169 दिनों के बाद सोमवार से पटरी पर दौड़ेगी दिल्ली मेट्रो

एक से ज्यादा लाइन वाले मेट्रो को सोमवार 7 सितंबर से अलग-अलग लाइनों के लिए एक क्रमबद्ध रूप से खोला जाएगा, जिससे 12 सितंबर 2020 तक सभी लाइनें चालू हो सकें। कोरोना महामारी के चलते गत 22 मार्च से बंद पड़ी दिल्ली मेट्रो 169 दिनों के बाद फिर से चलने के लिए तैयार है। मेट्रो का परिचालन कल (सोमवार) से तीन चरणों में शुरू होगा। सबसे पहले मेट्रो ट्रेन येलो लाइन पर शुरू की जाएगी। इसके बाद अलग-अलग चरण में इसका संचालन होगा। स्वास्थ्‍य विशेषज्ञों ने यात्रियों को सलाह दी है कि मेट्रो में सफर करते वक्त विशेष एहतियात बरतें।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

डीएमआरसी ने रविवार को विज्ञप्ति जारी कर कहा कि दिल्ली मेट्रो अपनी सेवाओं को फिर से शुरू करने को तैयार है, जो कोरोना महामारी के कारण 22 मार्च से निलंबित कर दी गई थी। सोमवार से येलो लाइन (समयपुर बादली से हुडा सिटी सेंटर) पर मेट्रो शुरू होगी। इसके बाद अगले पांच दिनों की अवधि में 12 सितम्बर तक, बाकी लाइनों पर भी कोविड-19 के लिए सभी सुरक्षा उपायों के साथ मेट्रो का परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। यात्रियों को सेवाओं की बहाली के साथ सामाजिक दूरी के साथ फेस मास्क और सैनिटाइजेशन जैसे नियमों का पालन करना होगा।

दिल्ली मेट्रो
दिल्ली मेट्रो

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

डीएमआरसी ने कहा कि सोमवार और मंगलवार को, केवल येलो लाइन पर सुबह (सुबह 7 बजे से 11 बजे तक) और शाम (शाम 4 बजे से शाम 8 बजे तक) को चार घंटे की अवधि के लिए परिचालन रहेगा। ट्रेनें 2 मिनट 44 सेकंड से लेकर 5 मिनट 28 सेकंड तक की आवृत्ति के साथ उपलब्ध होंगी। इसके बाद 9 से 12 सितम्बर तक अन्य लाइनों के साथ श्रेणीबद्ध तरीके से आगे बढ़ेंगे।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

यात्रियों के प्रवाह को नियंत्रित किया जाएगा

डीएमआरसी ने कहा कि व्यवस्था बनाए रखने और सामाजिक मानदंडों के साथ यात्रियों के प्रवाह को नियंत्रित करने के लिए केवल एक या दो गेट खुले रखे जाएंगे। यात्रियों को डीएमआरसी वेबसाइट से पहले ही निर्धारित गेट नंबर एवं स्थान की जांच करने की सलाह दी गई है। स्टेशनों पर नियमित फ्रंटलाइन स्टाफ के अलावा, डीएमआरसी ने नए मानदंडों के मद्देनजर यात्रियों की सहायता और मार्गदर्शन करने के लिए लगभग 1000 अधिकारियों एवं कर्मचारियों की अतिरिक्त तैनाती की है। सभी कर्मचारियों को सलाह दी गई है कि इन परीक्षण समय में सकारात्मक और देखभाल के दृष्टिकोण के साथ यात्रियों को प्रबंधित करने के लिए दंडात्मक के बजाय संवेदीकरण पर प्रारंभिक ध्यान दें। अपनी और सभी की सुरक्षा के लिए यात्रा के दौरान नए मानदंडों का लगातार पालन किया जाए। सभी यात्रियों से भी ड्यूटी पर कर्मियों के साथ सहयोग करने की अपील की जाती है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

डीएमआरसी ने यात्रियों से सार्वजनिक रूप से जहां तक ​​संभव हो अनावश्यक यात्रा से बचने की सलाह दी है। डीएमआरसी ने कहा कि इसके अलावा यात्री ऑफिस, घर एवं अन्य कामों के लिए यात्रा को बहुत हद तक कम करने की कोशिश करें। डीएमआरसी ने मेट्रो में यात्रा के दौरान यात्रियों से ‘टॉक लेस’ की अपील की है। ‘आरोग्य सेतु’ ऐप का उपयोग स्मार्टफोन वाले यात्रियों के लिए करने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा यात्रियों को 15 से 30 मिनट का अतिरिक्त समय रखने की सलाह दी है। डीएमआरसी ने कहा कि एक स्मार्ट यात्री बनें और मेट्रो की ओर जाते समय अपने स्मार्ट कार्ड को ले जाएं। यह संपर्क रहित, आसानी से ऑनलाइन मोड के माध्यम से रिचार्जेबल है। टोकन स्टेशनों पर उपलब्ध नहीं होंगे। डीएमआरसी ने कहा कि रोकथाम क्षेत्रों (केंटेनमेंट जोन) में कोई सेवा नहीं होगी।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

स्‍टेशनों पर भीड़ का प्रबंधन

डीएमआरसी के अनुसार बाहरी स्टेशनों पर भीड़ के बेहतर प्रबंधन के लिए लगभग 1,000 नागरिक सुरक्षा स्वयंसेवकों को प्रदान करने के लिए वह अधिकारियों के संपर्क में है। इसके अलावा अधिकारियों से अनुरोध किया गया है कि वे डीएमआरसी के लगभग 15000 कर्मचारियों के एंटीजन परीक्षण की व्यवस्था करें, जो अब पूरे दिन जनता को संभालेंगे। डीएमआरसी ने यात्रियों को न्यूनतम सामान के साथ यात्रा करने की सलाह है। यात्रा के दौरान, केवल जेब-आकार के हैंड सैनिटाइजर रखें। सुरक्षा बिंदु से 30 मिलीलीटर से अधिक मात्रा में हैंड सैनिटाइजर की अनुमति नहीं दी जाएगी। डीएमआरसी ने कहा कि दिल्ली मेट्रो दिल्ली-एनसीआर में 285 स्टेशनों के साथ 389 किमी मेट्रो नेटवर्क का संचालन करती है, जिसमें गुरुग्राम में रैपिड मेट्रो और नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो की एक्वा लाइन शामिल है।

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram