(हमीरपुर बुलेटिन) बिजली चोरी में 234 के खिलाफ एफआईआर, पढ़ें दिनभर की खबरें

1-  हमीरपुर –हमीरपुर में अब घर पर रहकर दे रहे कोरोना वायरस महामारी को मात

हमीरपुर । कोविड-19 पर काबू पाने के लिए शुरू की गई होम आइसोलेशन की सुविधा का लाभ लेते हुए और तय दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए अब तक जनपद के 11 मरीजों ने कोरोना को मात दी है। जबकि छह मरीज अब भी होम आइसोलेशन में हैं।
कोविड-19 के सर्विलांस अधिकारी डॉ.एमके बल्लभ ने बुधवार को बताया कि जनपद में प्रतिदिन बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव होम आइसोलेशन के लिए आवेदन कर रहे हैं। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम मरीज के घर का दौरा करके शासन द्वारा निर्धारित किए गए मानकों को परखती है। अगर मरीज का घर मानकों में आता है, तो उसे होम आइसोलेशन की सुविधा प्रदान की जाती है, बशर्ते मरीज लक्षणविहीन होना चाहिए।
होम आइसोलेशन के नोडल अधिकारी डॉ.पीके सिंह ने बताया कि अब तक 17 लोगों को होम आइसोलेशन की सुविधा प्रदान की जा चुकी है, जिसमें 11 मरीज घर पर रहते हुए पूरी तरह ठीक भी हो गए हैं। छह मरीजों का होम आइसोलेशन अब भी जारी है।
कैसे मिलेगी होम आइसोलेशन की सुविधा
इस सुविधा के लिए जरूरी है कि इलाज करने वाले चिकित्सक के द्वारा कोरोना पॉजिटिव को लक्षणरहित रोगी के रूप में चिन्हित किया गया हो। रोगी के निवास पर स्वयं को आइसोलेट करने एवं परिजनों को क्वॉरंटीन करने की सुविधा हो। घर में कम से दो शौचालय हों। 24 घंटे रोगी की देखरेख करने के लिए एक देखभाल करने वाला व्यक्ति हो। संपूर्ण आइसोलेशन अवधि के दौरान देखभाल करने वाले व्यक्ति एवं अस्पताल के मध्य संपर्क बनाए रखना जरूरी है।
ये भी करना होगा 
होम आइसोलेशन में रहने वाले लक्षणविहीन कोरोना पॉजिटिव मरीजों को एक किट खरीदकर अपने पास रखनी होगी। जिसमें पल्स ऑक्सीमीटर, थर्माेमीटर, मास्क, ग्लब्स, सोडियम हाइपोक्लोराइट साल्यूशन एवं प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली वस्तुएं होंगी। होम आइसोलेशन में रहने वाले रोगियों का होम आइसोलेशन कोरोना पॉजिटिव होने के दस दिनों पश्चात तथा पिछले तीन दिनों तक बुखार न आने की स्थिति में समाप्त माना जाएगा। इसके अगले सात दिनों तक रोगी घर पर ही रहकर अपने स्वास्थ्य की निगरानी करेगा।
इन्हें नहीं मिलेगी सुविधा
ऐसे रोगी जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता किसी कारणवश एचआईवी, अंग प्रत्यारोपित, कैंसर का उपचार कराने की वजह से कमजोर है, उन्हें होम आइसोलेशन की सुविधा नहीं मिलेगी। इसके अलावा 18 साल से कम और 60 साल से अधिक आयुवर्ग के व्यक्तियों को भी होम आइसोलेशन की सुविधा नहीं मिलेगी।
2-  हमीरपुर –प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से किसानों के घरों में आयी खुशहालीः डीएम
हमीरपुर । जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने बुधवार को बताया कि कोरोना वायरस महामारी के दौर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश भर के करोड़ों किसानों के लिये अनेक कल्याणकारी योजनायें शुरू की है, जिसमें प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, किसानों के बीच अत्यंत लोकप्रिय मानी जा रही है।
 कहा कि प्रदेश में इस योजना को अमलीजामा पहनाने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोई कसर बांकी नहीं रखी है। इस योजना के तहत सरकार किसानों के बैंक खातों में हर साल 6 हजार रुपये जमा करती है। किसान के बैंक खाते में यह धनराशि तीन बार किश्तों में भेजी जाती है।
 उन्होंने कहा कि यह योजना पूरी तरह से पारदर्शी है लेकिन कोरोना वायरस के चलते राजस्व विभाग के लेखपाल, अधिकारी गांवों और तहसीलों का दौरा नहीं कर पा रहे है इसलिये सरकार ने अब आनलाइन नाम जोड़ने की प्रक्रिया को आसान कर दिया है। इस योजना के लाभार्थी अपनी स्थिति की आनलाइन जांच के साथ ही आनलाइन अपना नाम भी जोड़ने के लिये  आवेदन कर सकते है।
जिलाधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से 1 लाख 81 हजार 461 किसानों को जोड़ा गया है। पहली किश्त के रूप में जनपद के 1 लाख 68 हजार 599 किसानों के बैंक खाते में धनराशि हस्तांतरित की गयी है। दूसरी किश्त के रूप में 1 लाख 61 हजार 960, तीसरी किश्त के रूप में 1 लाख 56 हजार 960 किसानों के बैंक खातों में धनराशि भेजी गयी है। इसी तरह से चौथी किश्त के रूप में 1 लाख 46 हजार 647, पांचवीं किश्त के रूप में 1 लाख 26 हजार 126 तथा छठवीं किश्त के रूप में 90876 किसानों के बैंक खाते में धनराशि भेजी गयी है।
जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद के किसानों के बैंक खातों में अभी तक 170.23 करोड़ की धनराशि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत भेजी गयी है।  जिलाधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत वेबसाईट पर किसानों को खुद को प्रधानमंत्री किसान योजना में पंजीकृत करने का विकल्प मौजूद है। अगर आपने पहले आवेदन किया है और आपका आधार ठीक से अपलोड नहीं हुआ है या किसी वजह से आधार नंबर गलत दर्ज हो गया है तो भी इसकी जानकारी भी इसमें मिल जाएगी।
 जिन किसानों को इस योजना का लाभ सरकार की तरफ से दिया गया है, उनके भी नाम जिलेवार,तहसील व गांव के हिसाब से देखे जा सकते हैं। सरकार ने सभी लाभार्थियों की पूरी सूची अपलोड किया हुआ है। इतना ही नहीं आपके आवेदन की स्थिति क्या है? इसकी जानकारी किसान आधार संख्या, बैंक खाता व मोबाइल नंबर के जरिये भी मालूम की जा सकती हैं।
बतायाकि किसी भी किसान का आवेदन किसी डॉक्यूमेंट (आधार, मोबाइल नंबर या बैंक खाता) की वजह से रुका है तो वह कागजात ऑनलाइन अपलोड भी कर सकते हैं। अगर आप किसान हैं और इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आप इस बेवसाइट की मदद लेकर अपना नाम खुद जोड़ सकते हैं।
3-  हमीरपुर – प्राइवेट पैथालॉजी में कोरोना की अब होगी निशुल्क जांच
हमीरपुर। जनपद के प्राइवेट पैथालॉजी व तीन निजी अस्पतालों में कोरोना वायरस की निःशुल्क जांच की जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग इन सभी को कोरोना की एंटीजन टेस्ट किट मुहैया कराएगा। इसे लेकर बुधवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में रजिस्टर्ड प्राइवेट पैथालॉजी संचालकों की बैठक भी हुई।
जनपद में मार्च से लेकर अब तक एंटीजन, ट्रूनेट, आरटीपीसीआर के माध्यम से करीब 51000 कोरोना की जांचें की जा चुकी हैं। इनमें कल मंगलवार तक 674 से लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। प्रतिदिन कम से कम 1400 के आसपास सैंपल लेकर जांचें की जा रही हैं। जांचों की रफ्तार बढ़ाने को लेकर अब प्राइवेट पैथालॉजी संचालकों को भी जिम्मेदारी सौंपी जा रही है। इसके लिए इन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा एंटीजन टेस्ट किट प्रदान की जाएंगी।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.आरके सचान की अध्यक्षता में बुधवार को जनपद के पैथालॉजी संचालकों और आयुष्मान भारत में रजिस्टर्ड तीन निजी अस्पतालों के संचालकों के साथ बैठक हुई।
 बैठक में डॉ.सचान ने जिलाधिकारी के निर्देश के बाद रजिस्टर्ड प्राइवेट पैथालॉजी संचालकों को कोरोना की निःशुल्क जांच की जिम्मेदारी सौंपते हुए कहा कि इसके लिए जरूरी किटें और अन्य सामग्री स्वास्थ्य विभाग मुहैया कराएगा। कोरोना के लक्षण वाले मरीजों के पैथालॉजी में बगैर कोई शुल्क लिए जांच की जाएगी। निजी अस्पतालों में आने वाले मरीजों की भी कोरोना की जांच निरूशुल्क होगी। अगर कहीं से शिकायत मिलती है कि कोरोना की जांच के नाम पर पैसा वसूला गया है तो संबंधित पैथालॉजी और निजी अस्पताल के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी।
सीएमओ ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी है। मानवीय दृष्टिकोण को अपनाते हुए सभी को अपनी जिम्मेदारी निभानी हैं। लोग प्राइवेट पैथालॉजी में जांच के नाम पर ज्यादा पैसा वसूले जाने के डर की वजह से नहीं आ रहे हैं। इसलिए शासन-प्रशासन ने रजिस्टर्ड पैथालॉजी में निरूशुल्क जांच के आदेश दिए हैं। इसका उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध कार्यवाही होगी।
4-  हमीरपुर – टीबी रोग से ग्रस्त बच्चों को जिलास्तरीय अधिकारी लेंगे गोद : डीएम
हमीरपुर । जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने बुधवार को अधिकारियों की बैठक में कहा कि टीबी बीमारी से ग्रस्त बच्चों को जिलास्तरीय अधिकारी गोद लेंगे। समय पर दवायें दिये जाने के साथ ही बच्चों की जांच के साथ ही उन्हें इस रोग से मुक्त भी कराया जाये।
जिलाधिकारी कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल में जिला पोषण समिति एवं कन्वर्जेस विभागों की समीक्षा कर रहे थे। कहा कि जिले में संपूर्ण सितंबर माह में तृतीय राष्ट्रीय पोषण माह का आयोजन किया जाएगा। जिसके माध्यम से गंभीर तीव्र कुपोषित बच्चों, कुपोषित बच्चों, कुपोषित महिलाओं की प्रारंभिक पहचान कर उनको सुपोषित किए जाने हेतु प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। राष्ट्रीय पोषण माह का औपचारिक शुभारंभ 7 सितंबर को जिलाधिकारी द्वारा कलेक्ट्रेट से किया जाएगा। इस अवसर पर स्तनपान के साथ ऊपरी आहार के माध्यम से बच्चों में कुपोषण के स्तर में कमी लाने हेतु लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा। पोषण माह में किचन ट्री गार्डन पौधे लगाए जाने हेतु प्रोत्साहित भी किया जाएगा।
जिलाधिकारी ने कहा कि इसके लिए सभी कन्वर्जेंस विभाग पंचायतराज, शिक्षा विभाग, कृषि, आईसीडीएस, स्वास्थ्य, खाद्य रसद, शिक्षा, ग्रामीण विकास, समाज कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण द्वारा संयुक्त रूप से अपनी अपनी भूमिका का निर्वहन कर पोषण माह को सफल बनाने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। इस दौरान आंगनवाड़ी कार्यकत्री, सहायिका, सुपरवाइजर घर घर जाकर कुपोषित बच्चों का चिन्हित कर उनका वजन करेंगी तथा लोगों को पौष्टिक आहार लेने, घर में पोषण वाटिका लगाने के बारे में जागरूक किया जाएगा। कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा वजन मशीनों का शीघ्र क्रय कर लिया जाए। सुपरवाइजर व सीडीपीओ द्वारा अपने सामने ही पोषण आहार का वितरण सुनिश्चित कराया जाए।
उन्होंने कहा कि सीडीपीओ व आंगनवाड़ी सुपरवाइजर द्वारा 15 दिवसों में आंगनवाड़ी केंद्रों का अनिवार्यता भ्रमण कर वहां की साफ-सफाई, पोषाहार वितरण तथा अन्य व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी कमलेश कुमार वैश्य, जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरजीत सिंह, पीडी चित्रसेन सिंह, उपायुक्त स्वतः रोजगार कमलेश कुमार डीपीआरओ डीएसओ तथा अन्य सम्बंधित अधिकारी मौजूद रहे।
5-  हमीरपुर –सड़क निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर किया हंगामा
हमीरपुर । मझगवां थाना क्षेत्र के सरगांव में सड़क निर्माण को लेकर बुधवार को ग्रामीणों ने प्रदर्शन करते हुए हंगामा किया। उच्चाधिकारियों से सड़क निर्माण में हुई धांधली की जांच कराने और नयी सड़क के निर्माण कराये जाने की मांग की गयी है।
मझगवां क्षेत्र के अटगांव के पास एक मैजिक गाड़ी सड़क किनारे गड्ढे में फंस गई। जिसे ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकाला। आक्रोशित ग्रामीणों ने प्रदर्शन कर पीडब्लूडी विभाग के विरूद्ध नारेबाजी की। ग्राम प्रधान सरगांव निशा सिंह ने बताया कि वर्ष 2016 में सरगांव से अटगांव के बीच पीडब्लूडी विभाग द्वारा 5 किमी सड़क का निर्माण हुआ था। आरोप लगाया कि ठेकेदार की मिलीभगत से सड़क निर्माण में जमकर धांधली की गई और चार साल के अंदर ही सड़क में बड़े बड़े गड्ढे हो गये। ग्रामीणों को बरसात के मौसम में पैदल चलना दूभर हो जाता है। कई ग्रामीण गिरकर चोटहिल हो गये हैं। बताया कि कई बार पीडब्लूडी विभाग के अधिकारियों को शिकायती पत्र दिया। लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। वहीं संजय सिंह ने बताया कि पिछले वर्ष गांव की फूलारानी की उसी गड्ढे में गिरकर मौत हो चुकी है। विरोध प्रदर्शन के दौरान शिवनाराण, बैजनाथ, राकेश सिंह, दिनेश सिंह, मोनू सिंह, नरेंद्र सिंह, राजकुमार, विनीत सिंह, आकाश सिंह, भानुप्रताप, निर्पत सिंह, बुद्धू यादव, छोटू चौहान, राहुल सिंह गोविंद सिंह आदि ग्रामीण मौजूद रहे।
6-  हमीरपुर – कोटा बैराज से लाखों क्यूसेक पानी छोड़े जाने से यमुना नदी में मंडराया बाढ़ का खतरा
हमीरपुर। राजस्थान के कोटा बैराज से लाखों क्यूसेक पानी छोड़े जाने से यहां यमुना और बेतवा नदियों के उफनाने का खतरा मंडरा गया है।
 यमुना नदी सात सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है वहीं बेतवा नदी का जलस्तर भी यमुना नदी के दबाव के कारण बढ़ रहा है। इससे यहां तटवर्ती दर्जनों ग्रामों में लोगों की धड़कने बढ़ गयी है।
 बुधवार को शाम यमुना नदी का जलस्तर 100.07 मीटर पार कर गया है वहीं बेतवा नदी 99.42 मीटर पर बह रही है।
यमुना और बेतवा नदियों के बीच घिरे हमीरपुर शहर में पिछले कई दशकों से बाढ़ के दौरान भारी तबाही होती है। पिछले मर्तबा ही दोनों नदियों का जलस्तर लाल निशान के पार हो जाने से दर्जनों गांवों में नुकसान हुआ था। शहर के अन्दर ही कई मुहल्लों में बाढ़ का पानी घुस आने से बड़ी संख्या में कच्चे मकान ढह गये थे। माता टीला और कोटा बैराज सहित अन्य बांधों से पानी छोड़े जाने के कारण यहां यमुना, बेतवा के साथ ही अन्य कई नदियां उफनाती है। जिसका खामियाजा तटवर्ती इलाकों की जनता को भुगतना पड़ता है।
बुधवार को हमीरपुर में यमुना नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ने के कारण निचली इलाकों में लोगों की चिंतायें बढ़ गयी है। आज शाम यमुना नदी का जलस्तर 100.07 मीटर पार कर गया है वहीं बेतवा नदी का जलस्तर भी 99.42 मीटर हो गया है।
 मौदहा बांध निर्माण खंड हमीरपुर के अधिशाषी अभियंता एके निरंजन ने बताया कि यमुना नदी का जलस्तर सात सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। वहीं यमुना नदी का संगम के पास दबाव पड़ने से बेतवा नदी का जलस्तर भी बढ़ रहा है।
 उन्होंने बताया कि फिलहाल अभी बाढ़ का खतरा नहीं है फिर भी नदियों के किनारे बसे गांवों के लोगों को एलर्ट कर दिया गया है। नदियों में आखेट करने और अन्य गतिविधियां पर रोक लगायी गयी है।
केन्द्रीय जलायोग के सहायक अभियंता अनुज शर्मा ने आज शाम बताया कि कोटा बैराज से डेढ़ लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था जिसका असर अब यहां दिखने लगा है।
 उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश समेत अन्य इलाकों में हो रही बारिश का पानी भी यमुना में आ रहा है जिससे नदी का जलस्तर अभी बढ़ रहा है। उधर माता टीला डैम के अवर अभियंता जीके मौर्या के मुताबिक डैम के 20 गेट खुले है जिनमें 16 गेटों को दो-दो फिट खोलकर पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है वहीं छह गेट चार-चार फिट खोलकर डैम से पानी डिस्चार्ज किया जा रहा है। 93 हजार क्यूसेक पानी बेतवा नदी में डिस्चार्ज हो रहा है।
7-  हमीरपुर – अस्पताल की पैथालाजी में घुसकर एलटी से की अभद्रता, एक आरोपित गिरफ्तार
हमीरपुर । राठ कस्बे में सीएचसी (अस्पताल) में मेडिकल स्टोरों के दलालों ने बुधवार को अस्पताल की पैथालाजी में घुसकर एलटी से अभद्रता कर हंगामा किया, जिससे गुस्साये एलटी ने तत्काल पुलिस को घटना की सूचना दी। इस घटना से एक घंटे तक कामकाज ठप रहा। मौके पर पहुंची पुलिस ने एक आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।
बतादें कि सीएचसी में सारा दिन दलालों की धमाचौकड़ी मची रहती है। मरीजों के जबरन पर्चे छीनकर अपने मेडिकल स्टोरों पर ले जाते हैं। जहां पर मरीजों के साथ लूट खसौट की जाती है।
 सीएचसी के एलटी बीएन नागर ने बताया कि वह दोपहर अपनी लैब में डेंगू मरीजों की जांच कर रहे थे। उसी दौरान एक मेडिकल स्टोर का दलाल बिना मरीज को साथ लिए एक पर्चे में खून की जांच कराने के लिए पहुंचा।
एलटी ने बताया कि जब उसने कहा कि वह डेंगू की जांच कर रहा है तो दलाल अपना आपा खो बैठा और उसे गाली देने लगा। आरोपित करते हुए बताया कि दलाल ने मरीजों के सामने उसके साथ अभ्रदता तक की। एलटी ने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी।
 मौके पर पहुंचे एसआई शाहजहां अली ने आरोपित दलाल को पकड़ लिया। इस दौरान सीएचसी में करीब एक घंटे तक हंगामा कटा रहा। एलटी ने बताया कि दलाल अस्पताल में घुसकर सरकारी कार्य में बाधा डालते हैं।
8-  हमीरपुर – बिजली चोरी में 234 के खिलाफ एफआईआर
हमीरपुर । जनपद में बिजली चोरी पर शिकंजा कसने के लिये पावर कारपोरेशन ने बुधवार को राठ और सरीला क्षेत्र के कई गांवों में चेकिंग कर 234 लोगों के खिलाफ बिजली चोरी का मामला थाने में दर्ज कराया है। इस कार्रवाई से ग्रामीणों में हड़कम्प मचा है।
पावर कारपोरेशन के अधिशाषी अभियंता विमल कुमार ने बताया कि लाइन लास के चलते बिजली चोरी रोकने के लिये चेकिंग अभियान चलाया जा रहा  है। चेकिंग के दौरान धमना, गोहांड, सरीला, मुस्करा, जखेड़ी, रहंक व खड़ाकर गांवों में 234 लोगों को बिजली चोरी करते पकड़ा गया है। उन्होंने बताया कि बिजली चोरी के आरोप में इन सभी के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज करायी गयी है। अधिशाषी अभियंता ने बताया कि पूरे जनपद में ये अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें लाइन लास कम करने के साथ ही बिजली चोरों पर शिकंजा कसा जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram