(हमीरपुर बुलेटिन) हमीरपुर में ठंड से चार लोगों की मौत, आधा दर्जन गौ वंश भी मरा पढ़े दिनभर की खबर

1 – हमीरपुर में ठंड से चार लोगों की मौत
हमीरपुर में रविवार को पारा फिर चार डिग्री सेल्सियस पर आ गया जिससे ठंड की चपेट में आकर चार लोगों की मौत हो गयी वहीं गोशालाओं में बंद छह गायों की मौत हो गयी। दिन भर शीत लहर चलने से सार्वजनिक स्थानों व बाजार में सन्नाटा पसरा रहा।
अधिकतम पारा 10 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से कई डिग्री सेल्सियस कम था। ठंड को देखते हुये जिले में कक्षा एक से कक्षा आठवीं तक के सभी सरकारी और गैर सरकारी विद्यालयों को एक जनवरी तक बंद रखने के आदेश कर दिये गये है।

हमीरपुर शहर सुबह से ही घने कोहरे की चादर से ढका रहा। ठंड के कारण दोपहर तक बाजार और बस स्टाप में सन्नाटा देखा गया। दोपहर बाद धूप खिली लेकिन सूरज में तपिश न होने से लोग ठिठुरते रहे। शाम होते ही फिर कोहरे की धुंध छा गयी। बाजार में तो ठंड के कारण दुकानों के शटर भी नीचे गिरने लगे। वहीं हाइवे में कोहरे के कारण वाहन रेंगते रहे। जिले के सुमेरपुर क्षेत्र के इंगोहटा गांव में इंदल शिवहरे (65) की ठंड लगने से मौत हो गयी वहीं मौदहा कस्बा निवासी मुश्तकीम (64) व विजय पाल (58), सरीला क्षेत्र के अतरा गांव निवासी कालीचरण (58) की ठंड लगने से मौत हो गयी। एसडीएम सरीला जुबेर बेग ने मृतक के परिजनों को आर्थिक मदद दिलाने का आश्वासन दिया है।
वहीं पलरा, बाक, बांकी, बिलहड़ी, बंडा व कलौलीजार आदि गांवों में गोशालाओं में बंद एक-एक गाय की ठंड लगने से मौत हो गयी। ग्राम पंचायतों ने गौवंश को ठंड से बचाने के लिये अभी तक कोई ठोस प्रबंध नहीं किये है जिससे ठंड के कहर में गायों के मरने का सिलसिला तेज हो गया है। यहां जिले में न्यूनतम पारा 4 डिग्री सेल्सियस तथा अधिकतम पारा 10 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हमीरपुर तहसील में मौसम पर नजर रखने वाले भवानी प्रसाद ने बताया कि रविवार को अधिकतम पारा 10 डिग्री सेल्सियस पर टिकने से ठंड का सितम जारी है। यहां लगातार एक डिग्री पारा नीचे लुढ़क रहा है। उन्होंने बताया कि अगले तीन चार दिनों तक पारा नीचे लुढ़केगा। हमीरपुर के बेसिक शिक्षाधिकारी सतीश कुमार ने बताया कि ठंड को देखते हुये कक्षा एक से आठ तक सभी सरकारी और गैर सरकारी विद्यालयों को एक जनवरी तक बंद रखने के आदेश कर दिये गये है। बता दे कि ठंड के कारण पिछले एक अंदर डेढ़ दर्जन लोगों की मौत हो चुकी है।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।
2 – हवेली माडल बुन्देलखण्ड के किसानों के लिये खोलेगा नई राह: डा. रमेशचन्द्र

हमीरपुर जिले में रविवार को एक्रिसेट हैदराबाद, काफरी झांसी एवं समर्थफाउण्डेशन के सहयोग से संचालित किसानमित्र कार्यकम के तहत किसानों की आमदनी बढ़ाने के फार्मुले का काशी विश्वविद्यालय एवं हैदराबाद से आये कृषि वैज्ञानिकों ने फसलो का अवलोकन करके प्रसन्नता जाहिर करते हुये कहा कि किसानो की मेहनत काबिले तारीफ है।

हैदराबाद एवं बनारस के हिन्दू विश्वविद्यालय से आये कृषि वैज्ञानिको ने एक्रिसेट हैदराबाद, काफरी झंासी एवं समर्थ फाउण्डेशन हमीरपुर के सहयोग से संचालित किसानमित्र कार्यक्रम का सुमेरपुर क्षेत्र के ग्राम सौंखर, नजरपुर, कारीमाटी गांव का दौरा करके फसलो का अवलोकन करके किसानों के प्रयास की सराहना की। हिन्दू विश्वविद्यालय के कृषि विभाग के निदेशक डा. रमेशचन्द्र ने फसलो का मूल्यांकन करने के बाद प्रसन्नता जाहिर करते हुये कहा कि किसानो ने कम लागत से जिस तरह से फसलों का उत्पादन किया है। वह सराहनीय है।
किसानों के इस माडल से बुन्देलखण्ड में जल संरक्षण का मार्ग प्रशस्त होगा। जो किसानो के लिये मील का पत्थर साबित होगा। उन्होने कहा कि जिस हवेली माडल का किसानो ने प्रयोग किया है। यह सूखे बुन्देलखण्ड के लिये एक सफल उदाहरण होगा। उन्होने कहा कि किसानो ने खरीफ में प्याज एवं सब्जियां उत्पादित करके आमदनी में इजाफा किया है। यह बुन्देलखण्ड के लिये एक नया उदाहरण है। इससे माडल से बुन्देलखण्ड के किसान लाभान्वित होंगे। कृषि वैज्ञानिकों ने खेतों में बोयी गयी फसलो को जाकर अवलोकन करते हुये लागत आदि की जानकारी हासिल की।
उन्होने ड्रोन कैमरे के माध्यम से भी फसलो का अवलोकन किया। इस मौके पर हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर यशवंत सिंह, प्रो. एसके सिंह, प्रो. ओपी सिंह, हैदराबाद के डा. कौशल गर्ग, डा. इन्द्रदेव, डा. आशराम, समर्थ फाउण्डेशन के देवेन्द्र गांधी, शिवकुमार के अलावा किसान विद्याकरण तिवारी, सभाजीत कुशवाहा, अशोक प्रजापति, माहदेव, जयराम, इन्दल, रामदयाल, कल्लू यादव, कलसिया आदि तमाम लोग मौजूद रहे।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।
3 – संविदा कर्मियों ने किया कार्य बहिष्कार, ग्रामीण क्षेत्रों में आपूर्ति लड़खड़ाई

जिले में रविवार को पिछले एक दशक से संविदा पर कर रहें विद्युत कर्मियों ने अनुबंध न बढ़ाने व तीन माह से वेतन न मिलने पर कार्य बहिष्कार कर दिया। इससे विद्युत आपूर्ति में बुरा असर पड़ा। रविवार को संविदा कर्मियों ने विद्युत वितरण केन्द्र में प्रदर्शन भी किया।
विद्युत संविदा कर्मी अनुबंध न बढाये जाने गत तीन माह से वेतन न मिलने के कार्य बहिष्कार करके अनीश्चित कालीन हड़ताल शुरू कर दी है। इससे विद्युत आपूर्ति में विपरीत असर पड़ा है। कस्बा सहित तमाम ग्रामीण क्षेत्रो की आपूर्ति ठप हो गयी है। इससे विद्युत उपभोक्ता बेहद परेशान है। संविदा कर्मियों ने बताया कि वह समस्या से जिलाधिकारी के साथ अधिशाषी अभियंता विद्युत को ज्ञापन सौंपकर अवगत करा चुके है। लेकिन समस्या का समाधान नही हुआ है। समस्या का समाधान न होने पर संविदा कर्मी 26 दिसम्बर से कार्य बहिष्कार करके अनीश्चित कालीन हड़ताल पर चले गये है।
सुमेरपुर क्षेत्र में तीन दर्जन संविदा कर्मी कार्यरत है। इनके हड़ताल में चले जाने से विद्युत आपूर्ति में विपरीत असर पडा है। कस्बा सहित ग्रामीण क्षेत्रो के तमाम फीडरों की आपूर्ति ठप पड़ी है। संविदा कर्मी जगदीशचन्द्र, रंजीत कुमार, एसपी शर्मा, गिरजेश अनुरागी, राजाभैया पाल, पथिक दुबे, प्रदीप कुमार, शिवशंकर, प्रमोद कुमार, ओमप्रकाश, प्रमोद प्रजापति, नरेन्द्र सिंह, देवेन्द्र सिंह, जीतेन्द्र द्विवेदी, पिंकू वर्माा, शरीफ खान, चन्द्रपाल, रणबहादुर, राकेश राना, सुशील सिंह आदि सभी कर्मचारियों ने पावर हाउस में प्रदर्शन किया।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।
4 – इगोहटा के ड्राइवर की मौत की खबर मिलते ही घर में मचा कोहराम
– 11 दिसंबर को हुआ था कानपुर में चार पहिया वाहन के साथ हुआ था अपहरण
– वाहन के चक्कर में हुई ड्राइवर की मौत
सुमेरपुर हमीरपुर। कार चलाकर परिवार का भरण पोषण करने वाले की कानपुर में हुई हत्या की जानकारी होने पर परिजनों में कोहराम मच गया । मृतक एक पुत्री व दो पुत्रों की अभी शादी होनी है ।

इंगोहटा गांव निवासी भगवानदास 50 वर्ष कार चलाकर परिवार का भरण पोषण करता था। पिछले कई वर्षों से वह विदोखर मेदनी निवासी गिरजा शंकर द्विवेदी की बोलेरो चलाता था । बीते 11 दिसंबर को वह विदोखर पुरई निवासी रामस्वरूप उर्फ चिरकोटी खंगार को लेकर उपचार कराने के लिए कानपुर के मरियमपुर हॉस्पिटल गया था। मरीज को अस्पताल में छोड़ने के बाद वह गाड़ी को अस्पताल के बाहर पार्क करके उसी के अंदर सो गया था। उसके बाद शाम को बाहर आए मरीज ने जब गाड़ी लापता देखी । तब उसने गाड़ी मालिक से बात की । गाड़ी मालिक ने ड्राइवर से कई बार फोन में संपर्क करने का प्रयास किया । लेकिन बात नहीं हो सकी । फोन के लगातार स्विच ऑफ बताने के बाद गाड़ी मालिक कानपुर गए और घटना से फजलगंज पुलिस को अवगत कराया । परंतु ड्राइवर गाड़ी का कुछ भी सुराग नहीं लगा । उधर 14 दिसंबर को एक अज्ञात शव गंगा घाट थाना पुलिस ने बरामद किया और शव को लावारिस मान कर पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार करा दिया था । खोजबीन में जुटे परिजनों को फजलगंज पुलिस ने गंगा घाट थाने भेजा । जहां 28 दिसंबर को थाने पहुंचे परिजनों ने कपड़े देखकर चालक भगवान दास की शिनाख्त की । शिनाख्त होते ही परिजनों में कोहराम मच गया। मृतक की पत्नी मुलिया देवी, पुत्र राजेंद्र, अवधेश व रामदीन पुत्री रागनी, क्रांति व पिंकी का रो रोकर बुरा हाल हो गया है। रागिनी ,क्रांति व राजेंद्र का विवाह हो चुका है। मृतक के पास खेती-बाड़ी नहीं है । वह कार चलाकर ही परिवार का भरण पोषण करता था । इस घटना के बाद मोहल्ले में मातम पसरा हुआ है ।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

5 – किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष करायेंगे मृत छात्रा के पिता का इलाज
– पंधरी पहुंचकर दी सांत्वना, पूरी मदद करेंगे

सुमेरपुर-हमीरपुर। भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष मृत छात्रा खुश्बू के बीमार पिता को लखनऊ ले जाकर अपने खर्चे से उपचार करायेंगे। यह घोषणा उन्होने शनिवार को देर रात मृत छात्रा के पिता की हालत देखकर पंधरी गांव में की।

छात्रा की मौंत की खबर पाकर भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष शिवशंकर सिंह खन्ना शनिवार को देर रात पंधरी गांव पहुंचकर मृत छात्रा के पिता अमर सिंह से मुलाकात करके उन्हें ढांढस बंधाया। बतादें कि मृत छात्रा के पिता का इसी सप्ताह ग्वालियर में पेट का आपरेशन हुआ था। आपरेशन के ठीक दूसरे दिन पुत्री की हत्या हो गयी। घटना की सूचना पाकर वह बगैर उपचार कराये ही वापस गांव आ गये है। भाजपा नेता ने उनकी हालत देखकर अपने खर्चे से लखनऊ में इलाज कराने का आश्वासन दिया है। भाजपा नेता ने अमर सिंह को अपनी सुविधा के अनुसार लखनऊ चलने का आफर दिया है।
उन्होने काह कि आप चाहे तब तक हम चलने को तैयार है और उपचार में खर्चे का जिम्मा हम पूरी
तरह से उठायेंगे। इसके अलावा छात्रा के मामले में उन्होने निष्पक्ष जांच कराने का भरोसा दिलाया। इस मौके पर राजभैया सिंह, रामरतन कुमुद,उपेन्द्र चतुर्वेदी, सुरेन्द्र सिंह, शिवराम, ब्रजेश शर्मा आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

6 – पांच दिन गुजर जाने के बाद पुलिस के हाथ खाली

सुमेरपुर-हमीरपुर। गत 25 दिसम्बर को तड़के रेलवे ट्रैक पर मिली छात्रा की लाश की गुत्थी पुलिस पांचवे दिन भी सुलझाने में नाकामयाब रही है। कोचिंग सेंटरो, सहेली छात्राओं, रिश्तेदारों से तमाम तरह के सवाल जवाब करने के बाद पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज के अलावा कुछ भी हाथ नही लगा है।
गत 25 दिसम्बर को पंधरी गांव के निवासी अमर सिंह की पुत्री खुश्बू सिंह तड़के साढ़े पांच बजे घर से कस्बे में कोचिंग पढ़ने के लिये निकली थी। वही कस्बे के राजकीय बालिका इण्टर कालेज में बारहवीं की छात्रा थी। इसका शव सुबह सात बजे रेलवे ट्रैक में कडोरन नाला पु के पास मिला था। उस समय छात्रा की शिनाख्त नही हो सकी थी। शिनाख्त के बाद पुलिस ने मृतका के चाचा मानसिंह की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा पंजीकृत किया था।
मृतका के दूसरे चाचा धर्मेन्द्र सिंह ने पोस्टमार्टम के बाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को शिकायती पत्र भेजकर हत्या और दुष्कर्म का आरोप लगाकर दुबारा पोस्मार्टम कराने की मांग की थी। परिजनो की दुबारा मांग करने पर जिलाधिकारी के आदेश पर चार डाक्टरों के पैनल ने मृत छात्रा का दुबारा पोस्टमार्टम किया था। डीआईजी दीपक कुमार ने छात्रा की हत्या को गंभीरता के साथ लेते हुये राज्य मेडिकोलीगल टीम को घटना स्थल पर बुलाकर घटना का रीटेस्ट कराकर नये सिरे से जांच करायी है। उधर हत्या के खुलासे में जुटे थानाध्यक्ष श्रीप्रकाश ने छात्रा के कोचिंग संेटर संचालक, सहेली छात्राओं एवं कुछ करीबी दिश्तेदारों से व्यापक पूंछताछ की है। परंतु कुछ भी खास हाथ नही लगा है। इससे पुलिस की जांच गति नही पकड़ पा रही है। पुलिस को पांच दिन में महज एक सीसीटीवी फुटेज में छात्रा रेलवे ट्रैक की ओर जाती दिखायी दे रही है। इसके अलावा उसके हाथ कुछ भी नही है। थानाध्यक्ष ने बताया कि खुलासे के प्रयास जारी है। जल्द ही घटना का खुलासा किया जायेगा।
आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

7 – ठण्ड से वृद्व ने दम तोड़ा, आधा दर्जन गौवंश भी मरा

सुमेरपुर-हमीरपुर। ठण्ड का कहर जारी रहने से इंगोहटा में एक वृद्व ने ठण्ड की चपेट में आकर दम तोड़ दिया है। उधर पंचायतो में बनाये गये अन्ना गौवंश आश्रय स्थल में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम न होने से गौवंश के मरने का सिलसिला जारी है। बीती रात ठण्ड की चपेट में आकर पलरा, बांक, बांकी, बिल्हड़ी, बण्डा, कलौलीजार में एक एक गौवंश ने दम तोड दिया है। जिन्हे ग्राम प्रधानों ने आनन फानन में बाहर कराकर दफना दिया है।

शनिवार/रविवार की रात में ठण्ड ने जमकर कहर बरपाया। बीती रात ठण्ड की चपेट में आकर इंगोहटा निवासी इंदल शिवहरे 75 वर्ष ने दम तोड दिया। इसके अलावा पंचायतों में बंद गौवंश के लिये बचाव के ठोंस इंतजाम न होने में पलरा, बांकी, बण्डा, बिलहडी, बांकी, कलौलीजार में एक एक गौवंश की जान चली गयी है। गौवंश के मरने पर ग्राम प्रधानो ने इनको बाहर कराकर आनन फानन में दफन करा दिया। उधर रविवार को दिन में तापमान दस डिग्री से ऊपर नही जा सका। इससे पूरे दिन लोग अलाव तापते नजर आये।
दोपहर बाद सूर्य देव के दर्शन जरूर हुये परंतु यह ठण्ड में अपने होने का अहसास ही नही करा सके और लोग धूप के बजाय अलाव में हाथ सेंकते नजर आये।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

8 – गाड़ी चालक की मौंत से परिवार में कोहराम

सुमेरपुर-हमीरपुर। कार चलाकर परिवार का भरण पोषण करने वाले की कानपुर में
हुयी हत्या के बाद परिवार में कोहराम मच गया है। मृतक की एक पुत्री की
अभी शादी होनी है। इंगोहटा निवासी भगवानदास 50 वर्ष कार चलाकर अपने परिवार का भरण पोषण करता था। यह पिछले कई वर्षो से बिदोखर मेंदनी निवासी गिरजाशंकर द्विवेदी की
बोलेरो चलाता था। गत 11 दिसम्बर को यह बिदोखर पुरई निवासी रामस्वरूप उर्फ चिरकोटी खंगार को लेकर उपचार कराने कानपुर के मरियज अस्पताल गया था। मरीज को अस्पताल में छोडने के बाद यह गाडी अस्पताल के बाहर पार्क करके गाडी में ही सो गया था। उपचार के बाद शाम को बाहर आये मरीज ने जब गाडी लापता देखी। तब उसने गाडी मालिक से बात की। गाडी मालिक ने चालक भगवानदास से कई बार फोन से सम्पर्क करने का प्रयास किया। लेकिन बात नही हो सकी।

फोन के लगातार स्विचआंफ बताने के बाद गाडी मालिक कानपुर गये और घटना से फजलगंज
पुलिस को अवगत कराया। परंतु चालक एवं गाडी का कुछ भी पता नही लगा। 14 दिसम्बर को चालक भगवानदास का शव गंगाघाट थाना पुसि ने बरामद किया।
लावारिश शव की शिनाख्त तब नही हो सकी। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार करा दिया था। खोजबीन में जुटे परिजनो को फजलगंज पुलिस ने गंगाघाट थाने भेजा। 28 दिसम्बर को थाने पहुंचे परिजनो ने कपड़े आदि देखकर भगवानदास की शिनाख्त की। शिनाख्त होते ही परिजनों मेे कोहराम मच गया है।
मृतक की पत्नी मुलिया देवी, पुत्र राजेन्द्र, अवधेश, रामदीन, पुत्री रागनी, का्रंति, पिंकी का रो रो-रोकर बुराहाल हो गया है। पिंकी की शादी होना है। रागनी एवं का्रंति के साथ पुत्र राजेन्द्र का विवाह हो चुका है। मृतक के पास खेती बाडी नही है। वह कार चलाकर ही परिवार का भरण पोषण करता था। इस घटना के बाद मुहल्ले में मातम पसरा हुआ है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram