(हमीरपुर बुलेटिन) मौरंग खदानों में एसडीएम ने मारा छापा, पोकलैण्ड मशीन सीज, पढ़े दिनभर की खबर

1-मौरंग खदानों में एसडीएम ने मारा छापा, पोकलैण्ड मशीन सीज
जिले में एसडीएम ने बुधवार को मौरंग खदान में छापेमारी कर प्रतिबंधित पोकलैण्ड मशीन को सीज कर कार्यवाही के लिये रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी है। खदान में गड़बड़ी भी पायी गयी है।
जिले के सरीला क्षेत्र के एसडीएम जुबेर बेग ने चिकासी थाना क्षेत्र के मौरंग खंड संख्या-18 में छापेमारी की। खदान में धर्मकांटा पर कैमरा नहीं लगा पाया गया। खदान के पास गड्ढे में एक प्रतिबंधित पोकलैण्ड मशीन भी एसडीएम ने देखी तो उन्होंने कारोबारी को कड़ी फटकार लगाई। पूछने पर उन्हें बताया गया कि ये मशीन राठ के करन सिंह प्रधान की हैं। एसडीएम ने पोकलैण्ड मशीन सीज कर पुलिस के हवाले कर दिया है। घुरौली मौरंग खंड-5 में भी छापेमारी की गयी जहां धर्मकांटा के पास लगे कैमरे में रिकार्डिंग नहीं मिली। एसडीएम ने बताया कि इन दोनों मौरंग खदानों की रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी गयी है।

2 – हमीरपुर में पारा 8 डिग्री, ठंड से किशोर समेत तीन लोगों की मौत

जिले में बुधवार को ठंड की चपेट में आकर किशोर समेत तीन लोगों की मौत हो गयी। वहीं कई लोग बीमार भी पड़ गये। सुबह से लेकर शाम तक शीत लहर चलने से लोग घरों में दुबके रहे।

जिले के सुमेरपुर कस्बे के गैस एजेंसी मार्ग निवासी शिवशंकर गुप्ता (60) ठंड की चपेट में आ गया। इसे परिजन इलाज कराने अस्पताल ले गये जहां उसकी मौत हो गयी। कस्बे के धर्मेश्वर बाबा मुहाल निवासी रामप्रकाश प्रजापति का पुत्र कैलाश (14) की ठंड लगने से मौत हो गयी। कैलाश कस्बे के परमहंस बुन्देलखण्ड इण्टरकालेज में कक्षा आठवीं का छात्र था। अचानक ठंड से मौत होने से परिजनों में कोहराम मच गया है।
उधर जिले के राठ कस्बे के पठानपुरा मुहाल निवासी विमल (38) पुत्र पुत्तीलाल सोनी की ठंड लगने से मौत हो गयी। इस घटना से परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा काटा। हंगामा की खबर पाते ही पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन तब तक परिजन शव लेकर घर जा चुके थे। मृतक के चचेरे भाई हिमांशु सोनी ने बताया कि खेत देखकर घर लौटा था और ठंड लगने से इसकी हालत बिगड़ गयी। अस्पताल में इसे भर्ती कराया गया जहां उसकी मौत हो गयी है। बता दे कि हमीरपुर में बुधवार को पारा आठ डिग्री सेल्सियस पर आ जाने से लोग घरों में ही दुबके रहे। धूप न निकलने से बाहर भी सन्नाटा पसरा रहा। अधिकतम तापमान भी 13 डिग्री सेल्सियस रहा।

3 – हमीरपुर में 13 गौवंश की फिर ठंड से मौत
-ट्रैक्टर से बांधकर गोशाला से मृत गायों को गांव के बाहर फेंका, ग्रामीणों में गहराया आक्रोश

जिले में भीषण ठंड की चपेट में आकर गोशालाओं में बंद सात गौवंश की मौत हो गयी। वहीं खुले आसमान के नीचे घूम रही आधा दर्जन गाये मर गयी। बुधवार को मृत गौवंश को ट्रैक्टर से बांधकर गांव के बाहर फेंक दिया गया जिसे कुत्ते खाते रहे। यह कृत्य देख गांव के लोगों में रोष व्याप्त हो गया है।
जिले के सुमेरपुर क्षेत्र के पचखुरा खुर्द गांव में गोशाला में ठंड से कोई इंतजाम न होने के कारण पांच गायों की मौत हो गयी। गोशाला में गौवंश के मरने की खबर पाते ही घबराये प्रधान ने आननफानन मृत गायों को ट्रैक्टर से बांधकर गांव के बाहर फिंकवा दिया। इस घटना से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया। ग्रामीणों ने इस मामले की शिकायत एसडीएम सदर राजेश चौरसिया से की। एसडीएम ने जांच के निर्देश दे दिये है। पशु चिकित्साधिकारी पंकज सचान ने बताया कि एक गौवंश की मौत हुयी है जिसका पोस्टमार्टम कराया गया है। इसी क्षेत्र के विदोखर पुरई गांव में गोशाला में ठंड से बचने के लिये कोई इंतजाम न किये जाने के कारण दो गौवंश की ठंड से मौत हो गयी। इन मृत गायों को स्वीपर की मदद से रघुनंदन कुशवाहा के ट्रैक्टर से चालक अवध नरेश कुशवाहा ने खींचकर गोशाला से बाहर फेंका। इन मृत गायों को कुत्ते और जंगली जानवर दिन भर खाते रहे। इसके अलावा खुले आसमान के नीचे घूम रहे आधा दर्जन गाये भी ठंड से मर गयी। विदोखर व इंगोहटा गांव के बाहर सड़क किनारे मृत गायों को देख ग्रामीण द्रवित हो गये। विदोखर पुरई के पंचायत सचिव ने बताया कि तीन गौवंश बीमार थे जिनकी मौत हो गयी है। बता दे कि पिछले पांच दिनों के अंदर ठंड से तीन दर्जन से अधिक गौैवंश की मौत हो चुकी है।

4 – ठंड और शीतलहर के कारण 21 तक बंद रहेंगे विद्यालय

जिले में ठंड और शीतलहर को देखते हुये जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने बुधवार को शाम सभी प्राइमरी व जूनियर स्कूलों को 21 दिसम्बर तक बंद रखने के आदेश कर दिये है। वहीं कक्षा नौ से बारहवीं तक के विद्यालयों को सुबह दस से तीन बजे तक खोलने के आदेश किये गये है।

जिलाधिकारी ने बताया कि ठंड और शीतलहर के मद्देनजर जिले में प्राइमरी व जूनियर स्कूलों को 21 दिसम्बर से बंद रखने के आदेश किये गये है। इसके अलावा कक्षा नौ से बारहवीं तक के विद्यालयों को सुबह दस बजे से दोपहर तीन बजे तक संचालित करने के लिये कहा गया है। आदेश की अनदेखी करने पर सम्बन्धित विद्यालयों के खिलाफ कार्यवाही भी की जायेगी।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram