5 बाते जो महात्मा गांधी से सीखे – Teachings Of Mahatma Gandhi

महात्मा गांधी उन्हें देश का राष्ट्रपिता भी कहा जाता है। अपने अहिंसात्मक आन्दोलन से उन्होंने देश के बहुत से लोगो को प्रेरित किया था। और साथ ही ब्रिटिश राज से भारत को मुक्त भी किया था। गांधीजी को सत्य और सरलता की मूर्ति माना जाता है।

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

गांधीजी की जीवनी, “माय एक्सपेरिमेंट विथ ट्रुथ” में उन्होंने बचपन से लेकर अपने सारे पहलुओ को पूरी सच्चाई के साथ बताया है। महात्मा गांधी का पूरा जीवन ही हमारे लिये सबसे बड़ी प्रेरणा है। आज भी उनके जीवन की कहानिया पढ़कर दुनिया में लाखो लोग प्रेरित होते है। यहाँ निचे 5 मुख्य बाते दी गयी है जो हमें महात्मा गांधी से सीखनी चाहिये।

झक्कास खबर
झक्कास खबर

5 बाते जो महात्मा गांधी से सीखनी चाहिये – Teachings of Mahatma Gandhi in Hindi

1. कभी हार न मानो और लगातार प्रयास करते रहो। ~ Mahatma Gandhi

महात्मा गांधी ने कभी हार नही मानी, अपने जीवन में वे कई बार जेल गये लेकिन उन्होंने देश की आज़ादी के लिये संघर्ष करना कभी नही छोड़ा। उन्ही की तरह हमें भी अपने लक्ष्य को पाने के लिये लगातार संघर्ष करते रहना चाहिये।

क्योकि जब तक हम सफलता पाने के लिये संघर्ष नही करेंगे तब तक हमें सफलता मिलेगी ही नही। और संघर्ष करते रहने से ही हम अपने सपनो को साकार कर सकते है और सफलता हासिल कर सकते है।

2. लक्ष्य का रास्ता भी लक्ष्य जैसा सुन्दर होता है। ~ Mahatma Gandhi

महात्मा गांधी एक मजबूत चरित्र वाले आदमी थे। वह भारत की आज़ादी के लिये ऐसी कोई भी विधि नही अपनाना चाहते थे जिनसे उनकी अंतरआत्मा को ठेस पहुचे। इसीलिए उन्होंने भारत को आज़ाद करवाने के लिये हिंसा का सहारा न लेते हुए अहिंसा का सहारा लिया था।

हमें भी उसी तरह अपने लक्ष्य को पाने के लिए एक नैतिक मार्ग का सहारा लेना चाहिये। तभी हम अपने लक्ष्य को हासिल कर पायेंगे।

 

3. शांति आपको अपने अंदर से ही मिलती है, बाहरी वातावरण से नही। ~ Mahatma Gandhi

क्या हम वास्तव में खुद के अंदर शांति को तलाशने की कोशिश करते है? ज्यादातर लोगो का जवाब होगा, ‘नहीं’. क्योकि असल में हम अपनी पूरी जिंदगी शांति को बाहर तलाशते रहते है।

जैसे की हम जिंदगी में पहली बार किसी से मिलते है तो हम उनके विचारो को इतनी गंभीरता से ले लेते है जिससे हमारा अपने उपर से विश्वास हट जाता है और हम अपने आपको दूसरो की नजरो से देखने लग जाते है। लेकिन असल में हमें बाहरी आवाजो को अनसुना कर के अपनी अंतरआत्मा की आवाज़ को सुनना चाहिये।

झक्कास खबर
झक्कास खबर

4. माफ़ करना मजबूत लोगो की निशानी है ना की कमजोर लोगो की। ~ Mahatma Gandhi

माफ़ करना बहुत कठिन होता है। वह आदमी जो माफ़ करके जिंदगी में आगे बढ़ता जाता है वही महान है। हमें दूसरो की गलतियों को माफ़ कर देना चाहिये ताकि हम जीवन शांति से व्यतीत कर सके।

माफ़ करना मजबूत लोगो की ही निशानी है ना की कमजोर लोगो की। यदि हम लोगो की गलतियों को माफ़ नही करते तो हम हमारे चारो और अशांति का वातावरण निर्माण करते है। और ऐसा करने से हमेशा के लिये हमारा जीवन परेशानियों में अटका रहेगा। इसीलिए हमें लोगो की गलतियों को माफ़ कर देना चाहिये।

 

5. अगर आप बदलाव देखना चाहते है तो पहले अपनेआप को बदलीये। ~ Mahatma Gandhi

गांधीजी ने कहा था की हम अपने वांछित गुणों को दूसरो में देखने की कोशिश करते है। असल में हम सभी अंदर से बहुत सुन्दर और अद्भुत है। जितनी हम दूसरो की मदद करेंगे जवाब में वे भी हमें उतनी ही मदद करेंगे।

हमें सभी से प्यार और दया की भावना रखनी चाहिये। ऐसा करने से ही हमारे जीवन में अद्भुत बदलाव आयेंगा। यदि हमें दुनिया में प्यार और दया देखनी है तो पहले हमें अपने आप को प्यार और दया से भरना होगा।

 

महात्मा गांधी एक ऐसा नाम है जिसे भारत ही नही बल्कि पूरी दुनिया में कोई परिचय की जरुरत नही है। महात्मा गाँधी सत्य और अहिंसा के पुजारी थे जिन्होंने बिना शस्त्र उठाये अंग्रेजो को झुका दिया और भारत को आज़ादी दिलवाई।

ऐसे सत्य और अहिंसा के पुजारी को निचे दी हुई पंक्तियों से हम नमन करते है। –

“दे दी हमें आज़ादी तूने खडग बिना ढाल, साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल।”
!! जय हिन्द, जय भारत !!

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram