(हमीरपुर बुलेटिन) हमीरपुर में सैकड़ों साल पुरानी रामलीला की परम्परा टूटी, रामलीला प्रेमियों में मायूसी, पढ़े दिन भर की खबर

1- हमीरपुर में सैकड़ों साल पुरानी रामलीला की परम्परा टूटी, रामलीला प्रेमियों में मायूसी
-लगातार अतिक्रमण से रामलीला मैदान भी सिकुड़ा, आवारा मवेशियों ने डाला डेरा

हमीरपुर ब्यूरो। हमीरपुर शहर में सैकड़ों साल पुरानी परम्परा की रामलीला को यहां ग्रहण लग गया हैं। वैसे देखा जाये तो कुछ दशक पूर्व रामलीला के
मंचन के दौरान श्रीराम और लक्ष्मण को दर्शकों की भारी भीड़ के सामने मुर्गा बनाने की घटना ने आयोजकों को झकझोर कर रख दिया था। जिसके बाद नौ दिनों तक चलने वाली रामलीला का आयोजन महज तीन दिन तक होने लगा लेकिन अब तो यहां रामलीला की यह परम्परा पूरी तरह से ही खत्म हो गयी है। इससे स्थानीय लोग मायूस हैं।

हमीरपुर शहर के रहुनियां धर्मशाला के पास एक बड़े मैदान में रामलीला का आयोजन होता था। ये मैदान किसी जमाने में बहुत बड़े क्षेत्र में था लेकिन अतिक्रमण के कारण अब रामलीला का मैदान बहुत ही छोटा हो गया हैं। शहर के पुराना बेतवा घाट मुहाल निवासी वयोवृद्ध जगदीश प्रसाद उर्फ टिल्लू ने
बताया कि रहुनियां में रामलीला के आयोजन का इतिहास करीब चार सौ साल पुराना हैं। शुरू में आसपास के कलाकार यहां आकर नौ दिनों तक लीला का सुन्दर मंचन करते थे। समय बदला तो रामलीला के आयोजन के लिये मथुरा और फतेहपुर से कलाकार बुलवाये जाने लगे।
उन्होंने बताया कि हमीरपुर तहसील क्षेत्र में यहां की रामलीला बहुत ही विख्यात थी क्योंकि आसपास के तमाम गांवों के लोग भी बड़े ही उत्साह के साथ रहुनियां आकर रामलीला देखते थे।
उस समय रामलीला का मंचन पूरी रात होता था। खासतौर पर लोग गर्म शाल लेकर रामलीला देखने आते थे मगर पिछले कुछ दशक से रामलीला की रौनक छटने लगी क्योंकि रामलीला मंचन के दौरान शरारती तत्वों ने उत्पात मचाने लगे थे जिन
पर कड़ाई से शिकंजा नहीं कसा गया। इसीलिये लोगों ने मुंह फेर लिया। यहां के समाजसेवी अनवर खान ने बताया कि रहुनियां की रामलीला शारदीय नवरात्रि
पर्व पर नौ दिनों तक होती थी। जिसे हिन्दुओं के अलावा मुस्लिम वर्ग के लोग भी देखने जाते थे। यहां की रामलीला सम्प्रदायिक एकता की मिसाल थी जो
अब भूली बिसरी बातें हो गयी हैं। सेवानिवृत्त शिक्षक एवं साहित्यकार लखनलाल जोशी ने बताया कि पुरानी परम्परा की रामलीला स्थानीय कारणों के
कारण अब नहीं होती हैं।
उन्होंने बताया कि रहुनियां हमीरपुर की रामलीला
का इतिहास सैकड़ों साल पुराना हैं जिसे कुछ सालों तक आयोजक परम्परा को आगे बढ़ाते रहे लेकिन अब इस लीला से लोग ही किनारा कर गये हैं। रामलीला कमेटी के प्रमुख रामकिशन सेठ के पुत्र रवीन्द्र कुमार ने बताया कि कमेटी में शामिल लोगों की मदद से पिता जी इस लीला का मंचन कराते थे मगर उनके जाने के बाद कोई भी इस परम्परा को आगे बढ़ाने के लिये नहीं आ रहा हैं।
दर्शकों के सामने राम, लक्ष्मण को बनाया गया था मुर्गा
हमीरपुर के वरिष्ठ नागरिक एवं पूर्व ग्राम प्रधान बाबूराम प्रकाश त्रिपाठी एवं अरविन्द शुक्ला ने बताया कि करीब दो दशक पूर्व रामलीला के मंचन के दौरान कुछ अराजकतत्वों ने असलहे लेकर स्टेट पर आ गये और श्रीराम व लक्ष्मण को हजारों दर्शकों के सामने मुर्गा बना दिया था। इससे दर्शकों में अफरातफरी मच गयी थी। इस घटना से स्थानीय लोगों में भी हायतौबा मची थी। बताते है कि रामलीला का मंचन करने वाले कलाकार भी डर के मारे अगले ही दिन यहां से वापस चले गये थे। रामलीला के आयोजकों ने इस घटना से दुखी होकर लीला का वृहद स्तर पर मंचन कराने से दिलचस्पी लेना बंद कर दिया था।
इस घटना के बाद आयोजक महज तीन दिनों तक रामलीला का मंचन कराने लगे थे। इसके बाद सिर्फ धनुष यज्ञ की लीला करायी जाने लगी।
बिजनेस मैन ने रामलीला के लिये बनाई थी कमेटी
बताया जाता हैं कि हमीरपुर शहर के ओमर नगर मुहाल निवासी रामकिशन सेठ ने रामलीला के आयोजन के लिये एक कमेटी बनायी थी जिसमें हरिकिशन सेठ सहित तमाम जाने माने व्यापारी इस कमेटी में सदस्य थे। रहुनियां के रामलीला
मैदान में भी कई दुकानें किराये पर थी जिसकी आमदनी भी रामलीला के आयोजन में खर्च की जाती थी। शहर के लोग भी इसके आयोजन के लिये खुलकर चंदा देते थे। मगर पिछले कुछ दशक से ये कमेटी भी निष्क्रिय हो गयी। वर्ष 2016 तक
कमेटी के प्रमुख रामकिशन किसी तरह चंदा लेकर दो तीन दिनों के लिये रामलीला का आयोजन कराया हैं। उसके बाद फिर यह रामलीला नहीं हुयी। पिछले
साल कमेटी के प्रमुख के निधन के बाद इस लीला के बारे में सोचना ही बंद कर दिया हैं। कमेटी के अधिकांश सदस्य इस संसार में नहीं रहे।

2- नवरात्रि पर्वः देवी मंदिरों में भक्तों का उमड़ा सैलाब
-प्राचीन मंदिरों में पूजा अर्चना कर श्रद्धालुओं ने लगाये मां के जयकार

हमीरपुर ब्यूरो। हमीरपुर जिले में मंगलवार को नवरात्रि के तीसरे दिन एतिहासिक देवी मंदिरों में सुबह से श्रद्धालुओं का तांता पूजन अर्चना के लिये लगा हुआ है। महिलाओं ने विधि विधान से मां चन्द्रघंटा देवी की पूजा अर्चना कर मां के जयकारे लगाये। नवरात्रि पर्व को लेकर यहां देवी पंडाल सजाये गये है। खासकर प्राचीन मंदिरों को भी रंग रोशन कर सजाया गया है।
हमीरपुर नगर के एक हजार साल पुराने चौरादेवी मंदिर में तड़के से ही नवरात्रि पर्व के तीसरे दिन पूजा अर्चना का दौर जारी हैं।
मंदिर में पीपल के पेड़ के नीचे स्थापित मां चौरादेवी की प्रतिमा पर अभी तक डेढ़ हजार से अधिक महिलायें और पुरुष विधि विधान से पूजा अर्चना कर चुके है। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुये सुरक्षा के भी तगड़े इंतजाम किये गये हैं। यहां मंदिर परिसर पर एक दर्जन देवी देवताओं के स्थान है जहां श्रद्धालुओं ने माथा टेका। नगर के दुर्गा मंदिर में भी नवरात्रि की धूम मची हुयी है। यह मंदिर अमन शहीद मुहाल के पास टीले में बना है जहां सैकड़ों साल पुरानी मां की दुर्गा की नयनाभिराम प्रतिमा स्थापित है। जहां
बड़ी संख्या में श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचे हैं।  नगर के कालपी चौराहा के पास भी बीस फीट की ऊंचाई में टीले पर गौरादेवी मंदिर स्थापित है जहां सुबह से ही पूजा अर्चना का दौर जारी है। इस मंदिर में भी अब तक पांच सौ अधिक श्रद्धालुओं माथा टेक चुके है। यहां दिन भर पूजा अर्चना का दौर
चलेगा। मंदिर के आयोजकों ने नवरात्रि महोत्सव के तीसरे दिन चन्द्रघंटा देवी मां को प्रसन्न करने के लिये हवन का आयोजन किया है। इसके अलावा
रमेड़ी मुहाल में बड़ी देवी माता का मंदिर भी श्रद्धालुओं के लिये आस्था का केन्द्र बना हुआ हैं। नवरात्रि पर्व पर रमेड़ी, सुभाष बाजार और आसपास के इलाकों से बड़ी संख्या में महिलाओं ने मंदिर में माथा टेका और पूजा अर्चना की। यह मंदिर भी काफी प्राचीन है। ज्यादातर लोग मांगलिक कार्यक्रम से
पहले इस मंदिर में सबसे पहले पूजा अर्चना कर अनुष्ठान करते है। काली देवी मंदिर में भद्रकाली माता, और शीतला माता के मंदिरों में भी पूजा अर्चना
का दौर जारी है। नगर के पटकाना मुहाल में मां दुर्गा के मंदिर में भी नवरात्रि पर्व की धूम मची हुयी है। इसके अलावा नगर में एक दर्जन स्थानों पर देवी पंडाल सजाये गये है। यहां शाम को पंडालों में सामूहिक आरती कार्यक्रम में इलाके के लोग बड़े ही श्रद्धा से शामिल होते है।
जिले के सुमेरपुर, मौदहा, कुरारा, मुस्करा, राठ समेत अन्य इलाकों में भी देवी मंदिरों पर नवरात्रि की रौनक देखी जा रही हैं। वहीं सरीला क्षेत्र के भेड़ी गांव में मां भुवनेश्वरी मंदिर में सीमावर्ती जालौन से बड़ी संख्या
में लोग दर्शन करने मंदिर पहुंचे है। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुये पुलिस बल की तैनाती की गयी है। गांव के पंडित लक्ष्मीनारायण मिश्रा ने बताया कि ये मंदिर हजारों साल पुराना है जो गांव के बाहर ऊंचाई में स्थित है। मंदिर में अभी तक पांच हजार से अधिक लोग पूजा अर्चना कर चुके है।
यहां इस एतिहासिक मंदिर में नौ दिनों तक पूजा अर्चना के लिये श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती हैं।
चौरादेवी मंदिर परिसर पर मेले का आगाज नवरात्रि पर्व पर चौरादेवी मंदिर परिसर पर मेला लगा है। परिसर पर विभिन्न सामानों की दुकानें सजायी गयी है। महिलाओं के लिये जरूरत के सामानों के स्टाल सजाये गये है। बताते है कि मंदिर परिसर पर बारिश के कारण जगह-जगह जलभराव हैं जिससे लोगों को मंदिर तक पहुंचने में भारी दिक्कतें उठानी पड़ रही हैं।
3- शादी समारोह में गोली मारकर घायल करने में एक आरोपी को सात साल की कैद
हमीरपुर ब्यूरो। जिले में शादी समारोह के दौरान दुल्हन के भाई को गोली मारकर घायल करने के मामले में मंगलवार को विशेष न्यायाधीश (द.प्र.क्षे.)अनिल कुमार शुक्ल ने एक आरोपी को सात साल की कैद की सजा सुनायी हैं। अदालत ने उस पर साढ़े पांच हजार रुपये का जुर्माना भी किया हैं।
शासकीय अधिवक्ता रुद्र प्रताप सिंह व शैलेश स्वरूप चौरसिया ने बताया कि बिंवार में 6 मई 2007 को साढ़े चार बजे राधेश्याम की पुत्री राजू की शादी
थी। टीका कार्यक्रम के दौरान गांव के ही बच्चू उर्फ विश्व मित्र पुत्र हरीप्रसाद अवैध असलहा लेकर आया और राधेश्याम के पुत्र जगन्नाथ पर गोली चला दी जिससे वह घायल हो गया था। पुलिस ने आरोपित को अवैध तमंचा सहित गिरफ्तार किया था। इस घटना की रिपोर्ट धारा-307 आईपीसी एवं शस्त्र अधिनियम के तहत पुलिस ने दर्ज की थी। इस मामले की सुनवाई करते हुये विशेष न्यायाधीश (द.प्र.क्षे.) अनिल कुमार शुक्ल ने प्राणघातक हमले में सात साल की कैद व पांच हजार रुपये का जुर्माना तथा शस्त्र अधिनियम में पांच सौ रुपये का जुर्माना किया हैं।
परियोजना निदेशक के निरीक्षण में तीन कैशियरों पर कार्रवाई सुमेरपुर-हमीरपुर। परियोजना निदेशक ने मंगलवार को विकास खण्ड कार्यालय सुमेरपुर का औचक निरीक्षण कर अभिलेखों के अधूरे पाये जाने पर वरिष्ठ लिपिक को कड़ी फटकार लगायी हैं। साथ ही यहां पर तैनात रहे तीन कैशियरों के खिलाफ चार्ज न देने पर कार्रवाई करते हुये वेतन रोकने के आदेश किये गये हैं।
परियोजना निदेशक ग्राम्य विकास अभिकरण चित्रसेन सिंह, विकास खण्ड कार्यालय सुमेरपुर अचानक पहुंचे और सरकारी योजनाओं की समीक्षा शुरू कर
दी। योजनाओं की प्रगति संतोषजनक न पाये जाने और अधूरे अभिलेख देख परियोजना निदेशक ने वरिष्ठ लिपिक को कड़ी फटकार लगायी हैं। उन्होंने
ब्लाक कार्यालय में तैनात रहे संजय पाण्डेय, महाराजदीन व गोहांड ब्लाक में तैनात रहे इमरान बाबू के खिलाफ चार्ज न देने पर कार्रवाई करते हुये
वेतन रोकने की संस्तुति की हैं। परियोजना निदेशक ने इस मामले को लेकर जिला विकास अधिकारी हमीरपुर एवं कानपुर को पत्र भी कार्रवाई के लिये भेजा हैं। बता दे कि महाराजदीन मौदहा, इमरान बाबू सुमेरपुर तथा संजय पाण्डेय की तैनाती कानपुर में हैं। संजय पाण्डेय के खिलाफ गबन का मुकदमा भी दर्ज
हुआ था जिसमें वह निलम्बित किये गये थे। परियोजना निदेशक ने बताया कि इनके कर्मियों ने अभी तक चार्ज हस्तांतरित नहीं किया हैं जिससे तमाम दिक्कतें आ रही हैं।

4- रत्नेश बने बीडीओ

सुमेरपुर-हमीरपुर। मौदहा में तैनात रहे खण्ड विकास अधिकारी रत्नेश सिंह को मंगलवार को सुमेरपुर की कमान सौंप दी गयी है। यहां का चार्ज संभाले रामसिंह को गोहाण्ड का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है।
खण्ड विकास अधिकारी का चार्ज दुबारा रत्नेश सिंह को दिया गया है। इसके पूर्व वह यहां पर तैनात रह चुके है। मंगलवार को उन्होने यहां आकर चार्ज
संभाल लिया। यहां का चार्ज संभाल रहे रामसिंह को गोहाण्ड का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है। रत्नेश सिंह के चार्ज संभालते ही ग्राम प्रधानो, ग्राम पंचायत विकास अधिकारियों में खुशी की लहर दौड गयी है।

5- ई-टेडरिंग ब्यवस्था में ठेकेदार का पंजीकरण अनिवार्य नही होगा

सुमेरपुर-हमीरपुर। ई-टेडरिंग ब्यवस्था में अब पूरे देश का कोई भी ठेकेदार किसी भी नगर पालिका एवं नगर पंचायतो में टेण्डर डालकर निविदा हासिल कर
सकता है। यह आदेश गत बीस सितम्बर को प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह ने प्रदेश के सम्स्त नगर आयुक्तो एवं अधिशाषी अधिकारियों को भेजे पत्र में
दिये है। इससे आदेश चेहते ठेकेदारो का निकायों से सफाया होना तय हो गया है।
गत बीस सितम्बर को प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह ने सभी आयुक्तो, अधिशाषी अधिकारियों को भेजे आदेश में स्पष्ट किया है कि ई-टेडरिंग ब्यवस्था में
देश का कोई ठेकेदार हिस्सा लेकर टेण्डर हासिल कर सकता है। इसलिये नगर निगमो, नगर पालिका परिषदो तथा नगर पंचायतो में पंजीकृत ठेकेदारो का कोई औचित्य नही है। इसलिये इनका पंजीकरण आवश्यक नही है। इसलिये टेण्डर हासिल
करने वाले ठेकेदारो से शर्तो के अनुसार अनुबंध कराना सुनिश्चित किया जायेगा। सरकार के इस नये आदेश से चहेतो ठेकेदारो को करारा झटका लगना तय
है। और इस आदेश के बाद टेण्डारो के समय होने वाली मनमानी पर भी अंकुश लगेगा।

6- नदियों के तटबंध के निर्माण को ग्रामीण 15 को करेंगे प्रदर्शन
-बाढ़ और बारिश से यमुना नदी में दर्जनों मकानों के जमींदोज होने से ग्रामीण है आक्रोशित
हमीरपुर ब्यूरो। हमीरपुर में यमुना और बेतवा नदियों की कटान से कई मकानों के जमींदोज होने से नाराज दो गांवों के लोगों ने मंगलवार को धरना
प्रदर्शन करने का एलान किया हैं। ग्रामीणों ने 15 अक्टूबर को विरोध प्रदर्शन करने की तैयारी भी शुरू कर दी हैं। पिंचिग बनाओ आन्दोलन के संयोजक सुभाष मेरापुरी के नेतृत्व में हरि प्रसाद निषाद, जसवंत सिंह निषाद, संतोष निषाद, रामबाबू, रमेश चन्द्र, शिवकुमार, अरुण कुमार, रानी पटेल, महेश चमन सहित तमाम ग्रामीणों ने बताया कि हाल
में ही यमुना और बेतवा नदियों की उफान से मेरापुर, भिलांवा व केसरिया का डेरा में भारी नुकसान हुआ हैं। एक दर्जन से अधिक मकान भी कटान से यमुना
नदी में जमींदोज हो गये हैं। ग्रामीणों ने बताया कि यमुना नदी की कटान से अभी तक सौ से अधिक मकान नदी में समा चुके हैं इसके बाद भी तटबंध के
निर्माण नहीं कराये जा रहे हैं। सुभाष मेरापुरी ने बताया कि इस मामले को लेकर पिछले कई सालों से लगातार प्रशासन और शासन को पत्र भेजे जा चुके है
लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हो रही हैं। इसीलिये विधानसभा के उपचुनाव में इन इलाकों के लोगों ने बहिष्कार भी किया था। उन्होंने बताया कि यदि
नदियों के तटबंध के निर्माण कराने के साथ ही लिफ्ट केनालों की क्षमता बढ़ाने और रमेड़ी डांडा कृषि क्षेत्र में दस सरकारी नलकूप नहीं लगवाये गये
तो 15 अक्टूबर को विरोध प्रदर्शन किया जायेगा। ग्रामीणों ने एलान भी किया कि यदि समस्याओं की अनदेखी की गयी तो आगामी 2022 के विधानसभा चुनाव का भी बहिष्कार किया जायेगा।

7- कार खोलकर टप्पेबाजी कर रहा युवक पकडा

सुमेरपुर-हमीरपुर। बीच बजाार में हाइवे किनारे बंद खडी कार में पर्स एवं मोबाइल पार करते समय एक टप्पेबाज को लोगो ने रंगे हाथो पकडकर पुलिस के
हवाले कर दिया है। पकडे गये युवक से पुलिस पूंछताछ कर रही है।
कस्बे की सब्जी मण्डी में रहने वाले कन्हैया शर्मा अपनी कार लेकर बाजार में दवा लेने आये थे। कस्बे के मध्य बाजार में साहू मेडिकल स्टोर में यह
दबा लेने चले गये। इसी बीच एक अज्ञात टप्पेबाज डुब्लीकेट चाबी से कार की खिडकी खोली और कार के अंदर दाखिल होकर कार में रखा पर्स एवं मोबाइल पार कर दिया। कार से भागने के पूर्व कार मालिक की नगर कार के अंदर दाखिल टप्पेबाज पर पड गयी और उसने दौडकर उसे कार के अंदर ही दबोच लिया। इसके बाद उसे पुलिस के सुपुर्द कर दिया। पुलिस गिरफ्त में यह टप्पेबाज कभी हमीरपुर कभी मुस्करा का निवासी बता रहा है। पुलिस इससे कडाई से पूंछताछ कर रही है।

8- पापो से मुक्ति का मार्ग प्रशस्त करती है श्रीमदभागवत कथाः किशोरी

सुमेरपुर-हमीरपुर। ब्रहमलीन संत स्वामी रोटीराम महाराज की समाधि स्थल गायत्री तपोभूमि में श्रीमद भागवत कथा का आयोजन धूमधाम के साथ कराया गया है। प्रथम दिन कस्बे में भव्य शोभायात्रा निकालकर कथा का शुभारम्भ गणेश पूजन एवं कलश स्थापना के साथ किया गया। इंगोहटा के निवासी समाजसेवी रमेश कुशवाहा ने उत्तर भारत के ब्रहमलीन संत स्वामी रोटीराम महाराज की समाधित
स्थल गायत्री तपोभूमि में श्रीमद भागवत कथा सप्ताह का आयोजन कराया है। कथा के प्रथम दिन कस्बे में गाजे बाजे के साथ भव्य शोभयात्रा निकाली गयी।
शोभयात्रा तपोभूमि से शुरू होकर कस्बे में भ्रमण के बाद तपोभूमि में आकर सम्पन्न हुयी। गणेश पूजन, कलश स्थापना के बाद कथा वाचिका आनंदमूर्ति
प्रिया किशोरी भारद्वाज मथुरा ने श्रीमद भागवत ग्रंथ पर विस्तार से प्रकाश डालते हुये कहा कि इसके श्रवण मात्र से मनुष्य सारे पापो से मुक्ति पा जाता है। इस मौके पर रमेश कुशवाहा सपरिवार मौजूद रहे।
9- मूसलाधार बारिश से हजारों बीघे की खरीफ की फसलें चौपट, किसानों में हाहाकार

सुमेरपुर-हमीरपुर। मंगलवार को एक घंटे से अधिक हुयी मूसलाधार बारिश ने किसानों की बची उम्मीदों पर पानी फेर दिया हैं। खेतों में कटी पड़ी तिल की
फसलें पानी से सडऩे के कगार पर पहुंच गयी हैं। बारिश के कहर से किसान बुरी तरह से कराह उठा हैं।
पिछले कई दिनों से हो रही लगातार बारिश का दौर सोमवार को थमने के बाद किसान राहत महसूस कर रहा था क्योंकि उसे उम्मीद थी कि बची-खुची फसलों से घर खर्च निकल आयेगा लेकिन मंगलवार को भी एक घंटे से अधिक हुयी मूसलाधार बारिश से किसानों के अरमानों की फसलों का बंटाधार हो गया हैं। जिले के सुमेरपुर क्षेत्र में भारी बारिश ने खेतों में कटी पड़ी तिल की फसल को सडऩे के कगार पर ला दिया हैं। प्रदीप गुप्ता, ब्रज किशोर यादव, वीरेन्द्र यादव, जगभान सिंह, रामेश्वर, रामकिशन, बच्चा कुशवाहा, महेश्वरीदीन, रामशंकर, घसीटा व प्रभुदयाल सहित तमाम किसानों ने अपना दुखड़ा सुनाते हुये बताया कि इस बारिश ने अब सब कुछ छीन लिया हैं। पहले से ही खेत पानी से लबालब थे लेकिन एक घंटे की फिर मूसलाधार बारिश ने कोढ़ में खाज का काम
करते हुये बच्ची-खुची उम्मीद भी छीन ली हैं। अब खरीफ की फसलों में बोयी गयी तिल, उरद व मूंग से कुछ भी हासिल नहीं होगा।

10- महिला की संदिग्ध हालत में मौत

मौदहा हमीरपुर। मंगलवार को एक महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी। मौदहा कोतवाली क्षेत्र के पढ़ोरी गांव निवासी श्रीमती विजय कुमारी (55)
पत्नी रामस्वरूप घर के बाहर खड़ी थी तभी चक्कर खाकर वह नीचे गिर पड़ी। परिजन उसे आननफानन इलाज के लिये सरकारी अस्पताल ले गये जहां डाक्टरों ने उसे देखते ही मृत घोषित कर दिया हैं।
11- मां दुर्गा पर अभद्र टिप्पणी करने पर भगवा रक्षकों ने किया हंगामा, आरोपी गिरफ्तार

मौदहा हमीरपुर।ं नवरात्रि पर्व पर माता दुर्गा पर अभद्र टिप्पणी करने के मामले को लेकर मंगलवार को भगवा रक्षकों ने सड़क पर उतरकर हंगामा किया और
कोतवाली में घटना की शिकायत कर आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग की।
नवदुर्गा कमेटियों ने आरोपित की गिरफ्तारी न होने पर दुर्गा पंडाल बंद रखने का भी एलान किया। मामले की गंभीरता को देखते हुये पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया हैं।
मौदहा कोतवाली क्षेत्र के कई इलाकों में नवदुर्गा पर्व की प्रतिमायें स्थापित हैं। मंगलवार को गुरदहा गांव निवासी नरेश कुमार ने अपनी फेसबुक में मां दुर्गा पर अभद्र और अश्लील टिप्पणी पोस्ट कर दी। जिससे समस्त नवदुर्गा कमेटियों के लोग गुस्से से भड़क गये। कमेटी के अध्यक्ष आशीष सिंह भगवा रक्षक दल, बसंत सोनी, आकाश त्रिपाठी, हर्षित गुप्ता, अंकित चौरसिया, श्याम शिवहरे, कल्लू, गोलू गुप्ता, निशांत गुप्ता, मोनू, संतोष, शिवम गुप्ता, कपिल गुप्ता, पुष्पेन्द्र यादव, पंकज यादव, अखिलेश गोस्वामी, वैभव सोनी, संदीप कुशवाहाव मोहित सहित तमाम युवकों ने सड़कों पर प्रदर्शन कर नारेबाजी की और कोतवाली पहुंचकर इस मामले में आरोपित को गिरफ्तार करने की मांग की। प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी भी दी कि यदि मामले में कार्यवाही नहीं की गयी तो दुर्गा पंडालों के कपाट बंद कर दिये जायेंगे।
मौदहा के कोतवाल विक्रमाजीत सिंह ने बताया कि इस मामले की रिपोर्ट दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया हैैं। मामले की जांच भी जारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram