(हमीरपुर बुलेटिन) जेल में महिला बंदियों ने भी रखा करवाचौथ का व्रत, प्रशासन ने किये खास इंतजाम, पढ़े दिनभर की पूरी खबरें

जेल में महिला बंदियों ने भी रखा करवाचौथ का व्रत, प्रशासन ने किये खास इंतजाम
-जेल प्रशासन ने पूजा सामग्री का किया इंतजाम, तीन दम्पति बंदी भी करेंगे पूजा 
 हमीरपुर जिला जेल में बंद महिला बंदियों ने भी करवाचौथ का व्रत रखकर चन्द्र देव की पूजा अर्चना करने की तैयारी में जुट गयी हैं। जेल प्रशासन ने भी महिला बंदियों के लिये पूजन सामग्री का इंतजाम किया हैं। 
करवा चौथ का पर्व पति के दीर्घायु और घर की खुशहाली के लिये महिलायें रखती हैं। इस दिन महिलायें निर्जला व्रत रखती हैं। करवा चौथ की पूजा से पहले महिलायें श्रृंगार भी करती हैं। समूचे जनपद में इस पर्व की जहां धूम मच गयी हैं वहीं हमीरपुर जिला कारागार में भी बंद महिलाओं में करवाचौथ की पूजा को लेकर खासा उत्साह हैं। यहां संगीन अपराधों में बंद सुहागिन महिलाओं ने करवाचौथ का व्रत रखा हैं।

जेलर पी.के.त्रिपाठी ने बताया कि जेल में 21 महिलायें विभिन्न अपराधों में बंद हैं। यह महिलाएं सुबह से करवाचौथ का व्रत रखा है। करवाचौथ पर्व को लेकर आज महिला बंदियों को उनके जीवन साथियों से मिलने का मौैका दिया गया है। बंदी गुडिय़ा, चाइना देवी व प्रीति उर्फ डाली भी अपने पतियों के साथ जेल में ही करवाचौथ की पूजा करेंगी। जेलर ने बताया कि रात आठ बजे के बाद जेल के अंदर ही महिला बंदियों को चन्द्रमा की पूजा अर्चना कर व्रत तोडऩे का इंतजाम किया गया है। महिला बंदियों को मिट्टी के करवा व अन्य पूजन सामग्री भी उपलब्ध करायी गयी हैं।
2-  करवा चौथ में सजा बाजार, सुहागिनों की उमड़ी भीड़
हमीरपुर । जिले में पति की दीर्घायु की कामना से रखे जाने वाले करवा चौथ पर्व को लेकर बुधवार को सुहागिनों ने बाजार पहुंचकर जमकर खरीददारी शुरू कर दी है। पूजन सामग्री के साथ ही वस्त्र, आभूषण और श्रृंगार के सामान की खरीददारी भी महिलायें कर रही हैं।  महंगाई के बाद भी महिलाओं में पूजन सामग्री और अन्य सामान की खरीददारी के लिए खासा उत्साह देखा जा रहा है। इस पर्व को लेकर बाजार में चहलपहल बढ़ गयी है। सबसे ज्यादा महिलाओं की भीड़ ब्यूटी पार्लर की दुकानों में देखी जा रही है।
बाजार में बुधवार को सुबह से ही करवा चौथ की रौनक देखी जा रही है। खासकर मिट्टी के करवा और सीकें खरीदने के लिये सुहागिन महिलाओं की भीड़ उमड़ी है। मिट्टी के करवा के साथ पीतल के भी करवा बाजार में बिकने के लिये रखे गये हैं, लेकिन ज्यादातर मिट्टी के करवा ही बिक रहे हैं। दुकानदार विजय कुमार ने बताया कि दुकान में सिर्फ मिट्टी के करवा और सीकें खरीदने के लिये महिलायें आ रही हैं। पूजन सामग्री की खरीददारी शाम तक होगी। मिट्टी के करवा बीस से सौ रुपये में बिक रहे हैं वहीं सीकें भी दोगुनी कीमत में बाजार में बिक रही हैं।
सुहागिन महिलायें अपने पति की दीर्घायु के लिये कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का व्रत रख विधि विधान से पूजा करती हैं। इस व्रत में महिलायें अपने पति की लंबी आयु व दांपत्य जीवन में प्रेम तथा सामंजस्य के लिए पूरे दिन निर्जला उपवास रखती हैं और भगवान शिव, माता पार्वती और कार्तिकेय के साथ साथ भगवान गणेश की पूजा अर्चना करती हैं। इस व्रत में मिट्टी के बर्तन यानी करवे की पूजा का विशेष महत्व होता है, जिसमें चन्द्र देव को जल अर्पण किया जाता है। इसलिये पूजा के दौरान करवा बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसको पति पत्नी के बीच प्यार, स्नेह और विश्वास का प्रतीक माना गया है। पूजा खत्म होने के बाद करवे को ब्राह्मण या किसी योग्य महिला को दान में दिया जाता है। इस दिन सुहागिन स्त्रियां सूर्योदय से पहले स्नान करके व्रत रखने का संकल्प लेती हैं और सास द्वारा दी गई सरगी का सेवन करतीं हैं। सरगी में मिठाई, फल, वेवईं, पूड़ी और साज श्रृंगार का सामना दिया जाता है। सरगी खाने के बाद करवा चौथ का निर्जला व्रत शुरू हो जाता है। जो महिलायें निर्जल व्रत नहीं कर सकतीं वह फल, दूध, दही, जूस, नारियल पानी आदि ले सकतीं हैं।
व्रत के दिन शाम को लकड़ी की चौकी पर लाल वस्त्र विछाकर इस पर भगवान शिव, माता पार्वती, कार्तिकेय, गणेश जी की प्रतिमायें या तस्तीर स्थापित करते हैं। एक लोटे में जल भरकर उसके ऊपर श्रीफल रख कलावा बांधते हैं। फिर मिट्टी का टोंटीदार करवा लेकर उसमें गेहूं तथा ढक्कन में चीनी भर दें। रोली से करवे पर स्वास्तिक बनायें तथा उस पर दक्षिणा रख दें। धूप, दीप, अक्षत व पुष्प चड़ा कर भगवान का पूजन करें। पूजनोपरांत हाथ में गेहूं के दाने लेकर भक्तिपूर्वक चौथ की कथा का श्रवण या वाजन करें। तत्पश्चात रात्रि में चन्द्रमा के उदय होने पर चन्द्रदेव को अर्ध्य दे पति के हाथों जल ग्रहण कर व्रत का समापन किया जाता है।
इस समय शुभ होगी करवा चौथ की पूजा
पंडित दिनेश दुबे ने बताया कि करवा चौथ की पूजा का शुभ समय शाम 8.16 बजे का है। ये पूजा 9.15 मिनट तक भी की जा सकती हैं। इसके बाद कोई शुभ समय नहीं हैं। उन्होंने बताया कि चन्द्रमा की पूजा से पहले घर में कलश स्थापित कर श्रीगणेश, शिव, पार्वती (गौरी) की पूजा विधि विधान से करनी चाहिये फिर इसके बाद चन्द्रमा की पूजा करने के बाद पति के हाथ से व्रत समाप्त करना चाहिये। इस पर्व पर मिट्टी के करवा से ही पूजा करना शुभ होता हैं।
3 – उपचुनाव को लेकर विद्या भारती की सभी विषयों की परीक्षाएं अब 19 को

हमीरपुर । जिले में सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर कॉलेज की 21 अक्टूबर को होने वाली अर्द्धवार्षिक परीक्षा उपचुनाव को लेकर स्थगित कर दी गई है। अब सभी विषयों की परीक्षाएं शनिवार को होंगी।
सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर कॉलेज हमीरपुर के प्रधानाचार्य रमेश चन्द्र ने बुधवार को दोपहर बताया कि विद्या भारती की अर्द्धवार्षिक परीक्षा 21 अक्टूबर को होनी थी लेकिन उपचुनाव को लेकर अब सभी विषयों की परीक्षा 19 अक्टूबर को होगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश के कई स्थानों पर उपचुनाव के चलते विद्या भारती ने परीक्षा तिथि में परिवर्तन किया हैं। इसलिए 21 अक्टूबर को विद्यालय में अवकाश रहेगा।
4 –  करवाचौथ का सामान लेकर घर जा रही महिला को मोटरसाइकिल ने रौंदा, गंभीर

हमीरपुर । जिले में करवाचौथ की पूजन सामग्री लेकर घर जा रही एक महिला को कानपुर-सागर नेशनल हाइवे-34 पर तेज रफ्तार मोटरसाइकिल ने टक्कर मार दी जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गयी। पूजन सामग्री भी नष्ट हो गयी। महिला को इलाज के लिये सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं।
जिले के मौदहा कस्बा निवासी श्रीमती निधि (26) पत्नी दयाशंकर गुरुवार को दोपहर बाद करवाचौथ के पूजन की सामग्री लेने बाजार गयी थी। वह हंसी खुशी घर लौट रही थी तभी कानपुर-सागर नेशनल हाइवे पर बड़े चौराहे में एक मोटरसाइकिल ने उसे टक्कर मार दी जिससे वह सड़क पर गिरकर घायल हो गयी। घटना की सूचना कोतवाली में दे दी गयी हैं।
6 – नटराज मोबाइल प्रा.लि.पर सात हजार रुपये का जुर्माना

जिले के बिंवार गांव निवासी मुकेश सिंह ने नटराज मोबाइल प्रा.लि.शाखा हमीरपुर, नटराज मोबाइल प्रा.लि.झांसी एवं विश्व प्रताप बुन्देला के खिलाफ हमीरपुर फोरम कोर्ट में एक वाद दायर किया था। इसने अपनी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन व बीमा कराकर वापस दिलाये जाने अथवा उससे ली गयी अधिक धनराशि 239080 रुपये मय ब्याज सहित दिलाने की मांग की थी। इस मामले को लेकर फोरम कोर्ट के अध्यक्ष राम कैलाश व उमेश कुमार सदस्य की पीठ ने फैसला देते हुये विपक्षियों को आदेश दिये कि पीड़ित से गाड़ी की ली गयी अधिक धनराशि ब्याज सहित उपलब्ध करायी जाये। कोर्ट ने सात हजार रुपये का जुर्माना भी किया हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram