(हमीरपुर बुलेटिन) नलकूप में सो रहे किसान की हत्या कर शव फेंका , पढ़े दिनभर की खबर

1- महाशिवरात्रि : शिवमन्दिरों में जलाभिषेक को श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़
 
जनपद में महाशिवरात्रि पर्व को लेकर शुक्रवार को सुबह से ही शिवमंदिरों में आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। एतिहासिक शिवमंदिरों में ओम नम: शिवाय का जाप भी शुरू हो गया है जो देर रात चलेगा। महाशिवरात्रि पर्व की रंगत सिंह महेश्वर मंदिर और पतालेश्वर मंदिर में देखती ही बन रही है।
इसी तरह शल्लेश्वर महादेव मन्दिर में जलाभिषेक करने वालों का तांता लग गया है। भंग और तरंग के इस पावन पर्व में शिवमन्दिरों की भव्यता और सुन्दरता देखते ही बन रही है। श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुये पुलिस ने सुरक्षा के तगड़े इंतजाम किये हैं।

महाशिवरात्रि का पर्व शुक्रवार को हमीरपुर व उसके आसपास के इलाकों में पूरे जोश—खरोश से मनाया जा रहा है। सुबह से ही नगर के पतालेश्वर, मन्दिर में जलाभिषेक करने के लिये श्रद्धालुओं की लम्बी लाइन दर्शन के लिये लगी है। श्रद्धालुओं ने पताली शिवलिंग पर पहले तो यमुना के जल से जलाभिषेक किया फिर शहद और दही से स्नान कर शिवलिंग की पूजा अर्चना की गयी। मंदिर में अन्य शिवलिंग की पूजा भी भक्तों ने की। यमुना नदी किनारे बने इस प्राचीन मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी संख्या को देखते हुये पुलिस प्रशासन ने बेहतर इंतजाम किये हैं। महिला सिपाहियों की भी तैनाती की गयी है।
नगर से कुछ किमी दूर सिंह महेश्वर मंदिर में भी हजारों शिव भक्तों ने जलाभिषेक कर पूजा अर्चना की। यहां यमुना, बेतवा नदी के संगम पर पहले तो लोगों ने स्नान किया फिर संगम से जल लेकर सिंह महेश्वर मंदिर में जाकर शिवलिंग का जलाभिषेक किया। शिवलिंग में भांग, धतूरा, गेहूं की बाली और बेल चढ़ाकर शिव भक्त बम-बम भोले के जयकारा लगा रहे हैं।
कलेक्ट्रेट परिसर पर मराठाकालीन मंदिर में भी शिवलिंग का जलाभिषेक करने के लिये लोगों की भीड़ उमड़ी। मंदिर में स्थापित शिवलिंग का इतिहास सैकड़ों साल पुराना है। हाथी दरवाजा स्थित भी चंदेलकालीन शिवमंदिर में महाशिवरात्रि की धूम मची हुयी है। सुमेरपुर क्षेत्र के सिमनौड़ी गांव में स्थित मनेश्वर बाबा के मंदिर में भी सुबह से पूजा अर्चना के लिये श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। इस मंदिर में ओम नम: शिवाय का जाप चल रहा है जो देर रात तक चलेगा। मंदिर में मेले का भी आयोजन किया गया है।
कुरारा क्षेत्र के चंदूपुर में भी प्राचीन शिवमंदिर में महाशिवरात्रि पर भक्तों का रैला लगा है। मंदिर परिसर बम—बम भोले के उद्घोष से गूंज रहा है। राठ कस्बे में चौपेश्वर मन्दिर में महाशिवरात्रि महोत्सव को लेकर धार्मिक अनुष्ठान किये गये हैं। इस मंदिर में भी 36 से अधिक गांवों के श्रद्धालु जलाभिषेक करने के लिये पहुंचे हैं। मंदिर के अंदर और बाहर भारी भीड़ एकत्र है। सरीला में तो सल्लेश्वर महादेव मन्दिर महाशिवरात्रि पर भव्यता और सुन्दरता देखते ही बन रही है। खराब मौसम के बावजूद सुबह से इस मंदिर में जलाभिषेक का सिलसिला शुरू हुआ जो अनवरत जारी है। यह मंदिर गुप्तकालीन है इसीलिये श्रद्धालुओं की इसमें आस्था है। मंदिर के बाहर मेला भी लगा है। यमुना नदी पार बिहारेश्वर व बीबीपुर में गौरीशंकर बाबा मंदिर में महाशिवरात्रि को लेकर धार्मिक अनुष्ठान किये जा रहे है।
ब्रह्मकुमारी संस्था में त्रिमूर्ति शिव का केक कटा
हमीरपुर नगर के अमन शहीद इलाके में दुर्गा मंदिर के पास प्रजापति ब्रह्म कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय में भी महाशिवरात्रि का पर्व हर्षाेल्लास से मनाया गया। ब्रह्मकुमारी मीरा सहित तमाम बहनों ने सामूहिक रूप से यहां शिव का झंडा रोहण कर मोमबत्ती जलायी। 84वीं त्रिमूर्ति शिव जयंती का केक भी काटा। ब्रह्मकुमारी की बहनों ने विद्यालय का परिचय देते हुये बताया कि यह संस्था आज भारत और विश्व के 133 देशों में अपनी 8000 से अधिक शाखाओं के साथ एक विशाल वट वृक्ष की भांति विकसित हो गया है। इन सेवा केन्द्रों पर नौ लाख विद्यार्थी हर रोज नैतिक व आध्यात्मिक मूल्यों की शिक्षा ग्रहण करते हैं। हमीरपुर सेवा केन्द्र की संचालिका बहन ने महाशिवरात्रि का महत्व बताते हुये कहा कि शिव के बाद रात्रि शब्द जुड़ा है। रात्रि अज्ञानता अंधकार का प्रतीक है जो बेर चढ़ाये जाते है वह विरोध का प्रतीक भी है। उन्होंने कहा कि धतूरे के फल चढ़ाते हैं वह पांच विकारों का प्रतीक है। जब धर्म ग्लानि के समय निराकार परमात्मा शिव ने वृहद तन का आधार को लेकर अवतरित हुये थे। उन्होंने बताया कि ये विकार मुझे दे दो इसलिये मुझे विषधर कहते है। श्रीमत पर चलकर जीवन को पवित्र और योगी बनाना चाहिये क्योंकि वापस घर चलना है।
2- हमीरपुर – नलकूप में सो रहे किसान की हत्या कर शव फेंका, जांच में जुटी पुलिस

हमीरपुर । सुमेरपुर थाना क्षेत्र में शुक्रवार को सुबह नलकूप में सो रहे किसान की हत्या कर दी गयी। शव कुछ दूर पर स्थित रेलवे लाइन के पास मिला। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।
देवगांव निवासी जाकिर हुसैन किसान था। परिवार में पत्नी हसीना व दो बेटे हैं। बड़ा बेटर सद्दाम गुजरात राज्य के अहमदाबाद में एक फैक्ट्री में काम करता है, जबकि छोटा बेटा इमरान किसी काम के सिलसिले में झांसी गया है। किसान जाकिर के पास दस बीघे जमीन का मालिक था और निजी नलकूप भी गांव के बाहर है। पिछले कई दिनों से किसान अपनी फसल की रखवाली करने के लिये नलकूप में रह रहा था। गुरुवार को भी किसान नलकूप में सो रहा था। शुक्रवार तड़के उसका शव नलकूप से कुछ दूर रेलवे लाइन के पास किनारे पड़ा मिला। घटना की सूचना पर समुरेपुर थानाध्यक्ष श्रीप्रकाश यादव पहुंचे और जांच पड़ताल की। मृतक की पत्नी हसीना ने आरोप लगाया कि पति का अपहरण कर हत्या की गई है और अज्ञात हत्यारों ने शव फेंका है।
अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि हत्या की घटना के पीछे कारणों व हत्यों का पता लगाया जा रहा है। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम भेजते हुए मौत के कारणों का पता लाया जा रहा है। मृतक के बेटों को घटना की दे दी गई है।
3- प्राचीन मंदिरों में कांवरियों ने कांवर चढ़ाकर किया जलाभिषेक

-महाशिवरात्रि पर दोपहर बाद शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़ 
महाशिवरात्रि पर जनपद के तमाम एतिहासिक शिव मंदिरों में शुक्रवार को दोपहर बाद कांवरियों ने जलाभिषेक किया। बड़ी संख्या में लोगों ने जमीन पर घिसटती हुयी मंदिर पहुंची जहां भगवान भोले नाथ का विधि विधान से पूजा अर्चना की।
कुरारा ब्लाक के शंकरपुर गांव में यमुना नदी किनारे शिव मंदिर स्थित है। ये मंदिर सैकड़ों साल पुराना है। इस बार महाशिवरात्रि पर इस मंदिर को खूब सजाया गया है। खराब मौसम के बावजूद दोपहर बाद हमीरपुर के दर्जनों इलाकों और पड़ोसी जालौन, कानपुर देहात से बड़ी संख्या में कांवरियों ने आकर इस मंदिर में कांवर चढ़ाया फिर शिव लिंग का जलाभिषेक किया। जलाभिषेक किया। कई गांव से आयी महिलाओं ने जमीन पर घिसटती हुयी मंदिर तक पहुंची और धार्मिक अनुष्ठान मेें भाग लिया। यहां मेले का आयोजन भी किया गया है जो देर रात मंदिर में जागरण कार्यक्रम होंगे। उधर जिले के सरीला कस्बे में भी प्राचीन मंदिर में कांवरियों ने कांवर चढ़ाते हुये जलाभिषेक किया है। राठ कस्बे में चौपेश्वर मंदिर में भी इस समय कांवरियों की लाइन लगी है।

4- एनडीआरएफ टीम ने ग्रामीणों को आपदा से निपटने का दिया प्रशिक्षण

हमीरपुर । जनपद के कुरारा थाना क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित दो गांवों में शुक्रवार फेमेक्स कार्यक्रम के तहत एनडीआरएफ टीम ने जायजा लिया। यहां की भौगोलिक स्थिति की पता कर ग्रामीणों को आपदा प्रबंधन की जानकारी के साथ प्रशिक्षित भी किया गया।
जिले के कुरारा ब्लाक के मनकी और सिकरोढ़ी गांव यमुना नदी किनारे बसे हैं। फेमेक्स कार्यक्रम के तहत वाराणसी से आयी 11वीं एनडीआरएफ की 20 सदस्यीय टीम ने दोनों गांवों में बाढ़ग्रस्त इलाके का घूम-घूम कर जायजा लिया। यहां पर गांव पंचायत भवन में आपदा प्रबंधन के बारे में ग्रामीणों को जानकारी दी गई। कमांडर अमोल कुमार ने आपदा से निपटने के बारे में समझाया। उनके साथ टूआईसी मुकेश चौहान, राजेन्द्र नेगी, प्रमोद तथा अरविन्द ने ग्रामीणों को उपलब्ध सामानों से प्राथमिक उपचार, स्ट्रेचर बनाना, थर्माकोल, बोतल व जरीकेन से तैरने वाली सामग्री बनाने के साथ सर्पदंश में प्राथमिक उपचार करने के तरीके भी बताये।
टीम कमांडर ने ग्रामीणों को डेमो देकर विषम परिस्थिति के बारे में भी गांव वालों को प्रशिक्षित किया। इस मौके पर प्रधान बाबा रामदास, लेखपाल रमेश चन्द्र व अन्य ग्रामीण मौजूद रहें। टीम कमांडर ने बताया कि शनिवार को आपदा प्रबंधन को लेकर मौदहा ब्लाक क्षेत्र के गांवों का निरीक्षण कर ग्रामीणों को प्रशिक्षित किया जायेगा।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

5- शिव बारात में उमड़ा जन सैलाब, पागल अघोरी और भूतों ने किया डांस

जिन्दा सांप हाथों में लिये शंकर जी शोभायात्रा में किया नृत्य, लोगों ने बरसाये पुष्प
जनपद में शुक्रवार को शाम हर—हर, बम—बम के गगन भेदी नारों के साथ सरीला में भगवान भोलेनाथ की दूल्हा रूप में विशाल शोभायात्रा बैण्डबाजे के साथ निकाली गयी, जिसे देखने के लिये जनसैलाब उमड़ा। शोभायात्रा में विभिन्न रूप धरे मनोहारी स्वांग आकर्षण का केन्द्र रहें। हाथी और सैकड़ों घोड़ों के साथ नागिन बैण्ड, भांगड़ा भी शामिल रहें।
महाशिवरात्रि महोत्सव पर सरीला में भगवान शिव की बारात में शामिल होने क्षेत्र के लाखों लोग का सैलाब उमड़ा। शिव को दूल्हा के रूप में डूंडा बैल पर बैठाकर एतिहासिक शल्लेश्वर मंदिर से जब बारात चली तो हर—हर, बम—बम के जयकारों से माहौल गूंज उठा। उनके साथ में विकराल रूप धरे वीरभद्र आदि शिवगण भी चल रहे थे तो विभिन्न रूपों में स्वांग लिये लोग भी करतब दिखाते सभी को आकर्षित कर रहे थे। इसमें एक हाथी तथा दो सैकड़ा से भी ज्यादा घोड़े शामिल रहें। पछइया लुहार, पागल व अघोरी जैसे स्वांग मनोहारी रहे। अभिनव, बुन्देलखण्ड, शलेश्वर विद्यालयों जरिये सजाई गयी झाँकियां शोभायात्रा में आकर्षक का केन्द्र रही। शोभायात्रा में दो दर्जन से ज्यादा झाँकियाँ सजाई गयी। भगवान शिव की शोभायात्रा और बारात में अश्लीलता भी दिखायी दी जिससे आम लोग तरह-तरह की बातें भी कर रहे थे।
सुरक्षा के लिहाज से सीओ स्वयं पुलिस बल के साथ मौजूद रहें। शिव बारात नगर में भ्रमण के बाद वापस देर रात मंदिर आयी जहां राजा हिमांचल के रूप में दो सौ से अधिक लोगों ने शिवजी का टीका किया। बाद में वैदिक रीतिरिवाज से शिव पार्वती की शादी की रश्मि पूरी की गयी। शल्लेश्वर मन्दिर को महाशिवरात्रि के दिन खूब सजाया गया था। शिव लिंग को भी दूल्हे की तरह सजाया गया था रात्रि में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है जिसे देखने के लिये आसपास के इलाकों से बड़ी तादाद में लोग मौजूद रहेंगे। इधर बेरी गांव में भगवान शिव की बारात बैण्डबाजे और धूमधड़ाके के साथ निकाली गयी जिसमें बड़ी तादाद में महिलायें और पुरुषों ने हिस्सा लिया। शिव बारात में लोग भांग खाकर जमकर नाचे।
कुरारा क्षेत्र के एक दर्जन गांवों में महाशिवरात्रि पर्व पर शिव बारात धूमधाम से निकालकर शिव पार्वती की शादी की रस्में पूरी की गयी। हजारों की संख्या में लोग बाराती बनकर नृत्य किया। कस्बे में मुख्य बाजार स्थित शिव मंदिर से शिव बारात दोपहर बाद बैण्डबाजे के साथ निकाली गयी, जिसमें हजारों शिव भक्त बाराती बनकर शामिल हुये। इसमें महिलायें भी बड़ी संख्या में मौजूद रही। शिव बारात में शामिल लोगों ने बम बम भोले का उद्घोष करते हुये सड़कों पर नृत्य किया। रिठारी गांव में गाजेबाजे के साथ शिव बारात निकाली गयी।
मौदहा कस्बा सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में कई जगह शिव बारात एवं रूद्राभिषेक के कार्यक्रम सम्पन्न हुये, साथ ही शिव मन्दिरों में अखण्ड भजन कीर्तन कराये गये हैं। मौदहा के फत्तेपुर स्थित शिव मन्दिर से शंकर जी की भव्य बारात निकाली गयी। यह बारात शिव मन्दिर से प्रारम्भ होकर फत्तेपुर मोड़ से बस स्टैण्ड, तहसील मार्ग, मलिकुआं चौराहा, थाना चौराहा, मराठीपुरा, टेवनबाबा, बड़ी देवी मन्दिर मीरातालाब होते हुये पुनः शिव मन्दिर में सम्पन्न हुयी।
शिव बारात की सुरक्षा व्यवस्था में कोतवाली प्रभारी सहित महिला व पुरूष कांस्टेबल तथा पीएसी बल तैनात रहा है। वहीं कस्बे के स्टेशन मार्ग स्थित शिवशक्ति मन्दिर में भजन कीर्तन सम्पन्न हुआ। इसके आलावा कस्बे के टेवन बाबा, नारायण शिव मन्दिर, ओरी तालाब शिव मन्दिर में सुबह से ही शिव भक्तों का तांता लगा रहा। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में खण्डेह, सिसोलर, भैंसमरी, सिजनौडा, गुरदहा सहित दर्जनों गांव में स्थित शिवालयों में हर हर बम बम की गूंज के साथ सुबह से ही पूजन अर्चन, रूद्राभिषेक तथा भजन कीर्तन के कार्यक्रम आयोजित किये गये हैं।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

6- थाने में बीए के छात्र ने आत्मदाह करने का किया प्रयास

-पुलिस ने लाइटर छीनकर युवक को किया गिरफ्तार
जनपद के बिंवार थाने में शुक्रवार को एक बीए के छात्र ने इश्क के इंतहान में फेल होने पर पेट्रोल डालकर आत्मदाह की कोशिश की। पुलिस ने दौड़़कर उसे बचाते हुये गिरफ्तार कर लिया है।
बिंवार थाना क्षेत्र के पाटनपुर गांव निवासी देवीदीन पुत्र रामप्रकाश कुशवाहा कानपुर देहात में बीए में पढ़ता है। इससे फेसबुक में झांसी जनपद के एक कस्बे में रहने वाली लड़की से दोस्ती हो गयी। घटना की जानकारी होने पर परिजनों ने लड़की का मोबाइल तोड़ डाला और उसे कमरे में बंद कर दिया है। इस बात की जानकारी होने पर ये छात्र बोतल में पेट्रोल लेकर सीधे थाने पहुंच गया और पेट्रोल छिड़कर खद को आग लगाने लगा इसी बीच महिला सिपाही कुंती देवी व सिपाही कुलदीप ने दौड़कर युवक से लाइटर छीन लिया और उसे गिरफ्तार कर लिया। युवक ने बताया कि लड़की से बातचीत न होने के कारण वह आत्मदाह करने वाला था लेकिन पुलिस ने उसे पकड़ लिया है। थानाध्यक्ष आरके वर्मा ने बताया कि ये छात्र अपने जेब में जहरीला पदार्थ भी रखे था। फिलहाल इसके खिलाफ कार्यवाही की जा रही है।

2 thoughts on “(हमीरपुर बुलेटिन) नलकूप में सो रहे किसान की हत्या कर शव फेंका , पढ़े दिनभर की खबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram