(हमीरपुर बुलेटिन) दबंगों ने पट्टा धारक गरीबों के ढहाये मकान, जांच शुरू, पढ़ें दिनभर की खबरें

1- हमीरपुर-छात्रा की मार्कशीट में गड़बड़ी करने पर स्कूल कर्मी निलम्बित

हमीरपुर । मौदहा कस्बे के एक इण्टर कालेज में मार्कशीट में गड़बड़ी करके धन उगाही करने में शनिवार को विद्यालय के एक कर्मचारी को निलम्बित कर दिया गया।
नेशनल इण्टर कालेज में पढ़ने वाली इण्टरमीडियेट की छात्रा संध्या पुत्री सियाराम के अंकपत्र में व्यक्तिगत रूप से विद्यालय के एक कर्मी लाल सिंह ने पिता का नाम गलत अंकित कर दिया। छात्रा ने मार्कशीट में अपने पिता का नाम सियाराम की जगह रियाराम देख कर्मी से शिकायत की। कर्मचारी ने गलत नाम सुधारने के एवज में धन की मांग की। छात्रा ने यह बात अपने परिजनों को बतायी। संध्या के पिता ने इस मामले की शिकायत प्रधानाचार्य कौशल किशोर दिहौलिया से की।
इस पर प्रधानाचार्य ने कार्यालय के रिकार्ड निकलवाकर मामले की जांच करायी तो इस पूरे मामले में लाल सिंह कर्मचारी को दोषी पाया। प्रधानाचार्य ने कर्मचारी को शनिवार को निलम्बित कर दिया। साथ ही एक जांच कमेटी भी गठित कर दी है। प्रधानाचार्य ने बताया कि रिकार्ड की जांच में छात्रा की शिकायत सही पायी गयी, जिस पर कर्मचारी को निलम्बित कर जांच कमेटी गठित की गयी है।
2- हमीरपुर-पानी से लबालब भरी बंधी में दो बच्चे डूबे, हालत नाजुक
हमीरपुर । मौदहा कोतवाली क्षेत्र के कम्हरिया गांव स्थित मस्तान शाह बाबा की दरगाह में जियारत करने महोबा से आये दो बच्चे कम्हरिया बंधी में डूब गये। दोनों बच्चों को बाहर निकालकर सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां हालत गंभीर होने पर सदर अस्पताल के लिये रेफर कर दिया गया है।
महोबा जनपद के इस्लाम व रहीस परिवार समेत कार से शनिवार को मौदहा क्षेत्र के कम्हरिया गांव में मस्तान शाह बाबा की दरगाह पर जियारत करने आये थे। फैजल (12) पुत्र इस्लाम व फैसल (12) पुत्र रहीस परिजनों की नजर बचाकर कम्हरिया बंधी में भरे पानी में नहाने चले गये। अनजाने में दोनों बच्चे गहरे पानी में जाते ही डूब गये। दोनों बच्चों को डूबते देख आसपास मौजूद लोगों ने शोर मचाया। परिजनों ने ग्रामीणों की मदद से दोनों बच्चों को कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकालकर सरकारी अस्पताल ले जाया गया, तत्पश्चात् हालत नाजुक होने पर सदर अस्पताल के लिये रेफर कर दिया गया।
3- हमीरपुर-डेंगू ने गांव को लिया गिरफ्त में, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने डेरा डाला
हमीरपुर । राठ क्षेत्र के गल्हियां गांव में डेंगू बुखार की चपेट में पूरा गांव आ गया है। लगातार मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में डेरा डाल दिया है। शनिवार को आठ मरीजों की डेंगू की जांच की गयी तो एक महिला में डेंगू के खतरनाक लक्षण पाए गये, जिसे इलाज के लिये झांसी मेडिकल कालेज भेजा गया है। गांव में अभी तक डेंगू मरीजों की संख्या 28 के पार हो गयी है।
उल्लेखनीय है कि गल्हिया गांव में लगातार निकल रहे डेंगू के मरीज से स्वास्थ्य विभाग बिल्कुल भी सतर्क नहीं है। गांव में डेरा जमाये स्वास्थ्य विभाग की टीम खानापूरी कर रही है। न ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा डेंगू की जांच कराई जा रही है और न ही दवा वितरण हो रहा है। शनिवार को सीएचसी राठ में आठ लोगों की डेंगू की जांच हुई। जिसमें सुदर्शन की 30 वर्षीया पत्नी सावित्री देवी डेंगू पॉजिटिव पाई गई।
जांच कराने आये मरीज अस्पताल में भटकते रहे
सीएचसी राठ में डेंगू की जांच कराने आये मरीजों को फार्म भरवाने के लिये इधर से उधर भटकना पड़ रहा है। जब फार्म नहीं भरा तो वह तहसील परिसर में एसडीएम से शिकायत करने के लिये पहुंचे। एसडीएम के न होने पर मरीज बैरंग सीएचसी लौट गये। गांव निवासी रामपाल पुत्र बहादुर ने बताया कि गांव में बीते 25 दिनों से डेंगू का प्रकोप फैला हुआ है। गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच के नाम पर खाना पूरी कर रही है। आरोप लगाया कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी डेंगू की जांच नहीं कर रहे। जांच कराने के लिये उन्हे राठ सीएचसी आना पड़ रहा है।
आरोप लगाया कि जांच के दौरान उन्हे एक फार्म थमा दिया और कहा कि यह फार्म डाक्टर से भरवाकर लाओ। जब वह डाक्टर के पास फार्म लेकर गया तो डाक्टर ने फार्म भरने से इंकार कर दिया। आरोप लगाया कि वह डेंगू की जांच के लिये सीएचसी दो घंटे भटकता रहा। जब उसे कोई रास्ता नहीं दिखा तो वह एसडीएम के पास शिकायत करने पहुंचा। इसी गांव के शिशुपाल ने बताया कि वह अनपढ़ है। उसे नाम लिखना तो दूर वह फार्म कैसे भरे। लेकिन सीएचसी में स्टाफ इधर से उधर भगा रहा है। सीएचसी अधीक्षक डा.आरके कटियार ने बताया कि सभी मरीजों के फार्म भरकर उनकी जांच करा दी गई है।
4- हमीरपुर- सामाजिक दूरी के बीच नागनाथ लीला की निभाई गई रस्में
हमीरपुर । सुमेरपूर कस्बे के चांद थोक स्थित श्री कृष्ण मंदिर में कृष्ण राधा व बलराम की झांकी सजाकर उनकी पूजा अर्चना करने के बाद नाग नाथ लीला का मंचन मंदिर के अंदर करके तीजा मेला के दौरान दिखाई जाने वाली कृष्ण लीला की औपचारिकता निभाई गयी। इस दौरान जल विहार कमेटी के अलावा पुलिस भी मौजूद रही।
गौर तलब है कि इस वर्ष कोरोना संक्रमण के कारण तीजा मेला का आयोजन निरस्त कर दिया गया है। जल विहार कमेटी चांद थोक में स्थित श्रीकृष्ण मंदिर से राधा कृष्ण की झांकी की पूजा अर्चना करके दो दर्जन से अधिक झांकियों की भव्य शोभा यात्रा नगर में निकलती थी। कस्बे के हरचन्दन तालाब में नागनाथ लीला दिखाई जाती थी। शोभा यात्रा तथा नाग नाथ लीला देखने को बेशुमार भीड़ एकत्र होती थी। डेढ़ सौ वर्ष पुरानी इस परम्परा का निर्वहन लगातार होता आया है जो इस वर्ष बड़े रूप में नहीं हो पाया तो कमेटी के लोगों ने सूक्ष्म रूप से इस परम्परा का निर्वहन पुलिस की मौजूदगी में किया।
मंदिर के अभ्यान्तर में कृष्ण राधा व बलराम के पात्र सजाकर पहले राधा कृष्ण की विधिवत पूजा अर्चना की गयी। इसके बाद नाग नाथ लीला का मंचन की औपचारिकता निभाकर परम्परा को कायम रक्खा गया। इस दौरान जल विहार कमेटी के प्रबंधक ब्रजलाल सिंह, सचिव नवल किशोर मिश्रा,महेश पांडेय, मुन्ना पांडेय, ओमेश सिंह, सुरेश यादव, संजीव पांडेय, मनोज पाण्डेय, रमेश सिंह के अलावा पुलिस इंस्पेक्टर भी मौजूद रहे। यह कार्यक्रम भी सोशलडिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए किया गया।
5- हमीरपुर- दबंगों ने पट्टा धारक गरीबों के ढहाये मकान, जांच शुरू
हमीरपुर । मौदहा कोतवाली क्षेत्र के ग्राम भमौरा निवासी आधा दर्जन से अधिक लोगों ने शनिवार को कोतवाली में शिकायती पत्र देकर बताया है कि शासन द्वारा आवासीय स्वीकृत पट्टा पर मकान बनने से मना कर रहे गांव के ही कुछ लोगों द्वारा जान से मारने की धमकी दी जा रही है जिससे गांव में शांति भंग होने की आशंका है।
ग्राम भमौरा के लोगों को सरकार द्वारा आवासीय पट्टे वितरित किए गए थे जिस पर गांव के रज्जन शाह, इदरीश,  सुरेश कुमार, रहीम जमील,  पहलवान, परधेष, नफीस उद्दीन,  प्यारेलाल आदि ने कोतवाली मौदहा में तहरीर देते हुए बताया है कि उन्हें ग्राम भमौरा में गाटा संख्या 232 वह गाटा संख्या 233 में आवासीय पट्टा सरकार द्वारा स्वीकृत किया गया था, जिस पर प्रार्थी गण मकानों का निर्माण कर रहे थे उसी समय ग्रामवासी शेख अहमद पुत्र थेला, दानिश खान पुत्र जमील उर्फ गामा, शफीक खान व नफीस खां पुत्र गण लईक अहमद उर्फ बच्चू सभी अपने अपने हाथों में लाइसेंसी व नाजायज तमंचा डंडा लिए हुए आ गए और मां बहन की गालियों से अपमानित कर आतंक का माहौल पैदा कर दिया और प्रार्थी गणों के अर्ध निर्मित मकानों को गिरा दिया शोर शराबा सुनकर तमाम ग्रामवासी इकट्ठे हो गए।
 घटना की सूचना प्रार्थी गणों ने 112 नंबर डायल कर पुलिस को दी थी तो उक्त लोग धमकी देते हुए वहां से भाग गए। प्रार्थी गणों द्वारा दिए गए प्रार्थना पत्र पर कोतवाली प्रभारी मनोज शुक्ला ने घटना की जांच पड़ताल कर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है।
6- हमीरपुर- माताटीला डैम से फिर छोड़ा गया डेढ़ लाख क्यूसेक पानी, पुलिस ने किया एलर्ट
हमीरपुर । माताटीला बांध से डेढ़ लाख क्यूसेक पानी शनिवार को छोड़े जाने से यहां हमीरपुर में बेतवा और यमुना नदियों में अब बाढ़ का खतरा मंडरा गया है। नदियों का जलस्तर तेजी से बढऩे से तटवर्ती इलाकों में हड़कंप मच गया है। बेतवा नदी पांच सेमी तथा यमुना नदी तीन सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है। पुलिस ने आज शाम नदियों के तटवर्ती क्षेत्रों में गश्त कर ग्रामीणों को लाउडस्पीकर से एलर्ट किया है।
जालौन जिले से बहते हुये यमुना नदी हमीरपुर तहसील क्षेत्र में मनकी खुर्द, बरुआ, बिलौटा, भौली, भटपुरा, जलाला, जमरेही तीर, बचरौली, सिकरोढ़ी,  सुरौली बुजुर्ग सहित दर्जनों गांवों को प्रभावित करती है। वहीं बेतवा नदी झांसी से होते हुये हमीरपुर जिले के सरीला तहसील और हमीरपुर तहसील क्षेत्र के दर्जनों गांवों में तबाही मचाती है। आज माता टीला डैम से सुबह 80000 क्यूसेक पानी छोड़ा गया फिर शाम होते ही डेढ़ लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने की सूचना आते ही यहां लोगों में हड़कंप मच गया है। केन्द्रीय जल आयोग के मुताबिक यमुना में बारिश का पानी आ रहा है जिससे ये नदी तीन सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है।
मौदहा बांध निर्माण खंड हमीरपुर के अधिशाषी अभियंता एके निरंजन ने बताया कि माता टीला बांध से आज 80 हजार क्यूसेक पानी बेतवा नदी में छोड़ा गया है। शनिवार की रात तक डेढ़ लाख क्यूसेक पानी हो सकता है। इससे बेतवा नदी का जलस्तर दो मीटर तक बढ़ेगा। हालांकि अभी बेतवा नदी खतरे के निशान से आठ मीटर नीचे बह रही है। 158 एमएम बारिश होने से डैम के गेटों से लगातार पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है। अधिशाषी अभियंता ने बताया कि डैम से पानी छोड़े जाने का असर सोमवार को हमीरपुर में दिखने लगेगा। फिलहाल नदियों के जलस्तर पर नजर रखी जा रही है। इधर पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार के निर्देश पर आज शाम जलालपुर और अन्य थाना क्षेत्रों में पुलिस ने बेतवा नदी के तटवर्ती इलाकों में लाउडस्पीकर के माध्यम से ग्रामीणों को एलर्ट किया है।
पुलिस ने ग्रामीणों को सतर्क करते हुये कहा कि नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है ऐसे में कोई भी मवेशी लेकर नदी के किनारे न जाये और न ही नदी में मछली का शिकार करे। क्योंकि कोई भी हादसा हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram