(हमीरपुर बुलेटिन) जिले में कोरोना से फिर एक महिला की मौत, 15 नये संक्रमित मरीज मिले, पढ़ें दिनभर की खबरें

1- हमीरपुर-प्रधान प्रतिनिधि व उसके भाई के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज

हमीरपुर । कुरारा क्षेत्र के बेरी ग्राम पंचायत के मजरा इंदुपुरी निवासी मजदूर की स्कूल गेट की शटरिंग खोलते समय घटिया निर्माण के चलते मलवा गिरने से दबकर हुई दर्दनाक मौत मामले में भाई की तहरीर पर  शुक्रवार को प्रधान प्रतिनिधि व  उसके भाई के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।
क्षेत्र के बेरी ग्राम पंचायत के मजरा इंदुपुरी निवासी मृतक मजदूर के बड़े भाई लल्लू पुत्र रामखेलावन निषाद ने थाने में तहरीर देकर बताया कि 9 अगस्त को ग्राम प्रधान प्रतिनिधि ब्रह्मनारायण त्रिपाठी व आदित्य नारायण त्रिपाठी पुत्र जागेश्वर सुबह उसके घर आए तथा छोटे भाई विनोद को बरौली गांव स्थित विद्यालय में निर्माणाधीन गेट की शटरिंग खोलने के लिए लेकर गए थे। वहीं पर घटिया निर्माण के चलते तथा जल्दी खुलवाने पर जैसे ही विनोद ने शटरिंग की बल्ली हटाई तो बाउंड्री गेट की छत भरभरा कर उसके ऊपर गिर गई। जिसमें वह दब गया। वहां मौजूद ग्रामीणों ने उसको मलबे से निकाला तथा इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर गए। वहां से गंभीर हालत में चिकित्सक ने कानपुर रेफर किया था। जिसकी रास्ते में दर्दनाक मौत हो गई थी। बताया कि मौजूद मजदूरों व विनोद ने समय से पहले तथा घटिया निर्माण के चलते विरोध किया था। लेकिन प्रधान पति व उसके भाई ने जबरन शटरिंग खुलवाई थी। वहीं मृतक के बड़े भाई ने आरोप लगाया कि विनोद का जाबकार्ड तक प्रधान ने नहीं बनाया है।
प्रधान पति व उसका भाई ग्राम पंचायत चुनाव में सहयोग न किए जाने से उनसे बुराई मानते थे। तथा जानबूझकर शटरिंग खोलने का दबाव बनाकर हत्या की गई है। मृतक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने  शुक्रवार को ग्राम प्रधान किरण त्रिपाठी के पति तथा देवर के खिलाफ हत्या की धारा 304 ए के तहत मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

2- हमीरपुर-खुलासाःयुवक की किसी नुकीली चीज से की गई थी हत्या

हमीरपुर । बिवांर  थानाक्षेत्र के महेरा गांव में  चरवाहे की हत्या किसी नुकीली चीज से की गई थी। जिसका खुलासा शुक्रवार को पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ है।
महेरा निवासी मूलचंद उर्फ मुल्लू (30) पुत्र हरीसिंह राजपूत की बीते गुरुवार की रात हत्या कर शव को उसके घर से कुछ दूरी पर ही आम रास्ता में फेंक दिया गया था। शव पूरी तरह से निर्वस्त्र था, उसके कपड़े व मोबाइल फोन उसकी चारपाई में रखे थे। परिस्थितियों को देखते हुए गांव के लोगों के बीच आम चर्चा थी कि यह घटना प्रेम संबंधों के चलते हुई है। वहीं पुलिस भी ऐसी संभावनाओं से इंकार नहीं कर रही है। हालांकि मृतक के परिजन ऐसी किसी भी बात से इंकार कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने अभी तक किसी पर आरोप भी नहीं लगाया है। मृतक अपनी खेती के साथ-साथ अपने जानवर चराता था और अपने चार भाइयों में सबसे बड़ा व अविवाहित था।
 थाना प्रभारी अखिलेश कुमार ने बताया कि युवक के शरीर में सिर के अलावा अन्य कहीं भी चोट के निशान नहीं थे। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सिर में चोट मौत का कारण आया है। जिसमें कोई नुकीली कील जैसी चीज काफी अंदर तक घुसाई गई थी। जिससे मस्तिष्क का खून अंदर ही जम गया और ब्रेन डैमेज से उसकी मौत हो गई। दूसरे दिन भी पुलिस गांव की खाक छानती रही। थाना प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि अभी तक परिजनों ने रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई है। फोन कर बुलाया गया है। पुलिस के मुताबिक वह घटना के खुलासे के बहुत करीब हैं बस रिपोर्ट दर्ज होने की देरी है।

3- हमीरपुर- वृद्ध बुआ की हत्या के आरोपी भतीजे को पुलिस ने दबोचा

हमीरपुर । बिवांर कस्बे में पिछले 60 वर्षीय वृद्धा की धारदार हथियार से हुई हत्या उसी के भतीजे ने की थी। पुलिस ने शुक्रवार को उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस पूछताछ कर घटना के पीछे के कारणों को तलाशने में जुटी है।
बिवांर कस्बे के केसरापुरा मोहल्ले में अपने मायके में रह रही रामसखी (60) पत्नी राजाराम घर में अकेले रहती थी। सोमवार की रात अज्ञात ने उसकी गला रेतकर हत्या कर दी थी। इस मामले में मृतका के भतीजे बाबूलाल ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था। तब जांच पड़ताल में महिला का एक बकरा गायब मिला था। पुलिस ने इस मामले में पांच लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। खोजी कुत्ते के दूसरे भतीजे सभाजीत के घर जाने पर पुलिस ने खून के सने कपड़े व बांका बरामद किया था। इस पर पुलिस सभाजीत की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी कर रही थी।
 शुक्रवार दोपहर सभाजीत को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। लेकिन पुलिस अभी यह नहीं बता रही है कि उसे पकड़ा गया है। शुरुआती पूछताछ में आरोपी सभाजीत ने हत्या करने की बात कबूली है। घटना के बाद रात करीब साढ़े तीन बजे एक बकरा उठाकर गांव में एक व्यक्ति घर ले गया और उससे खरीद लेने की बात कही। लेकिन उसने मना कर दिया और मंगलवार की सुबह चौकीदार बरदानी को यह जानकारी दी। इधर आरोपी सुबह छानी गांव में लगने वाली साप्ताहिक बाजार में बकरे को 1400 रुपये में बेंचकर भाग निकला। फिलहाल पुलिस की पूछताछ में वह दो अन्य के नाम ले रहा है। वहीं बताया गया कि नशेबाजी के चलते घटना के पांच दिन पूर्व आरोपी ने अपनी बुआ रामसखी से रुपये की मांग की थी। तब उसके मना से वह नाराज हो गया था।
 इधर पुलिस आरोपी को पकड़ने जनपद महोबा के थाना खन्ना कस्बा उसकी ससुराल पहुंची। मगर वह नहीं मिला। जबकि इसके बाद आरोपी अपनी खुद की ससुराल न जाकर चचेरे भाई की ससुराल पहुंच गया। इस पर किसी ने उसे पनाह नहीं दी। आरोपी ने पुलिस को बताया कि रात में ही वह गुढ़ा गांव के खेतों की ओर निकलकर घूमता रहा है। फिलहाल पुलिस का शिकंजा कसने से वह कहीं दूर नहीं भाग सका। इस मामले में थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार ने कहा कि अभी गहनता से पूछताछ की जा रही है। किसी निर्दाेष पर कार्रवाई नहीं की जाएगी।

4- हमीरपुर- शराब के नशे में युवक ने जहर खाया, मौत

हमीरपुर । जरिया थाना क्षेत्र के बौखर गांव में शुक्रवार की शाम एक युवक ने शराब के नशे में जहर खाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। पुलिस ने घटना की जांच शुरू कर दी है।
जरिया क्षेत्र के बौखर गांव निवासी मनोज कुमार (35) पुत्र हल्के ने अपने घर में ही नशे में धुत्त होकर जहर खा लिया। हालत गंभीर होने पर परिजन उसे इलाज कराने राठ स्थित सी.एच.सी ले गये जहां अस्पताल के डॉ.अलोक ने देखते ही उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने बताया कि मनोज शराब पीने का आदी था। नशे की हालत में जहर खाया है। जरिया थाने के इंस्पेक्टर विक्रमाजीत सिंह ने बताया कि मामला संज्ञान में है। घटना की जांच करायी जा रही है।

5- हमीरपुर- हमीरपुर में कोरोना से फिर एक महिला की मौत, 15 नये संक्रमित मरीज मिले

हमीरपुुर । हमीरपुर शहर में कोरोना वायरस महामारी ने शुक्रवार को एक बार फिर रफ्तार पकड़ी है। कोरोना से संक्रमित एक महिला की मौत हो गयी, वहीं कोरोना के 15 संक्रमित मरीज पाये गये हैं। एक प्रिन्ट मीडिया के दफ्तर में ही तीन कर्मियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने से पत्रकारों में हड़कंप मचा हुआ है। मीडिया कर्मियों के दफ्तरों को नगरपालिका की टीम ने सैनिटाइज किया है। जनपद में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या अब 455 पार कर गयी है।
ए.सीएमओ डा.रामऔतार ने बताया कि सुमेरपुर की एक वृद्ध महिला कोरोना से संक्रमित थी जिसे बांदा मेडिकल कालेज भेजा गया था। उसकी मौत हो गयी है। जनपद में कोरोना से यह ग्यारहवीं मौत है जिसे लेकर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सकते में है। इधर हमीरपुर शहर के जिला पंचायत परिसर में एक बड़े हिन्दी दैनिक अखबार के कार्यालय में तीन कर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये है। ग्वालटोली विवेकनगर में एक महिला की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आयी है।
सीएमओ डा.आरके सचान ने बताया कि सुमेरपुर कस्बे के गुरगुज मुहाल में एक महिला समेत चार लोगों की रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आयी है जबकि कुरारा क्षेत्र के पतारा गांव में एक युवक कोरोना से संक्रमित पाया गया। मौदहा कस्बे के तहसील रोड में संचालित रवि स्वीट्स में काम करने वाले एक युवक की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आयी है। सुमेरपुर में ग्रीन लगेज के पीछे एक युवक कोरोना से संक्रमित मिला है वहीं निवादा मुस्करा में एक तथा राठ में एक व्यक्ति की रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आयी है।
 जिला अस्पताल में कोरोना की हुयी जांच में दो लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आयी है। सीएमओ ने बताया कि 697 लोगों की कोरोना जांच के लिये सैम्पल लिये गये है। वहीं अभी तक 319 मरीज कोरोना से जंग जीत चुके है। बता दे कि जनपद में कोरोना महामारी की गिरफ्त में आकर लोनिवि प्रांतीय खंड के अधिशाषी अभियंता समेत 11 लोगों की मौत हो चुकी है।

6- हमीरपुर- देवी देवताओं पर आपत्तिजनक पोस्ट करने में एक आरोपित युवक गिरफ्तार

हमीरपुर । कुरारा कस्बे में सोशल मीडिया में हिन्दू देवी देवताओं पर अभद्र एवं आपत्तिजनक पोस्ट करने पर शुक्रवार को पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
कुरारा कस्बे के मुख्य बाजार निवासी शोएब खान पुत्र उस्मान खान ने सोशल मीडिया में हिन्दुओं को ठेस पहुंचाने वाली एक ऐसी पोस्ट डाली थी जिससे हिन्दू समुदाय में आक्रोश गहरा गया था। इस मामले को लेकर कस्बा निवासी अमित सिंह, सुशील सोनीस, विवेक पालीवाल, अमित यादव, विश्व दीपक त्रिपाठी ने थाने में तहरीर देकर कार्यवाही की मांग की थी।
 पुलिस ने इस मामले में त्वरित कार्यवाही करते हुये मुकदमा दर्ज किया और आरोपित शोएब खान को गिरफ्तार भी कर लिया। थानाध्यक्ष एके सिंह ने बताया कि आरोपित को सम्बन्धित धाराओं में जेल भेजा जायेगा। मामले की जांच भी जारी है।

7- हमीरपुर- कमिश्नर के निरीक्षण में चेकडैम के जीर्र्णाेद्धार के कार्य पास

हमीरपुर । चित्रकूट धाम मंडल के कमिश्नर गौरव दयाल ने शुक्रवार को मौदहा क्षेत्र के मदारपुर गांव में ग्राम पंचायत निधि से सरसहवा नाले पर बनाये गये चेकडैम का जायजा लिया। चार किमी लम्बे इस चेकडैम में तीन किमी विलुप्त हो गया था जिसके जीर्णाेद्धार के कार्य देख कमिश्नर ने संतोष व्यक्त किया है।
मदारपुर गांव में चार किमी लम्बे चेकडैम का निर्माण लाखों की लागत से कराया गया था। इसके जर्जर होने के बाद चेकडैम का जीर्णाेद्धार कराया गया है। चेकडैम में 52 डोह बनाये गये है और तट बंधों पर पौधरोपण भी कराये गये है।
 कमिश्नर गौरव दयाल ने निरीक्षण करने के बाद नाला, चेकडैम निर्माण से पहले के फोटो भी देखे और मौजूदा में चेकडैम में भरे पानी की गहराई का भी जायजा लिया। ये सभी कार्य कमिश्नर के ड्रीम प्रोजेक्ट अविरल जल अभियान के तहत कराये गये है।
 कमिश्नर ने गांव में अमरूद के बाग व खेल के मैदान का भी निरीक्षण किया। इसके बाद कमिश्नर ने मुस्करा ब्लाक के कैमोखर गांव में लघु सिंचाई के जरिये निर्मित तालाब का निरीक्षण किया और तालाब के तटबंध पर पौधे रोपित किये। इस मौके पर जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी, संयुक्त विकास आयुक्त रमेश चन्द्र पाण्डेय, सीडीओ कमलेश कुमार तथा अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

8- हमीरपुर- जीआरपी कानपुर सेंट्रल से लूट की घटना में फरार अपराधी गिरफ्तार

हमीरपुर । कानपुर सेंट्रल स्टेशन जीआरपी से लूट के अपराधी को हमीरपुर पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। ये अपराधी पिछले चार सालों से फरार था जिस पर पांच हजार रुपये का इनाम भी घोषित था। इसके कब्जे से पांच सौ ग्राम अवैध गांजा बरामद किया गया है।

अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि राठ कोतवाल मनोज कुमार शुक्ला के नेतृत्व में उपनिरीक्षक संजय मिश्रा हमराही सिपाहियों के साथ चेकिंग कर रहे थे। तभी मुखबिर की सूचना पर पुलिस टीम ने कस्बे के दाता गढ़ी के सामने पुलिया पर बैठे एक संदिग्ध को दबोच लिया।

एएसपी ने बताया कि पूछताछ में पकड़े गए युवक ने अपना नाम हमीरपुर के सिकन्दरपुरा नई बस्ती राठ निवासी रुप सिंह कुचबंधिया बताया है। उन्होंने बताया कि पकड़ा गया अभियुक्त जीआरपी कानपुर सेंट्रल का पांच हजार रुपये का इनामी है। इसके खिलाफ जीआरपी कानपुर सेंट्रल में वर्ष 2016 में लूट का मुकदमा दर्ज है। इसके अलावा जीआरपी कानपुर सेंट्रल में चोरी व नारकोटिक्स समेत चार मामले दर्ज है। चार सालों से पुलिस को इसकी तलाश थी।

 

9- हमीरपुर- कोरोना संक्रमण के चलते 170 साल पुरानी परम्परा का तीजा मेला रद्द

 

-तीन दिवसीय मेला रद्द होने से लोगों में मायूसी
-घरों में ही अब महिलायें करेगी तीजा की पूजा
हमीरपुर । जनपद के सुमेरपुर क्षेत्र में सैकड़ों साल पुराने तीजा मेला कोरोना संक्रमण के चलते रद्द कर दिया गया है। इससे पूरे क्षेत्र के लोग मायूस है। क्षेत्र में महिलायें अब अपने ही घरों में रहकर तीजा की पूजा करेगी। यहां के अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना महामारी को लेकर इस एतिहासिक मेले को रद्द कर दिया गया है। सामाजिक दूरी के बीच रस्म अदायगी के लिये चार से पांच लोग ही मंदिर में पूजा कर सकते है। साथ ही शासन के निर्देशों का कड़ाई से पालन कराया जायेगा।
सुमेरपुर कस्बे का मशहूर तीजा मेला आपसी प्रेम सौहार्द एवं सद्भाव का प्रतीक माना जाता है। साथ ही ये बुन्देलखंड की लोक संस्कृति व कला का भी परिचायक है। पूरे बुन्देलखंड क्षेत्र का यहीं तीजा मेला सबसे बड़ा त्यौहार है जिसे देखने के लिये लाखों लोगों की भीड़ जुटती है। मेले में शिल्पकार, नाट्यकला, मूर्तिकला, चित्रकला, कुश्ती कला और विविध संगीत कला के उत्कृष्ट नमूने तीजा मेले में देखने को मिलते है।
 सुमेरपुर का तीजा महोत्सव (मेला) एवं जल विहार वास्तव में यह श्रीकृष्ण तीजा महोत्सव है जो नगर वासियों के स्वैच्छिक शारीरिक तथा आर्थिक अनुदान से सम्पन्न होता है। यह मेला नगरवासियों के आपसी प्रेम सौहार्द एवं सद्भाव का प्रतीक होने के साथ ही बुन्देलखंड की लोक संस्कृति का उन्नायक भी है। इस महोत्सव में ग्रामीणों अंचलों से लाखों की संख्या में जन समुदाय एकत्र होता है।
ऐसे वक्त पर सुमेरपुर की छठा विशेष दर्शनीय हो जाती है। रात्रि के सांस्कृतिक कार्यक्रम, आल्हा गायन, दंगल में पहलवानों की रोमांचक कुश्तियां, कबीरी भजन, श्रीकृष्ण सहित विभिन्न महापुरुषों की दो दर्जन से अधिक झांकियों की भव्य शोभायात्रा श्रीकृष्ण मंदिर से प्रारम्भ होकर हरचन्दन तालाब में श्रीकृष्ण की नाग नाथ लीला, कंस आदि दैत्यों के वध की लीला के साथ सम्पन्न होती है। मेले में लगातार तीन दिनों तक बुन्देलखंड के मशहूर कलाकार नाट्यकला प्रस्तुत करते है। पशु बाजार में प्रदेश स्तरीय कबीरी भजनों का कार्यक्रम 48 घंटे तक चलता है। लेकिन अबकी बार ये एतिहासिक मेला कोरोना के कारण रद्द कर दिया गया है।
शुरू में चार पांच झांकियों की निकलती थी शोभायात्रा
समाजसेवी गणेश सिंह विद्यार्थी, मिथलेश व डा.भवानीदीन ने बताया कि साहित्यकार एवं पत्रकार कवि बाबू भास्कर निगम की पुस्तक में तीजा मेला के बारे में रोचक जानकारी अंकित है। शुरू में तीजा मेला की शोभायात्रा में चार पांच झांकियां ही शामिल होती थी लेकिन बाद में इसका स्वरूप बढ़ता ही चला गया।
एक वर्ष नही हुआ तीजा महोत्सव 
लगभग 170 वर्ष प्राचीन तीजा महोत्सव के इतिहास में सन् 1984 में जन-जन के आस्था के केन्द्र स्वामी रोटीराम जी की जघन्य हत्या होने के कारण यह महाउत्सव स्थगित कर दिया गया था। तीजा मेला कमेटी के सचिव नवल किशोर मिश्र ने बताया कि स्वामी जी के प्रति विशेष संवेदना में सर्व सम्मति से आयोजित न कराने का निर्णय लिया गया था।
बाढ भी नही रोक पायी थी शोभा यात्रा को
सुमेरपुर तीजा मेला के इतिहास में 1978 में पूरा चांदथोक बाढ से प्रभावित हो गया था। रास्ते में कीचड़ भरा था। तीजा मेला में शोभा यात्रा निकलनी थी किन्तु श्री कृष्ण मंदिर से सड़क तक झाांकियों पहुंचाने के लिए बड़ी समस्या थी कमेटी के लोग परेशान थे तब देवनारायण द्विवेदी ने अपने ट्रैक्टर से एक-एक झांकी को खींचकर सड़क तक पहुंचाया था तब शोभायात्रा निकल पायी थी।
शासन-प्रशासन के हांथों तक नही पहुंच सका विशाल मेला
जनपद का प्रथम स्तर का विशाल व ऐतिहासिक मेला आज भी शासन-प्रशासन की नजरों से दूर है। मेले को सरकारी आर्थिक मद्द नही मिलती है। रिटायर्ड प्रिंसिपल व साहित्यकार डा भवानीदीन ने चिन्ता व्यक्त करते हुये कहा कि महोबा का कजली मेला चरखारी का बिहारी जू का मेला सरकार के हांथो में है। परन्तु सुमेरपुर का मशहूर तीजा मेला आज भी अलग-थलग पड़ा है। इसके लिए प्रयास होने चाहिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram