(हमीरपुर बुलेटिन) एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिये 28 गांवों से 96.70 फीसद खरीदी गयी भूमि, पढ़े दिनभर की खबरे..

1- ट्रैक्टर ट्राली से टकराई मोटरसाइकिल, चालक की मौत
अपने रिश्तेदार के यहां मोटरसाइकिल से जा रहे एक युवक ट्रैक्टर ट्राली से टकरा गया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। बुधवार को पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिये भेजा है।
पड़ोसी जनपद जालौन के डकौर थाना क्षेत्र के बड़ी बंधौली गांव निवासी विक्रम कुमार (23) मंगलवार की देर रात मोटरसाइकिल से हमीरपुर जिले के चिकासी थाना क्षेत्र के इटैलिया राजा गांव जा रहा था, तभी रिहुंटा गांव के पास ट्रैक्टर ट्राली से टकरा गया। इससे उसकी मौके पर मौत हो गयी। घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंची यूपी-112 की पुलिस ने थाने में घटना की जानकारी दी। पुलिस ने घटनास्थल पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजवाया। पुलिस ने बताया कि मृतक हेलमेट नहीं पहने था। मृतक के परिजन घटना की सूचना पाते ही मौके पर पहुंच गये हैं। बुधवार को पुलिस ने परिजनों के सामने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिये भेजा है।
2 – एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिये 28 गांवों से 96.70 फीसद खरीदी गयी भूमि
– सामाजिक समाधान को अधिकारियों की एक अध्ययन कमेटी तैयार करेगी रिपोर्ट
बुन्देलखंड एक्सप्रेस-वे निर्माण के लिये 28 गांवों के 3556 किसानों की भूमि की प्रशासन ने क्रय किया हैै। भूमि बेचने वाले ज्यादातर किसान एक्सप्रेस-वे के निर्माण को लेकर बेहद खुश हैं। इसके लिये उन्हें सर्किल रेट से चार गुना अधिक पैसा मिला है। इसमें राजस्व विभाग ने अभी तक 195 करोड़ रुपये का भुगतान भी किसानों को कर दिया है।
पैतृक जमीन जाने पर तमाम किसानों ने खेत खरीदे हैं। बुन्देलखंड एक्सप्रेस-वे के लिये अब टेण्डर प्रक्रिया के शुरू होने की संभावना है। एक्सप्रेस-वे को लेकर एक सामाजिक समाधान के तहत अधिकारियों की एक अध्ययन कमेटी किसानों के बीच जाकर उनसे बातचीत करेगी और रिपोर्ट शासन को देगी। हमीरपुर जिले में कुल 694 हेक्टेयर जमीन में 96.70 फीसद भूमि अभी तक क्रय की जा सकी है। अभी करीब 22 हेक्टेयर भूमि का मामला लम्बित है। इसे क्रय करने के पीछे कहीं अदालतों में जमीन सम्बन्धी मुकदमे लम्बित होना बताया जा रहा है तो कुछ जमीन देने से भी किसान पीछे हट रहे है। तालाब, मंदिर, मजार, बाग और शवदाह घर जैसे स्थान भी रास्ते में पड़ रहे है।
तालाब की जमीन जाने पर इनका बढ़ेगा एरिया
बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे में पड़ने वाले तालाबों को अपने कब्जे में लेने से पहले उसके एरिया से 125 गुना अधिक जमीन ग्राम पंचायतों में क्रय की जाएगी। इसके बाद संबंधित ग्राम पंचायत में तालाब की खुदाई कराकर उसका सुंदरीकरण कराया जाएगा।
खेत और प्लाट खरीद लिए
बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे में 13 बीघे जमीन गहरौली निवासी लुट्टन अहिरवार की चली गई है। किसान ने कहा कि उसे जमीन जाने का कोई गम नहीं है। कहा कि जमीन बेहद कमजोर होने से पैदावार कम होती थी। इसके जाने से उसने गांव में ही 10 बीघे जमीन खरीद ली है। साथ ही दोनों लड़कों के लिए विकसित कस्बों में प्लाट खरीद लिए हैं।
बैंक के लगा रहे चक्कर
गहरौली निवासी जयनारायण गुरूदेव बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे जाने से पहले तो खुश थे लेकिन अब भुगतान को लेकर बैंक के चक्कर लगा रहे हैं। कहते हैं कि 11 बीघे जमीन गई है। बैंक से कर्ज लिया था उसी के चक्कर में उनका रुपया बैंक में फंसा है। कहते हैं कि उनके जैसे करीब एक दर्जन से अधिक किसान हैं जिनका धन बैंक में जमा है लेकिन निकल नहीं रहा है।
किसी अच्छे काम में करेगी धन का उपयोग
सरीला तहसील के वीरा गांव निवासी अनीता पत्नी महिपाल की एक बीघे जमीन बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे में एक बीघे जमीन गई है। महिला ने बताया कि उनके पति रेलवे में इंजीनियर हैं। उन्होंने कहा कि उसने साढ़े चार बीघे जमीन खरीदी थी। उसे सवा छह लाख रुपये मिला है जो बैंक में ही पड़ा है। इस पैसे का किसी अच्छे कार्य में सदुपयोग करेंगी।
बीमारी पर कराया इलाज
राठ तहसील के चिल्ली निवासी रामखिलावन पुत्र सेवा कहते हैं कि दिल्ली में संगमरमर के पत्थरों को तराशने का काम करता रहा है। उन्होंने कहा कि उसे बीमारी ने पकड़ लिया तो डाक्टरों ने इलाज में अधिक रुपये खर्च करने की बात कही। कहा कि उसकी सवा दो बीघे पैतृक जमीन बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे में गई है। 10 लाख रुपये मिलने पर उसने इलाज कराया है। अब गांव में ही मकान में एक दुकान बनवा रहा है। इसी से गुजारा करेगा।
जल्द ही शासन स्तर से शुरू होगी टेंडर प्रक्रियाः एडीएम
अपर जिलाधिकारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव ने बुधवार को बताया कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए जमीनों का बैनामा कार्य लगभग पूरा हो चुका है। किसानों को 195 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है। करीब 22 हेक्टेयर जमीन का निस्तारण किया जाना है। जल्द ही शासन स्तर से टेंडर प्रक्रिया शुरू होगी।
3 – महिला ने पड़ोसी पर लगाया दुष्कर्म का आरोप, पुलिस बोल रही हुई छेड़खानी 
ललपुरा थाना क्षेत्र में बुधवार को एक पीड़ित महिला ने पड़ोसी युवक पर दुष्कर्म करने का गंभीर आरोप लगाया है। महिला ने तहरीर देकर अरोपित के खिलाफ कार्रवाई करने की गुहार पुलिस से लगाई है। जबकि थानाध्यक्ष ने बताया कि छेड़खानी की बात सामने आयी है, पीड़ित का मेडिकल कराया जा रहा है।
ललपुरा थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली महिला ने बुधवार को थाने में पड़ोसी युवक बउआ पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। इसमें उसने बताया कि मंगलवार की रात वह कमरे में सो रही थी। इसी बीच अवैध असलहा लेकर पड़ोसी बउआ उसके कमरे में घुस आया है और दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया। इस बीच महिला ने मदद के लिए चीखना शुरु किया तो आसपड़ोस के लोग इकट्ठा हो गए तो आरोपित ने जान से मारने की धमकी देकर मौके से फरार हो गया।
थानाध्यक्ष बांके बिहारी ने बताया कि पीड़ित के साथ सिर्फ छेडख़ानी की घटना हुई है। फिलहाल पीड़ित महिला की ओर से तहरीर मिली है। युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर महिला का मेडिकल कराया जा रहा है।
नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ कांग्रेस ने सड़क जाम कर की नारेबाजी

हमीरपुर में बुधवार को दोपहर बाद कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने नागरिकता संशोधन बिल को लेकर यहां सड़क पर उतरकर केन्द्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुये बस स्टाप में जाम लगाया और इस कानून की प्रतीकात्मक प्रतियां जलायी।

जिला कांग्रेस कमेटी की जिलाध्यक्ष नीलम निषाद के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने स्थानीय बस स्टाप में सड़क जाम कर नागरिका संशोधन बिल की प्रतीकात्मक प्रतियां जलाकर केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जिलाध्यक्ष नीलम निषाद व पार्टी के जिला प्रवक्ता लक्ष्मीकांत त्रिपाठी ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार एक विशेष सम्प्रदाय को निशाना बनाने के मकसद से भारत के धर्म निरपेक्ष स्वरूप को क्षति पहुंचाने के लिये आतुर है। हिन्दु, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने का प्रस्ताव जो रखा गया है और एक धर्म विशेष के नागरिकों की अनदेखी की जा रही वह भारत की साख गिराने वाला आत्मघाती कदम है। विरोध प्रदर्शन के बाद कांग्रेसियों ने राष्ट्रपति को सम्बोधित एक ज्ञापन प्रशासन को दिया। जिसमें संविधान से छेड़छाड़ करने का दोषी मानते हुये केन्द्र की भाजपा सरकार को अविलम्ब बर्खास्त करने की मांग की गयी है। इस दौरान प्रदीप निषाद, आशीष शिवहरे, निकेता कुटार, दीप कमल निषाद, लक्ष्मीकांत त्रिपाठी, संजय वीर सिंह, रामदेवी, धीरेन्द्र पाल, श्याम बिहारी, हरनारायण, शैलेश कुमार अहिरवार, धर्मेन्द्र गुप्ता, दीपक चक्रवर्ती व हिमांशु सैनी आदि मौजूद रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *