(हमीरपुर बुलेटिन) स्कूलों में तालाबंदी कर शिक्षकों बीएसए कार्यालय घेरा, पढ़े दिनभर की खबर

1- हमीरपुर : शिकायतों के निस्तारण में लापरवाही नहीं होगी बर्दाश्त : मंडलायुक्त
मंडलायुक्त गौरव दयाल ने अधिकारियों को कड़ी हिदायत देते हुए कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस सहित विभिन्न कार्यक्रमों व अन्य माध्यमों से प्राप्त होने वाली शिकायतों के निस्तारण में किसी भी तरह की कोई लापरवाही बरती गयी तो सम्बन्धित अधिकारी बख्शे नहीं जायेंगे। उन्होंने कहा कि शिकायतों के निस्तारण का फीड बैक लगातार शासन ले रहा है।
हमीरपुर सदर तहसील में आयोजित जिला स्तरीय सम्पूर्ण समाधान में अचानक डीआईजी दीपक कुमार के साथ आये मंडलायुक्त गौरव दयाल फरियादियों से रूबरू हुये। उन्होंने शिकायतों को सुनने के बाद अधिकारियों से कहा कि ऐसे सरकारी कर्मचारी जो रिटायरमेंट के करीब है उनके पेंशन से सम्बन्धित प्रकरणों को पहले से ही निस्तारण किया जाये। छह माह में रिटायर होने वाले सभी कर्मचारियों का डाटा भी कलेक्ट कर लिया जाये। मंडलायुक्त और डीआईजी ने तहसील प्रांगण में एनआरएलएम, एसआरएलएम के स्टालों, कृषि रक्षा इकाई, बाल विकास एवं पुष्टाहार सहित अन्य विभागों के स्टालों का निरीक्षण किया।
इस मौके पर जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने कहा कि सभी अधिकारी शासन की मंशा के अनुसार शिकायतों का निस्तारण करें। उन्होंने कहा कि आईजीआरएस व विभिन्न माध्यमों से प्राप्त होने वाली शिकायतों का सभी अधिकारी निष्पक्षता के साथ समय सीमा में निस्तारण करें ताकि कोई भी शिकायत डिफाल्टर श्रेणी में न आ सके।
जिलाधिकारी ने कड़ी हिदायत देते हुए कहा कि डिफाल्टर श्रेणी में शिकायत आने पर सम्बन्धित अधिकारियों के खिलाफ कठोरतम कार्यवाही की जायेगी।  सम्पूर्ण समाधान दिवस में 85 शिकायतें आयीं जिसमें 18 शिकायतों का मौके पर निस्तारण किया गया।
2- हमीरपुर : स्कूलों में तालाबंदी कर शिक्षकों बीएसए कार्यालय घेरा

-शाम तक धरना देकर शिक्षक करते रहे नारेबाजी
हमीरपुर में उत्तर प्रदेश शिक्षक महासंघ के तत्वाधान में सैकड़ों शिक्षकों ने मंगलवार को बीएसए कार्यालय घेरकर धरना दिया। शाम तक धरना प्रदर्शन कर शिक्षक नारेबाजी करते रहे। पूरे दिन जनपद के सभी स्कूलों में तालाबंदी रही।
उत्तर प्रदेश शिक्षक महासंघ के तत्वावधान में प्रदेश भर के शिक्षकों ने मंगलवार को सामूहिक अवकाश पर रहकर स्कूलों में तालाबंदी कर सभी जनपद मुख्यालयों पर विरोध दिवस के रूप में धरना प्रदर्शन किया गया। इसी के तहत शहर में शिक्षकों ने बीएसए कार्यालय के गेट पर धरना प्रदर्शन किया। इसके बाद मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा। ज्ञापन में शिक्षकों ने पुरानी पेंशन बहाली करने, प्रत्येक विद्यालय में प्रधानाध्यापक तथा प्रत्येक कक्षा पर अध्यापक की नियुक्ति करने, विद्यालय में छात्रों के बैठने के लिए फर्नीचर, पीने के लिए शुद्घ पेयजल, बिजली व पंखे, चाहर दीवारी की व्यवस्था करने, प्रत्येक विद्यालय में सफाई कर्मचारी व लिपिक की नियुक्ति, राज्य कर्मचारियों की भांति उपार्जित व द्वितीय शनिवार अवकाश, निःशुल्क चिकित्सा सुविधा व एसीपी का लाभ देने, विद्यालय के संविलियन पर रोक लगाने, ग्रेड वेतन 4600 व 4800 पर न्यूनतम मूल वेतन क्रमश 17140 व 18150 देने, मृत शिक्षकों के आश्रितों का पूर्व की भांति शिक्षक के पद पर नियुक्ति देने, सामूहिक बीमा की बीमित धनराशि 10 लाख रुपये करने, प्रेरणा एप पद्घति को वापस लिए जाने आदि मांगे शामिल हैं। शिक्षकों ने सभी मांगों का निस्तारण किए जाने की मांग की है। इस मौके पर जिलाध्यक्ष प्रेम प्रताप सिंह, जिलामंत्री देवेंद्र सिंह चंदेल, मंडलीय अध्यक्ष रणविजय सिंह, जिला संयोजक महेंद्र सिंह यादव, गजोधर यादव, दिलीप सिंह गौतम, राकेश त्रिपाठी, रघुराज कुटार सहित माध्यमिक शिक्षक संघ व उप्र प्राथमिक शिक्षक संघ के बड़ी संख्या में शिक्षक शिक्षिकाएं मौजूद रहे। गोहांड प्रतिनिधि के अनुसार शासन की नीतियों के विरोध में शिक्षकों के मंगलवार सामूहिक अवकाश पर चले जाने से क्षेत्र के लगभग सभी परिषदीय एवं सहायता प्राप्त विद्यालय बंद रहे। स्थानीय गांधी इंटर कालेज के शिक्षक एवं जनपदीय उप मंत्री जगपाल सिंह ने जनपद में बंद सफल होने का दावा किया। आगे की रणनीति प्रांतीय शिक्षक महासंघ के निर्देशन के अनुसार होगी।
प्राथमिक शिक्षको ने अध्यापन कार्य बन्द कर दिया धरना 
सरीला: बारह सूत्रीय मांगों को लेकर मंगलवार को प्राथमिक शिक्षक संघ के बैनर तलो प्राथमिक शिक्षको ने अध्यापन कार्य बन्द कर धरना दिया और मांगे माने जाने तक आंदोलन जारी रखने की बात कही हैं।
बी0आर0केन्द्र सरीला में मंगलवार को तहसील क्षेत्र के प्राथमिक शिक्षकों ने प्रांतीय आवाहन पर धरना दिया और सभी से संगठित रहने की अपील कीे है। संघ के ब्लाक अध्यक्ष रामऔतार प्रजापति व मंत्री लक्ष्मी प्रसाद अहिरवार ने कहा कि सरकार उनकी जायज मांगो को नहीं मान रही है जिसके कारण शिक्षकों में आक्रोश है। धरने के दौरान विद्यालय शिक्षामित्र व अनुदेशकों के भरोसे रहे। उनकी मांगो में पुरानी पेंशन बहाल करने, वेतन विसंगति दूर करने, प्रेरणा एप खत्म करने, कैश लैस व्यवस्था लागू करने, पदोन्नति करने, विद्यालयों में आधारभूत सुविधाओं के साथ ही  कर्मचारी की नियुक्ति करने आदि मांगे शामिल है। इस मौके पर सरीला एवं गोहाण्ड विकास खण्ड क्षेत्र के तमाम शिक्षक मौजूद रहें और सभी ने मांगो के समर्थन में आन्दोलन को तेज करने की बात कही हैं।
3 –  हमीरपुर :  जाँँब की लालच में भागे थे छात्र, राजस्थान से लाये गये दोनों मासूम छात्र 
जिले में आनंद राम जयपुरिया आवासीय स्कूल से भागे दोनों छात्रों को राजस्थान से लाकर पुलिस ने परिजनों को सौंप दिया है। इन मासूमों ने पुलिस के सामने कहा कि वह साथी के कहने पर जाँब की लालच में भागे थे। पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने बताया कि चौबीस घंटे के अंदर पुलिस टीम ने सर्विलांश की मदद से जयपुरिया स्कूल के दोनों छात्रों को ढूंढ निकाला है और उनके परिजनों को बच्चे सौंप दिये गये है।
जिले के सदर कोतवाली क्षेत्र के कुछेछा के पास कानपुर-सागर नेशनल हाइवे-34 पर सड़क किनारे सेठ आनंद राम जयपुरिया स्कूल संचालित है। स्कूल के छात्रावास से कुछ छात्र भाग गये थे जिनमें रामेन्द्र नाम के छात्र को पुलिस ने लखनऊ रेलवे स्टेशन से सोमवार को पकड़कर परिजन को सौंप दिया था। रविवार की रात स्कूल की लापरवाही से बाउन्ड्रीवाल फांदकर भागे कक्षा नौ के छात्र अभिषेक सिंह पुत्र राजा सिंह व खालेपुरा हमीरपुर निवासी अंशू भदौरिया की खोजबीन के लिये सर्विलांश की टीम लगायी गयी थी। हमीरपुर सदर के सीओ अनुराग सिंह ने बताया कि भागे छात्रों की लोकेशन मिलने पर कुछेछा चौकी प्रभारी पंकज तिवारी को भेजा गया। जहां एसआई पंकज तिवारी ने दोनों छात्रों को राजस्थान के बयाना रेलवे स्टेशन से बरामद कर लिया। मंगलवार की शाम करीब चार बजे बरामद बच्चों को लेकर कोतवाली पहुंचे। जहां उनके परिजन मौजूद मिले। भागे छात्रों ने टिक टॉक व मुंबई में जाकर हीरो बनने की बात से इंकार किया। कहा कि छात्र रामेंद्र ने ही उन्हे बहकाया। कहा कि वह कोटा राजस्थान उनके साथ चले तो वहा पर जॉब दिलवा देगा। इस पर वह दोनों रामेंद्र के साथ भागे थे। मगर रामेंद्र पहले ही लखनऊ में पकड़ लिए गए थे। परिजनों ने पुलिस को सुपुर्दगी पत्र दिया। जिस पर पुलिस ने दोनों छात्रों को परिजनों के सुपुर्द कर और परिजन कोतवाली से चले गए।

4- हमीरपुर : ऑपरेटिव निर्माण एवं विकास लिमिटेड को कार्य देने पर लगी रोक

-हाईकोर्ट लखनऊ के अधिवक्ता की शिकायत पर कार्यदायी संस्था की पत्रावली भी तलब
जिले में निर्माण कार्य करा रही प्राविंशियल को-ऑपरेटिव निर्माण एवं विकास लिमिटेड कार्यदाई संस्था के मामले में हुई शिकायत को लेकर जिलाधिकारी ने मंगलवार को सीडीओ से मामले की पत्रावली तलब की है। साथ ही इस कार्यदाई संस्था को अन्य कार्य देने पर रोक लगाने के निर्देश दिए हैं।
हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के एडवोकेट सूर्य प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री सहित अन्य उच्चाधिकारियों को भेजे शिकायती पत्र पर जिलाधिकारी ने सीडीओ को निर्देश दिए हैं। अधिवक्ता ने दिए शिकायती पत्र में कहा है कि प्रदेश में निर्माण कार्य करा रही को-ऑपरेटिव संस्थाओं को विधायक निधि, बुंदेलखंड विकास निधि जिलांश से निर्माण कार्य कराने पर रोक लगी है। फिर भी कई जिलों में नियम के विरुद्ध निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं। यह एनजीओ है। उन्होंने ऐसी ही कार्यदाई संस्था प्राविंशियल को-ऑपरेटिव निर्माण एवं विकास लि.पीसीसीडी बताई है। उन्होंने कहा कि पूर्व में बुंदेलखंड विकास निधि योजना में बिना किसी शासनादेश के सीडीओ, निवर्तमान जिलाधिकारी, महोबा सीडीओ व निवर्तमान जिलाधिकारी सहित लोनिवि के अधिशासी अभियंताओं के जरिए बड़े पैमाने पर कार्य आवंटन किए गए थे। इस संस्था को पुनः बुंदेलखंड विकास निधि योजना जिलांश के कार्य देने की तैयारी चल रही है। इसकी जांच कर कार्रवाई की जाए। इस मामले पर जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने प्राविंशियल कोआपरेटिव निर्माण एवं विकास लि. पीसीसीडी एनजीओ के मामले में मुख्य विकास अधिकारी को जांच कर आख्या रिपोर्ट तलब की है। साथ ही किसी भी प्रकार के कार्य दिए जाने पर रोक लगा दी है।

5- हमीरपुर : विकास कार्यों की चौपाल में कई अधिकारियों पर कार्रवाई

-अवर अभियंता आरईएस की पगार रोकने के साथ दी प्रतिकूल प्रविष्टि
-अवैध रूप से कब्जा कर दबंगों के फसल बोने में लेखपाल भी नपा
जिले में मंगलवार को शाम विकास कार्यों की चौपाल में कई अधिकारियों पर जिलाधिकारी ने कार्रवाई की। चौपाल से नदारत रहने पर आर.ई.एस.के अवर अभियंता की पगार रोकने के साथ ही प्रतिकूल प्रविष्टि दी गयी वहीं दबंगों के अवैध रूप से कब्जा कर फसल बोने के मामले में जिलाधिकारी ने फसल को नीलाम करने और लेखपाल को निलम्बित करने के निर्देश दिये। इस कार्रवाई से अधिकारियों में हड़कंप मच गया है।
जिले के कुरारा ब्लाक के कनौटा गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में चौपाल कार्यक्रम में जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने विकास कार्यों की सत्यापन किया। उन्होंने शिकायतों /समस्याओं के निस्तारण के निर्देश संबंधित जिला स्तरीय अधिकारियों को दिए।उन्होंने आवास, विद्युत, सड़क, पेयजल, राशन , पेंशन सहित अन्य योजनाओं के बारे में ग्रामीणों से  विस्तारपूर्वक समस्याओं को सुनकर निस्तारण के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। जिलाधिकारी ने इस दौरान गांव के प्रधानमंत्री आवास के निर्माण की प्रगति की समीक्षा की तथा कहा कि समय से आवास निर्माण का कार्य पूर्ण किया जाए। उन्होंने कहा कि   समाज के गरीब ,कमजोर, असहाय व निर्धन वर्ग के लोगों के उत्थान हेतु विभिन्न योजनाएं संचालित है। लोगों द्वारा इन योजनाओं के बारे में जानकारी कर उसके बारे में आवेदन किया जाए। इस मौके पर आवास के लाभार्थियों की सूची पढ़ कर ग्रामीणों को सुनाई गई जिसमें सभी लोग पात्र पाए गए। आवास के आवंटन में किसी तरह के पैसे लेने की ग्रामीणों द्वारा बात नहीं बताई गई। इस दौरान जिलाधिकारी ने नियमित रूप से राशन वितरण करने की जानकारी ली गई जिसपर ग्रामीणों ने प्रत्येक माह समय से राशन वितरण होने की बात बताई गई। इस मौके पर पेंशन, मुख्य मंत्री सामुहिक विवाह योजना, आई०सी०डी०एस० ,श्रम विभाग संबंधित, आवास ,शादी अनुदान योजना,आयुष्मान योजना,किसान सम्मान निधि सहित अन्य योजनाओं के बारे में ग्रामीणों को विस्तार से जानकारी दी गई। चौपाल में ग्राम सभा की जमीन पर दबंगों द्वारा फसल बोए जाने की सूचना पर जिलाधिकारी ने तत्काल फसल की नीलामी करके उसकी धनराशि जमा करने के निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि फसल की नियमानुसार नीलामी करने के पश्चात उसकी धनराशि जमा कराई जाए तथा दोषियों पर कार्रवाई की जाए अन्यथा संबंधित लेखपाल को सस्पेंड किया जाएगा ।उन्होंने कहा कि गांव की ग्राम समाज की जमीनों ,तालाब आदि में किसी भी प्रकार का कब्जा नहीं होना चाहिए अन्यथा कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक ग्राम में खेल के मैदान को विकसित किया जाए इसके लिए जगह चिन्हित कर ली जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि ग्राम में जो भी कार्य हो रहे हैं उसको संबंधित खंड विकास अधिकारी के संज्ञान में अवश्य लाया जाए। ,ग्राम सभाओं में सभी प्रकार के निर्माण कार्य गुणवत्तापूर्ण हो इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। जिलाधिकारी ने गांव में हो रहे सड़क निर्माण कार्य का निरीक्षण किया।  बिना बताए अनुपस्थित जेई आरईएस योगेंद्र कुमार को जिलाधिकारी ने प्रतिकूल प्रविष्टि देते हुए वेतन रोकने व स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश दिए। इस दौरान ग्रामीणों को मुख्य विकास अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि कृषि कार्य में ड्रिप व स्प्रिंकलर सिंचाई पद्धति के द्वारा सिंचाई कर कृषको द्वारा उत्पादन व आमदनी बढ़ाई जा सकती है। इसके लिए उद्यान विभाग में आवेदन करना होता है।

6- नलकूप में सोते समय बदमाशों ने धारदार हथियार से हमला किया, एक युवक की मौत, दूसरा घायल

नलकूप में सोर रहे दो लोगों पर अज्ञात बदमाशों ने धारदार हथियार से हमला कर दिया, जिससे एक युवक की मौत हो गयी। वहीं दूसरा गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल युवक को इलाज के लिये मंगलवार को सुबह हमीरपुर के सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना कानपुर की सजेती थाना होने के चलते यहां की पुलिस मौके पर पहुंचकर मामले की जांच की है।
जनपद कानपुर के सजेती थाना क्षेत्र के महुआ पुरवा गांव निवासी नीतू निषाद (20) अपने चचेरे भाई सुनील निषाद (19) के साथ सोमवार की रात फसल की रखवाली करने के लिये खेत गया था। वहां ये दोनों आधी रात के बाद अपने नलकूप में सोने चले गये। इन दोनों के साथ गांव का ही एक युवक भी नलकूप में मौजूद था जो कुछ ही घंटे बाद नलकूप से बाहर चला गया था।
बताया जाता है कि चार अज्ञात बदमाश लाठी, डंडा, कुल्हाड़ी और फरसा लेकर नलकूप पहुंचे और सोते समय दोनों पर हमला कर दिया। धारदार हथियार के हमले से नीतू की मौके पर मौत हो गयी। वहीं सुनील गंभीर रूप से घायल हो गया। काफी देर बाद घटना की जानकारी पर परिजन ग्रामीणों के साथ मौके पर पहुंचे। घायल सुनील को आनन-फानन में इलाज के लिये हमीरपुर स्थित सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां घायल सुनील ने बताया कि तीसरा साथी भी उनके साथ नलकूप में सोया था, लेकिन वह दरवाजा खुला छोड़ चला गया था। इसके कुछ ही समय बाद चार बदमाशों ने उन पर हमला कर दिया। उधर घटनास्थल पर मौजूद सजेती थानाध्यक्ष राकेश कुमार मौर्य ने बताया कि ये मामला हत्या का है, जिसकी जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram