(हमीरपुर बुलेटिन) कोरोना ने फिर पकड़ी रफ्तार, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता समेत 12 नये संक्रमितों के साथ आंकड़ा पहुंचा 424, पढ़ें दिनभर की खबरें

1- हमीरपुर – बुजुर्ग महिला की धारदार हथियार से काटकर हत्या

हमीरपुर । जनपद के बिंवार कस्बे में मंगलवार को एक बुजुर्ग महिला का रक्तरंजित शव मिला है। घटना की सूचना पाते ही पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच शुरू कर दी है। हत्या की इस घटना की जानकारी होते ही पुलिस अधीक्षक ने डाग स्क्वायड व फील्ड यूनिट को घटनास्थल पर रवाना किया गया है।
बिंवार कस्बा निवासी राम सखी (60) पत्नी राजाराम अपने घर पर अकेली रहती थी। इसके बच्चे बाहर रहते है। इसका शव घर में आज रक्तरंजित मिला। घटना की सूचना पाते ही बिंवार थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। हमीरपुर से डाग स्क्वायड के साथ फील्ड यूनिट ने घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच कर दी है। बताते है कि अज्ञात लोगों ने बुजुर्ग महिला को धारदार हथियार से काट डाला है। घर में सामान भी बिखरा पड़ा था।
  पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने बताया कि ये बुजुर्ग महिला घर पर अकेली रहती है। इसकी हत्या की खबर आज मिलने पर फील्ड यूनिट और डाग स्क्वायड को लगाया गया है। घटनास्थल पर साक्ष्य जुटाये जा रहे है। तहरीर मिलने पर हत्या का मामला दर्ज किया जा रहा है। पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। जल्द ही मामले की खुलासा होगा।

2 – हमीरपुर – बलदाऊ मंदिर में कोरोना की पड़ी मार, जन्माष्टमी पर नहीं होंगे सांस्कृतिक आयोजन

हमीरपुर नगर में 140 साल पुराने बलदाऊ मंदिर में जन्माष्टमी पर्व को लेकर सन्नाटा पसरा है। कोरोना महामारी के कारण इस प्राचीन मंदिर की सजावट तक नहीं करायी जा सकी जबकि मंदिर के कपाट भी बाहर से बंद है। हालांकि पुजारी ने बुधवार को यहां श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव सादगी के साथ मनाये जाने का एलान किया है।
नगर के विद्यामंदिर रोड पर बलदाऊ मंदिर स्थित है। इसकी ऊंचाई करीब चालीस फीट है। इस मंदिर में बलदाऊ और उनकी पत्नी की भव्य मूर्तियां विराजमान है। ये दोनों मूर्तियां अष्टधातु की है जो करीब ढाई फीट है। बीच में श्रीकृष्ण की अद्भुत मूर्ति भी बांसुरी बजाने की मुद्रा में  विराजमान है। मंदिर के अंदर शिव लिंग और इसके ठीक सामने हनुमान जी की प्रतिमा विराजमान है। जन्माष्टमी से कुछ दिन पहले ही मंदिर की रंगाई और पुताई होती थी। जन्मोत्सव की रात बलदाऊ मंदिर में बिजली के झालर लगाये जाते थे लेकिन इस बार मंदिर वीरान नजर आ रहा है। मंदिर के प्रमुख गेट पर ताला पड़ा है। मंदिर के पुजारी ने बताया कि सामाजिक दूरी के बीच जन्मोत्सव मनाना जायेगा और प्रसाद का वितरण होगा। बाकी श्रद्धालुओं की भीड़ यहां नहीं जुटने दी जायेगी। कोरोना महामारी के कारण सादगी के साथ ही जन्माष्टमी पर्व मनाया जायेगा।
मन्नतें पूरी होने पर 1880 में बनवाया गया था भव्य मंदिर
मंदिर के पुजारी जगत प्रसाद महाराज ने मंगलवार को बताया कि हमीरपुर नगर के खजांची मुहाल निवासी प्रेम अग्रवाल के वंशज सैकड़ों साल पहले इटावा से आकर यहां बसे थे। इनके पूर्वजों के यहां संतानें नहीं होती थी। इसलिये इन्होंने हर जगह माथा टेका लेकिन कोई सफलता नहीं मिली थी। एक दिन स्वप्न में इन्हें बलदाऊ का मंदिर बनवाकर श्रीकृष्ण व अन्य देवताओं की मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा कराने को कहा गया। पुजारी बाबा ने बताया कि गोपाल दास, लाला भवानी प्रसाद इटावा ने यहां वर्ष 1880 में श्री बलदाऊ मंदिर का निर्माण कराया था। मंदिर बनने के बाद इनका वंश आगे बढ़ा। ये मंदिर काफी बड़े क्षेत्र में बना है। मंदिर की नक्काशी भी बेजोड़ है। पुजारी महाराज ने दावा किया है कि मंदिर में आकर बलदाऊ व श्रीकृष्ण के दर्शन करने मात्र से ही दिन अच्छा बीतता है। हर संकट से लोग सुरक्षित रहते है।
श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव पर उमड़ती है श्रद्धालुओं की भीड़ 
बलदाऊ मंदिर के पुजारी ने बताया कि हर साल मंदिर में जन्माष्टमी की रात रमेड़ी, सुभाष बाजार, किंग रोड, मिश्राना, नौबस्ता तथा आसपास के इलाकों से बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती थी। यहां जहानाबाद से सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिये एक पार्टी भी आती थी जो लगातार छह दिनों तक मंदिर में धार्मिक आयोजन करती थी लेकिन अबकी बार कोरोना वायरस महामारी के कारण सारे कार्यक्रम रद्द कर दिये गये है। रमेड़ी मुहाल की राधा शुक्ला, बबलू अवस्थी सहित अन्य लोगों ने बताया कि जन्माष्टमी की रात बड़ी संख्या में लोग मंदिर में श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव पर शामिल होते थे इसके बाद ही अपने घरों में जाकर जन्माष्टमी मनाया जाता था मगर अबकी बार जन्मोत्सव के रंगारंग कार्यक्रम नही होने से श्रद्धालुओं में मायूसी देखी जा रही है।
श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव में 56 प्रकार का चढ़ता था भोग
मंदिर के पुजारी जगत प्रसाद ने बताया कि पिछले साल बलदाऊ मंदिर में जन्माष्टमी की रात श्रीकृष्ण की मूर्ति को 56 प्रकार का भोग अर्पित किया गया था। इस तरह का भोग चढ़ाने की परम्परा भी सैकड़ों सालों से चली आ रही है मगर अबकी बार ऐसे अद्भुत आयोजन पर कोरोना का ग्रहण लग गया है। जन्माष्टमी की रात मंदिर में लोग नाचते थे। हमीरपुर के तत्कालीन एडीएम राजेश कुमार प्रजापति की पत्नी डा.श्रेया भी मंदिर में एक बड़ा कार्यक्रम कराती थी। मटकी फोड़ कार्यक्रम में पूरे नगर के लोग हिस्सा लेते थे वहीं महिलाओं के भी भजन कीर्तन देखने को मिलते थे। पर अब यहां मंदिर में सन्नाटा पसरा है।

3 – हमीरपुर – कोरोना को हराकर वार्ड में लौटी स्टाफ नर्स का टीम ने किया स्वागत

हमीरपुर । जिला महिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड की कोरोना पॉजिटिव पाई गई स्टाफ नर्स कोरोना को हराकर 27वें दिन वापस ड्यूटी पर लौट आई। मंगलवार को इस दौरान स्टाफ नर्स का फूलों से स्वागत किया। दूसरी तरफ वार्ड आया को स्टाफ नर्स के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की कीमत अपना घर बदलकर चुकानी पड़ी थी।
कोरोना से जंग लड़ने वाले स्वास्थ्य कर्मियों के प्रति आम लोगों ने भी आदर के भाव दिखाते हुए जगह-जगह उनके स्वागत-सत्कार किए। जिला महिला अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड की स्टाफ नर्स को 14 जुलाई को कोरोना की पुष्टि हुई थी। जिसे इलाज के लिए बांदा रेफर किया गया था। 23 जुलाई को स्टाफ नर्स की बांदा से 14 दिन होम आइसोलेशन में रहने की सलाह देकर छुट्टी कर दी गई। करीब 27 दिन तक कोरोना से लड़ने वाली स्टाफ नर्स वापस अपने काम पर लौट आई है। स्वागत में एसएनसीयू वार्ड के डॉ.सुमित, डॉ.केशव सहित पूरा स्टाफ मौजूद रहा।
वार्ड आया को छोड़ना पड़ा घर 
स्टाफ नर्स के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद से इसी वार्ड के दो वार्ड आया मकान मालिक और अन्य किराएदारों के निशाने पर थी। डॉ.सुमित ने बताया कि वार्ड आया मकान मालिक के व्यवहार से आहत थी। लिहाजा उसने मकान छोड़ दिया। अब वो नए मकान में शिफ्ट हो गई है और अपनी ड्यूटी कर रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना जैसी महामारी से लड़ने वालों के साथ ऐसा बर्ताव ठीक नहीं है।

4 – हमीरपुर – दो साल पूर्व हुए कनेक्शन में बिजली आज तक नहीं मिली

हमीरपुर । सुमेरपुर विकास खंड के ग्राम मुंडे़रा में गरीब जनता को बिजली मुहैया कराने के लिए सरकार की मुफ्त कनेक्शन योजना के तहत आठ परिवारों को कनेक्शन दिए गए थे। मीटर भी लगा दिए गए थे, किन्तु विभागीय लापरवाही के चलते कनेक्शन धारकों को बिजली की सप्लाई नहीं दी गई। जिससे मीटर शो पीस बनकर रह गए हैं। बिजली से वंचित लोगों का आरोप है कि विद्युत विभाग सुनता नहीं है।
उक्त गांव के छोटा, बाबूलाल, भोली, मंटी, इंदल, रामकुमार, छत्रपाल, राजू, बाबूलाल व भगवान दीन वर्मा आदि ने मंगलवार को बताया कि 2018 में सरकार की मुफ्त कनेक्शन योजना के तहत आठ परिवारों के मुफ्त कनेक्शन किए गए थे। विद्युत विभाग के कर्मचारी उनके घर आकर दरवाजे के बाहर मीटर भी लगा दिये। किंतु धीरे धीरे दो साल बीत गया। परंतु आज तक उनके घर में बिजली नहीं जली। जबकि वह लोग दर्जनों बार विद्युत विभाग के चक्कर लगा चुके हैं।
अधिकारियों से पूंछने पर हर बार उन्हें बिजली आने का आश्वासन दे दिया जाता है। लेकिन बिजली नहीं आती है। लोगों ने बताया कि कि बिजली के साथ-साथ केरोसिन न मिलने के कारण घर में उजाला करने के लिए सरसों का तेल जलाकर जीवन यापन कर रहे हैं। सरकार ने भले ही मुफ्त कनेक्शन योजना चलाकर गरीबों को बिजली देने की पहल की हो, किंतु विभागीय लापरवाही के चलते सरकारी योजनाओं का लाभ गरीबों को नहीं मिल पा रहा है। जिसका जीता जागता उदाहरण मुंडेरा गांव है। जहां कनेक्शन मीटर सब कुछ देने के बाद भी बिजली नहीं दी जा रही है।
बिजली से वंचित इन परिवारों ने जिलाधिकारी सदर विधायक से बिजली मुहैया कराने की गुहार लगाई है। वहीं सुमेरपुर के विद्युत अभियंता विजय बहादुर का कहना है कि यह मामला उनके समय का नहीं है। अप्लीकेशन मिलने पर विद्युत उपलब्ध करा दी जाएगी।

5 – हमीरपुर – 19 वर्ष की अवस्था में शहीद हो गए थे खुदी राम बोस

हमीरपुर । विमर्श विविधा के तहत जरा याद करो कुर्बानी के अंतर्गत जंगे आजादी की पहली शहादत खुदीराम बोस की पुण्यतिथि पर मंगलवार को सुमेरपुर में श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए संस्था के अध्यक्ष डॉक्टर भवानी दीन ने कहा कि खुदी राम बोस भारत माँ को आजाद कराने के लिए मात्र 19 वर्ष की आयु में फांसी के फंदे पर झूल गए थे उन्हे फांसी की सजा सुनाई गई थी।
राम बोस  तहसीलदार थे। उनके दो बच्चे पहले ही चल बसे थे। इसलिये बुजुर्ग महिलाओं की सलाह पर एक टोटका के द्वारा बडी बहन अपरूपा ने तीन मुट्ठी खुददी अर्थात चावल के छोटे टुकडे देकर अपने पैदा हुये भाई को खरीदा था। इसलिए खुददी के नाम पर खुदीराम नाम पड गया। ये नौवीं कक्षा के बाद आन्दोलन मे कूद पड़े। ये क्रान्तिकारी दल मे शामिल हो गये थे। खुदीराम बचपन से ही विद्रोही स्वभाव के थे। 1905 के बंग भंग विरोधी आन्दोलन मे बढ चढ कर भाग लिया।
 ये सत्येंद्र नाथ बोस से प्रभावित थे। सबसे पहले इन्होंने वन्दे मातरम नाम का पम्पलेट बाटा था। छोटी उम्र मे इन पर राजद्रोह का मुकदमा चला था। ये पिस्तौल तथा बम चलाने मे माहिर थे। ये अत्याचारी गोरों के खिलाफ थे। इन्हें सबक सिखाने के 2906 , 1907 और 30 अप्रैल 1908 को अत्याचारी जज किंग्स फोर्ड पर बम फेका। मुकदमा चला।
 फान्सी की सजा मिली। 11 अगस्त 1908 को खुदीराम बोस मात्र 19 वर्ष की उम्र मे अमर हो गये। इनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है। इस मौके पर वर्णिता संस्था ने माँ गीता माहेश्वरी इन्टर कालेज और रोटी राम महाराज इन्टर कालेज सुमेरपुर के दो मेधावी छात्रों को स्मृति चिन्ह और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। विजय कुमारी, पुनीत किशोर सिंह, भारत, जितेंद्र दीक्षित,अभिषेक, प्रांशु सोनी आदि कार्यक्रम में शामिल रहे।

6 – हमीरपुर – तीन घंटे तक हुई मूसलाधार बारिश में दो मकान गिरे

हमीरपुर । जनपद में मंगलवार को दोपहर बाद पहली बार मूसलाधार बारिश हुई। शाम तक बारिश होने से मेरापुर में दो मकान ढह गये वहीं परिवार के लोग बाल-बाल बचे। गृहस्थी का सामान भी पानी से जलमग्न हो गया है। शहर के अन्दर भी रिहायशी इलाकों में बारिश का पानी भर जाने से लोग घरों में दुबकने को मजबूर हो गये है। नालियां भी बारिश से उफना गयी और रिहायशी घरों में पानी घुस गया। हालांकि बारिश से उमस भरी गर्मी से राहत मिली है।
श्रीकृष्णा जन्माष्टमी पर घरों और मंदिरों में सजावट चल रही थी तभी दोपहर बाद बारिश शुरू हो गयी। तीन घंटे तक हुयी पहली बार भारी बारिश से मेरापुर मुहाल में कुलदीप व भोपा वर्मा के कच्चे मकान भरभराकर ढह गये। गनीमत रही कि परिवार को लोग मकान गिरने से पहले बाहर आ गये थे। बारिश के पानी से गृहस्थी का सामान भीग गया है।
झमाझम बारिश से सड़के व गलियां जलमग्न हो गई। शहर के कांशीराम कालोनी, आदर्श नगर, विवेक नगर, सुभाष बाजार, कालपी चौराहा, अकिल तिराहा, प्रधान डाकघर, तहसील मार्ग, बस स्टैंड में बारिश का पानी भरने से लोगों को निकलने में परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं कई दिनों से हो रही उमस भरी गर्मी के बाद मंगलवार को हुई बारिश से राहत मिली है।

7 – हमीरपुर – सड़क दुघर्टना में मौत होने पर ग्रामीणों ने थाने के सामने शव रखकर किया हंगामा

मुस्करा कस्बे में सड़क दुघर्टना में एक व्यक्ति की मौत से ग्रामीण भड़क गये। ग्रामीणों के साथ परिजनों ने मंगलवार को दोपहर बाद थाने के सामने शव रखकर हमीरपुर-राठ मार्ग पर जमकर हंगामा किया। पुलिस ने किसी तरह मामला शांत कराकर शव को पोस्टमार्टम के लिये भेजा। परिजनों ने थाने में भी हंगामा किया। 
 
मुस्करा कस्बे के छह थोक मुहाल निवासी सावित्री ने बताया कि उसके पति भूरा श्रीवास (48) को तीन दिन पहले राठ रोड पर एक लोडर ने रौंद डाला था। उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल ले जाया गया था, जहां डाक्टरों ने कानपुर के लिये रेफर कर दिया था। दो दिन पहले उसे नाजुक हालत में पीजीआई लखनऊ में भर्ती कराया गया था, जहां आज उसकी मौत हो गयी। पीड़ित परिजनों ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में न तो कोई कार्यवाही की और न ही आरोपित लोडर चालक को गिरफ्तार किया। 
 
परिजनों ने शव मुस्करा कस्बा लाकर थाने के सामने सड़क पर रखकर हंगामा किया। थाने में हंगामा होते देख थानाध्यक्ष ने किसी तरह मामला शांत कराया।
 
मुस्करा थानाध्यक्ष बांके बिहारी सिंह ने बताया कि इस मामले में लोडर चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जल्द ही आरोपित गिरफ्तार होगा। मृतक पांच पुत्रियों का पिता था, जिसमें एक बड़ी पुत्री की शादी हो चुकी है। पीड़ित परिवार बेहद गरीब भी है।

8 – हमीरपुर – हिस्ट्रीशीटरों व जेल से छूटे अपराधियों पर पुलिस रखे नजर-आईजी

हमीरपुर । हिस्ट्रीशीटरों व जेल से छूटे अपराधियों की गतिविधियों पर पुलिस विशेष निगाह रखे। फरार गैंगस्टर व अन्य आरोपियों की कुर्की कार्रवाई की जाए। यह बात मंगलवार को पुलिस लाइन व कोतवाली के औचक निरीक्षण में आए चित्रकूटधाम मंडल के आईजी सत्यनारायन ने कही। निरीक्षण में साफ सफाई बेहतर मिलने पर खुशी जताई।
मंगलवार को आईजी शहर पहुंचे। जहां सबसे पहले उन्होंने पुलिस लाइन स्थित शस्त्र भंडार, प्रतिसार निरीक्षक कार्यालय, गणना कार्यालय का निरीक्षण कर परिसर की साफ सफाई देखी। निरीक्षण में उन्हें सबकुछ ठीक मिला। प्रतिसार निरीक्षक कार्यालय के अभिलेखों को भी ऑनलाइन करने के निर्देश एसपी श्लोक कुमार को दिए। इसके बाद उन्होंने जिले के पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की। जिसमें निर्देशित किया कि टॉप 10 व चिंहित अपराधियों पर विशेष नजर रख कार्रवाई करें।
कोतवाली के निरीक्षण में बीट अधिकारियों से जानकारी ली। आईजी ने आगामी त्योहारों व कोविड-19 को लेकर शासन के निर्देशों का अनुपालन करने को कहा। 15 अगस्त को ढाबा, होटल, बस स्टैंड व अन्य संवेदनशील स्थानों पर रात्रि पैदल गस्त व चेकिंग करने को कहा। महिला संबंधी अपराधों को गंभीरता से लेकर त्वरित निस्तारण करने, डियूटी के दौरान संक्रमण से बचाव के लिए पुलिस कर्मी मास्क व हैंड ग्लब्स धारण करें। उधर सोमवार की रात एसपी ने भी पुलिस लाइन सभागार में थानेदारों व क्षेत्राधिकारियों के साथ बैठक कर कानून व्यवस्था की समीक्षा की। एसपी ने वांछित आरोपियों की गिरफ्तारी व लंबित विवेचनाओं को समय से पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने सराहनीय कार्य करने वाले पुलिस कर्मियों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।

9 – हमीरपुर – कोरोना ने फिर पकड़ी रफ्तार, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता समेत 12 नये संक्रमितों के साथ आंकड़ा पहुंचा 424

 

हमीरपुर । जनपद में मंगलवार को आंगनबाड़ी कार्यकत्री समेत 12 नये कोरोना संक्रमित केस मिले। इससे जनपद में कोरोना के मरीजों की संख्या 424 हो गयी है। वहीं 309 मरीजों ने कोरोना को मात दी है।
सीएमओ डाॅ. आरके सचान ने बताया कि मंगलवार को आई जांच रिपोर्ट में 12 नए कोरोना पाॅजिटिव केस सामने आए। हमीरपुर शहर के बेतवा घाट निवासी एक गर्भवती महिला की रिपोर्ट रैपिड एंटीजेन किट में पॉजिटिव आई है। राठ के पठानपुरा निवासी एक आंगनबाड़ी कार्यकत्री संक्रमित निकली है। राठ कस्बा निवासी इलाज कराने कानपुर गया एक युवक संक्रमित पाया गया है। सुमेरपुर में 110 लोगों की रेपिड एंटीजेन किट से की गई है। जिसमें तीन लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।
मौदहा में स्वास्थ्य टीम द्वारा की गई जांच में छह लोग संक्रमित पाए गए हैं। सभी संक्रमितों को इलाज के लिए सुमेरपुर स्थित पॉलिटेक्निक कालेज में संचालित एल-वन हास्पिटल में भर्ती कराया गया है। सभी संक्रमितों के संपर्क में आने वाले लोगों की जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram