के समय इन्होंने स्लीपर बस को फिटनेस देने में लापरवाही और गड़बड़ी की थी। इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने का फैसला किया गया है। इसके अलावा अमेठी के एआरटीओ पुष्पांजलि गौतम को प्रवर्तन काम में लापरवाही बरतने, कैश बुक में वित्तीय अनियमिततायें करने के आरोप में निलम्बित किया गया है। जबकि फर्रुखाबाद के एआरटीओ शांति भूषण पाण्डेय को भी वित्तीय अनियमिततायें और प्रवर्तन काम में इसके अलावा एआरटीओ संजय तिवारी को रायबरेली में तैनाती के दौरान गबन करने के आरोप में निलम्बित किया गया है। लापरवाही बरतने पर निलम्बित किया गया है। हमीरपुर के ए.आर.टीओ मो.हसीब ने बताया कि उन्हें बेवजह निलम्बित किया गया है। जबकि कन्नौज में पीड्ब्ल्यूडी ने उस क्षेत्र में यातायात के चिन्ह और संकेतक बोर्ड नहीं लगवाये है। उन्होंने कार्रवाई की पुष्टि करते हुये कहा कि अभी उन्हें निलम्बन आदेश नहीं मिला है लेकिन शासन ने कार्रवाई उनके खिलाफ भी की है।
2- हमीरपुर जेल मेें बंदियों को अब मिलेगा व्यवसायिक प्रशिक्षण

-औचक निरीक्षण में जिलाधिकारी ने प्रस्ताव तैयार करने के दिये निर्देश 
हमीरपुर जिला जेल में शुक्रवार को जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने औचक निरीक्षण कर बैरकें खंगाली। लेकिन कोई भी आपत्तिजनक वस्तुयें नहीं मिली। जिलाधिकारी ने जेल के अंदर बाउन्ड्रीवाल (सुरक्षा दीवाल) में जगह-जगह छेद देख इसे तत्काल मरम्मत कराने के निर्देश दिये। सुरक्षा दीवाल भी क्षतिग्रस्त बतायी जा रही है। बंदियों को प्रशिक्षण दिये जाने के लिये प्रस्ताव तैयार करने के भी निर्देश दिये गये है।
जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी, पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार व अपर जिलाधिकारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव अचानक जिला कारागार पहुंचे तो वहां जेल प्रशासन सकते में आ गया। दोनों अधिकारियों ने बंदियों के बैरकों की सघन तलाशी ली साथ ही भोजनालय, बंदियों के अस्पताल का निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने बंदियों से भी भोजन और अन्य सुविधाओं के बारे में जानकारी की। निरीक्षण के दौरान जेल के अंदर बाउन्ड्रीवाल का जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने जायजा लिया। बाउन्ड्रीवाल में कई जगह छोटे-छोटे छेद देख उन्होंने जेलर पीके त्रिपाठी ने बाउन्ड्रीवाल की मरम्मत तत्काल कराने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि सुरक्षा के लिहाज से बाउन्ड्रीवाल की मरम्मत करायी जाये। इसमें कोई भी उदासीनता नहीं होनी चाहिये। जिलाधिकारी ने जेलर को निर्देश देते हुये कहा कि जेल में बंदियों को ड्ढड्ढव्यवसायिक प्रशिक्षण दिये जाने के लिये एक प्रस्ताव तैयार कराये ताकि यहां जेल में ही इच्छुक बंदी भी प्रशिक्षण ले सके।
जेलर ने बताया कि जिलाधिकारी के निर्देश पर पहली बार बंदियों को जेल में व्यवसायिक प्रशिक्षण दिया जायेगा इसके लिये जल्द ही प्रस्ताव तैयार कराये जायेंगे। उन्होंने बताया कि जेल में काफी समय से स्टाफ की कमी है। इसके बाद भी कामकाज सही ढंग से चल रहा है। यहां के अपर जिलाधिकारी एवं प्रभारी जेल अधीक्षक विनय प्रकाश श्रीवास्तव ने बताया कि औचक निरीक्षण में जेल में सब कुछ ठीक पाया गया है। कोई भी आपत्तिजनक वस्तु नहीं मिली है। जिलाधिकारी ने बाउन्ड्रीवाल की मरम्मत व अन्य कार्य के लिये निर्देश दिये है।
3- हमीरपुर : बैंकों में लटका ताला, 40 करोड़ का लेनदेन प्रभावित

यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियंस के  आवाहन पर शुक्रवार से दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल से बैंकों में 40 करोड़ का लेनदेन प्रभावित हुआ। बैंक के अधिकारी और कर्मचारी इलाहाबाद बैंक के मण्डलीय कार्यालय के गेट पर एकजुट हुए और भारतीय बैंक संघ, केन्द्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर जमकर नारेबाजी की। समूचे क्षेत्र में बैंकों में दिन भर सन्नाटा पसरा रहा। बैंकों में तालाबंदी के कारण ग्राहक भी परेशान रहे।
इलाहाबाद बैंक आफिसर्स एसोसिएशन के राज्य उपाध्यक्ष सुनील कुमार यादव ने कहा कि आईवीए को बारह सूत्रीय ज्ञापन दिया गया था जिसमें पांच दिन की बैंकिंग, स्पेशल एलाउन्स को मूल वेतन में मर्जर करने, पेंशन अपडेशन, परिवारिक पेंशन में सुधार करने और अधिकारियों का बैंकिंग समय सीमा का निर्धारण करने की प्रमुख मांगे हैं लेकिन वेतन वृद्धि मुद्दे को छोड़ आईवीए ने अन्य मांगों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि अधिकारी हो या कर्मचारी सभी दबाव में कार्य कर रहे हैं। वेतन और अन्य सुविधा के नाम पर बैंकर्स के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। हालात इतने बदतर हो गये हैं कि आज कोई भी युवा बैंकिंग क्षेत्र में आना नहीं चाहता है। एक बैंक प्रोवेशनरी अधिकारी का वेतन किसी में सेन्ट्रल गर्वमेंट के एक लिपिक से भी कम है। वहीं एक बैंक क्लर्क का वेतन यहां के एक चपरासी से भी बदतर हो चुका है।
कर्मचारी संगठन के जिला मंत्री कामरेड अनुराग पाण्डेय ने कहा कि इस बार जब तक सम्मानजनक समझौता नहीं होता तब तक बैंकर्स लड़ाई लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि यदि मांगें न हीं मानी गयी तो 11 मार्च से 13 मार्च व 1 अप्रैल से राष्ट्रव्यापी अनिश्चित हड़ताल की जायेगी। उन्होंने बताया कि राष्ट्रव्यापी बैंक हड़ताल के पहले दिन यहां हमीरपुर जिले में 40 करोड़ रुपये का लेनदेन प्रभावित हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram