(हमीरपुर बुलेटिन) हमीरपुर में युवक की हत्या कर शव सड़क किनारे फेंका, सहित पढ़ें दिनभर की जिले की खबरें

1 – हमीरपुर में युवक की हत्या कर शव सड़क किनारे फेंका 
– शव कब्जे में लेकर पुलिस मामले की जांच में जुटी
बिंवार थाना क्षेत्र के महेरा गांव में एक युवक का शव गुरुवार को सड़क किनारे पड़ा मिला। पुलिस ने रक्तरंजित शव पोस्टमार्टम के लिये भेजा है। परिजनों ने गांव के ही कुछ लोगों पर हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है।
जिले के बिंवार थाना क्षेत्र के महेरा गांव निवासी बबलू कुशवाहा अपनी मोटर साइकिल से बुधवार की रात बिंवार गया था। देर रात उसने अपने पिता से फोन पर बताया था कि वह गांव के ही एक युवक के साथ है और जल्द ही घर आ जायेंगे लेकिन युवक पूरी रात घर नहीं लौटा। परिजन उसकी तलाश भी करते रहे। गुरुवार को सुबह गांव के बाहर सड़क किनारे बबलू कुशवाहा का रक्तरंजित शव कुछ लोगों ने देखा तो इसकी सूचना पुलिस को दी। यूपी-100 व बिंवार थाना पुलिस मौके पर पहुंचकर जांच की। परिजन भी ग्रामीणों के साथ घटनास्थल पहुंचे और पुलिस के सामने गांव के कुछ लोगों पर हत्या कर शव फेंकने के आरोप परिजनों ने लगाये। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये मर्चरी हाउस भेज दिया है।
पुलिस ने घटनास्थल के पास ही पड़ी मोटर साइकिल भी बरामद कर थाने में खड़ी करायी है। मृतका के पिता शिवराम कुशवाहा ने बताया कि बबलू से गांव के ही कुछ लोगों से विवाद चल रहा था। उन्हीं लोगों ने हत्या कर शव सड़क किनारे फेंका है। इधर बिंवार थाने के प्रभारी निरीक्षक राजेश कुमार वर्मा ने बताया कि परिजनों ने हत्या के आरोप कुछ लोगों पर लगाये हैं। मामले की जांच करायी जा रही है। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद इस मामले में कार्यवाही की जायेगी।


2- जुएं में पूरी कमाई गंवाने के बाद युवक ने यमुना नदी में लगाई छलांग

 हमीरपुर में यमुना नदी के पुल से कूदे एक युवक का तेरह घंटे बाद भी अभी तक कोई पता नहीं चल सका। स्थानीय पुलिस गोताखोरों की मदद से यमुना नदी में सर्च ऑपरेशन लगातार चला रही हैं। इस घटना से परिजन बदहवास हैं।
हमीरपुर नगर के पटकाना मुहाल निवासी नवीन (22) पुत्र बदलू कबाड़ का धंधा करता था। वह जुएं के फड़ पर पूरी कमाई दांव पर गवां बैठा था। इससे दुखी होकर वह बुधवार रात को घर से बिना बताये सीधे यमुना पुल पहुंचा और नदी में छलांग लगा दी। राहगीरों ने इस घटना की सूचना कोतवाली पुलिस को दी जिस पर पुलिस मौके पर पहुंची। देर रात पुलिस गोताखोरों की मदद से नदी में सर्च ऑपरेशन चलाती रही मगर नवीन का कहीं कोई पता नहीं चल सका। गुरुवार को पुलिस ने फिर यमुना नदी और आठ किमी के दायरे में सर्च आपरेशन शुरू कर दिया हैं। परिजन और बड़ी संख्या में पड़ोसी मौके पर मौजूद हैं।
सदर कोतवाल केपी सिंह ने बताया कि यमुना नदी में कूदे नवीन की खोजबीन के लिये सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। अभी तक उसका पचा नहीं चल सका है। इधर परिजनों ने बताया कि नवीन की शादी गजनेर में तय हो गयी थी। दिसम्बर महीने में उसकी शादी थी। शादी को लेकर घर में तैयारियां भी चल रही थी। ऐसे में उसके इस आत्मघाती कदम से दोनों परिवारों में मातम छा गया है।

3 –  हमीरपुर के जिला पंचायतराज अधिकारी निलम्बित

– 466 गांव ओडीएफ मुक्त घोषित किये जाने के बाद मंडलीय जांच टीम ने की थी स्थलीय जांच
 ओडीएफ मुक्त 466 गांवों में मंडलीय जांच टीम को मिली तमाम गड़बडिय़ों को लेकर शासन ने हमीरपुर के जिला पंचायत राज अधिकारी (डीपीआरओ) दुर्गा प्रसाद तिवारी को निलम्बित कर दिया है। उन्हें लखनऊ निदेशालय सम्बन्ध किया गया है। गुरुवार को निलम्बित जिला पंचायत राज अधिकारी ने बताया कि उनके खिलाफ बेवजह कार्रवाई की गयी है।
जिला पंचायत राज अधिकारी दुर्गा प्रसाद तिवारी पिछले साल यहां हमीरपुर स्थानांतरण पर आये थे। शासन की मंशा के अनुरूप समूचे जिले को ओडीएफ मुक्त घोषित करने का अभियान चलाया गया जिसमें सुमेरपुर, कुरारा, मौदहा, राठ, मुस्करा, सरीला व गोहांड सहित सभी इलाके खुले में शौच से मुक्त किये गये हैं। बताया जाता हैं कि ओडीएफ मुक्त गांव घोषित होने के बाद भी गांवों में लोग खुले में शौच करते पाये गये। खुले में शौच से मुक्त करने के अभियान में कई करोड़ की धनराशि भी स्वच्छ शौचालयों के निर्माण में ठिकाने लग चुकी हैं फिर भी कई गांवों में शासन की ये मंशा साकार नहीं हो सकी। चित्रकूट धाम मंडल स्तर से ओडीएफ मुक्त गांवों की जांच टीम से करायी गयी जिसमें तमाम गड़बड़ी पायी गयी। मंडलीय जांच टीम की रिपोर्ट के बाद शासन ने यहां के जिला पंचायत राज अधिकारी को निलम्बित कर दिया हैं। जिला पंचायत राज अधिकारी दुर्गा प्रसाद तिवारी ने गुरुवार को सुबह बताया कि उनके खिलाफ कार्रवाई बेवजह हुयी हैं। जो शासन के निर्देश थे उसे लेकर अभियान चलाकर ओडीएफ मुक्त गांव घोषित किये गये थे।

 

4 – पृथक बुन्देलखंड राज्य के लिये मनाया गया काला दिवस
– कलेक्ट्रेट परिसर में प्रदर्शन करके प्रधानमंत्री को भेजा ज्ञापन
बुन्देलखंड क्रांति दल के तत्वावधान में नौजवानों ने हमीरपुर में गुरुवार को काला दिवस मनाते हुये कलेक्ट्रेट परिसर में नारेबाजी की और पृथक बुन्देलखंड राज्य बनाये जाने की मांग कर प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन प्रशासन के माध्यम से भेजा।
बुन्देलखंड क्रांति दल के जिलाध्यक्ष सत्येन्द्र अग्रवाल ने बताया कि 31 अक्टूबर को ही देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने पृथक बुन्देलखंड राज्य को समाप्त किया था इसीलिये बुन्देलखंड वासी आज के दिन को काले दिवस के रूप में मनाते हैं। बुन्देलखंड क्रांति दल के जिलाध्यक्ष सत्येन्द्र अग्रवाल के नेतृत्व में रामहेत, जीतेन्द्र कुमार, जगभान, अभिनय तिवारी जिला महासचिव, अभिषेक सिंह, सिद्ध गोपाल प्रजापति, अभिषेक कुमार गुप्ता समेत तमाम नौजवानों ने कलेक्ट्रेट परिसर पर पृथक बुन्देलखंड राज्य की मांग को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया और नारेबाजी करते हुये प्रशासन को तीन सूत्रीय ज्ञापन दिया।
उन्होंने बताया कि पृथक बुन्देलखंड राज्य की मांग पिछले कई दशक से की जा रही है लेकिन सरकार इस क्षेत्र के लोगों की पीड़ा नहीं सुन रही हैं। यहां किसान, नौजवान, व्यापारी, छात्र और मजदूर परेशान हैं। रोजगार की संभावनायें नहीं हैं। जब तक बुन्देलखंड अलग राज्य नहीं बनेगा तब तक इस पिछड़े क्षेत्र का विकास भी संभव नहीं हैं। बुन्देलखंड क्रांतिदल के जिलाध्यक्ष ने बताया कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव दौरान झांसी संसदीय चुनावी क्षेत्र की रैली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुन्देलखंड की जनता से वायदा किया था कि अगर केन्द्र में भाजपा की सरकार बनी तो तीन साल के अंदर पृथक बुन्देलखंड राज्य बना दिया जायेगा मगर इस सम्बन्ध में आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गयी। उन्होंने बताया कि 2011 की जनगणना में बुन्देलखंड के झांसी, ललितपुर, बांदा, कर्वी, हमीरपुर, सागर, महोबा, पन्ना, दमोह, टीकमगढ़, दतिया व निवाड़ी की जनसंख्या 1,83,34,753 हैं। बुन्देलखंड के पास 70,592 वर्ग किमी भूमि हैं। यदि उत्तर प्रदेश व मध्यप्रदेश के 14 जिलों को मिलाकर बुन्देलखंड राज्य बना तो जनसंख्या के हिसाब से 19वां और क्षेत्रफल के अनुसार बुन्देलखंड देश का 18वें नम्बर का राज्य होगा। बुन्देलखंड क्रांतिदल के जिलाध्यक्ष ने ज्ञापन भेजकर कहा कि यदि इस मांग को लेकर कार्यवाही नहीं की गयी तो यहां क्षेत्र में बड़े स्तर पर जनांदोलन चलाया जायेगा।
12 मार्च 1948 में बना था बुन्देलखंड राज्य
बुन्देलखंड क्रांतिदल के जिलाध्यक्ष ने बताया कि आजादी के बाद 12 मार्च 1948 को विन्ध्य प्रदेश के तहत 35 देशी रियासतों को मिलाकर पृथक बुन्देलखंड व बघेलखण्ड राज्य बनाये गये थे। उन्होंने बताया कि पृथक बुन्देलखंड राज्य के पहले मुख्यमंत्री कामता प्रसाद सक्सेना बने थे। नौगांव में बुन्देलखंड राज्य का मुख्यालय बना था। बुन्देलखंड अलग राज्य आठ सालों तक अस्तित्व में रहा। इसके बाद बुन्देलखंड बदहाली के रास्ते में चल पड़ा। इस क्षेत्र में लाखों की संख्या में लोग रोजीरोटी के लिये पलायन कर गये हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू ने समाप्त किया था राज्य
बुन्देलखंड क्रांतिदल के जिलाध्यक्ष ने बताया कि वर्ष 1956 में राज्य पुनर्गठन अधिनियम देश की संसद में पारित कर 14 राज्य व पांच केन्द्र शासित राज्य बनाये गये थे। लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने पृथक बुन्देलखंड राज्य को समाप्त कर बुन्देलखंड राज्य को दो भागों में उत्तर प्रदेश व मध्यप्रदेश में विभाजित कर दिया था। वर्ष 1956 के बाद कोई भी राज्य पुनर्गठन आयोग नहीं बनाया गया। इसके बाद 18 राज्य और बन चुके हैं लेकिन दुर्भाग्य की बात हैं कि आज तक बुन्देलखंड को पृथक राज्य नहीं बनाया जा सका।

5 – नगर विकास उत्तर प्रदेश शासन के सचिव ने लगाई चौपाल, विकास कार्यों की देखी हकीकत

नगर विकास विभाग उत्तर प्रदेश शासन के सचिव अनुराग यादव ने गुरुवार को जिले में एक गांव में चौपाल लगाकर विकास कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने पशु आश्रय स्थल का भी निरीक्षण किया। उन्होंने विद्यालय में शिक्षा की गुणवत्ता जानने को बच्चों से पहाड़े भी सुनाने को कहा तो बच्चों ने तोते की तरह पूरा पहाड़ा सुनाया जिसे देख सचिव ने बच्चों को शाबासी दी।

जिले के कुरारा ब्लाक के खरौंज गांव में प्राथमिक विद्यालय परिसर में सचिव ने आयोजित चौपाल में ग्राम पंचायत में कराये गये विकास कार्यों की समीक्षा की। ग्रामीणों ने शौचालय, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, खाद्यान्न वितरण आदि योजना के बारे में सचिव को पूछने पर जानकारी दी। 2600 आबादी वाले इस ग्राम पंचायत में सौभाग्य योजना के तहत 151 लोगों को विद्युत संयोजन मुफ्त दिये गये हैं तता 45 लोगों के फार्म भरे गये हैं। वहीं राशन प्रणाली में अत्योदय के 132 व पात्र गृहस्थी के 452 राशन कार्ड धारक हैं। गांव निवासी नूर अली ने तीन माह से खाद्यान्न न मिलने की शिकायत सचिव से की। गांव में 261 ग्रामीणों को शौचालय दिये जा चुके हैं शेष लाभार्थियों को शौचालय देने के निर्देश दिये गये।
दो दर्जन से अधिक लोगों ने शौचालय देने में ग्राम पंचायत विकास अधिकारी पर भेदभाव करने के आरोप लगाये जाने की शिकायत की वहीं प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में वर्ष 2011 की सूची में 167 ग्रामीणों को आवास दिये जाना समीक्षा में पाया गया। गांव में 54 हैण्डपंप हैं जिनमें तीन खराब होने की शिकायत पर सचिव ने तत्काल सही कराने के निर्देश दिये। ग्रामीणों ने चौपाल में शिकायत कर बताया  कि गांव में विभाग ने नलकूप लगवाया हैं लेकिन ये अभी तक चालू नहीं कराया गया हैं जबकि इसे अभिलेखों में इसे चालू होना दर्शाया गया हैं।
नलकूप में बिजली का संयोजन भी नहीं हैं। इस मामले की शिकायत पर सचिव ने नाराजगी जताते हुये सम्बन्धित विभाग के अधिकारी को कार्यवाही करने के निर्देश दिये। ग्रामीणों ने गांव में उच्च शिक्षा के लिये राजकीय इण्टरकालेज को संचालित कराये जाने की मांग की वहीं गौवंश को लेकर भी चौपाल में मुद्दा रखा। सचिव ने विद्यालय में बच्चों से पहाड़े पूछे और शिक्षा की स्थिति का जायजा लिया। बच्चों ने भी बड़े ही उत्साह से पहाड़े सुनाये। सचिव ने आंगनबाड़ी केन्द्र का भी निरीक्षण करने के बाद गांव में अस्थायी पशु आश्रय स्थल का निरीक्षण किया।
इस मौके पर अपर जिलाधिकारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव, सीडीओ आरके सिंह, बीडीओ राम सिंह व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
6 – यातायात पुलिस ने  80 वाहन किये सीज

– पुलिस की कार्यवाही से वाहन चालको में हडकम्प
जिले में गुरुवार को यातायात प्रभारी ने क्षेत्र के विभिन्न मार्गो पर चेकिंग के दौरान तीन वाहनो को सीज करके 80 वाहनो के चालान करके 8800 रूपये का सम्मन शुल्क वसूल किया गया है। यातायात पुलिस की इस कार्यवाही से वाहन चालको में हडकम्प मच गया है।
यातायात प्रभारी अरबिन्द मिश्रा ने बताया कि सुमेरपुर थाना क्षेत्र के बांदा मार्ग एवं नेशनल हाइवे 34 में सघन वाहन चेकिंग अभियान चलाकर तीन डग्गामार वाहनो को कागजात न होने पर सीज कर दिया गया है। उन्होने बताया कि 80 दोपहिया, तिपहिया एवं चार पहिया वाहनो के ई चालान किये गये है। यातायात प्रभारी ने बताया कि छोटी मोटी खामियां पाये जाने पर वाहन चालको को हिदायत देकर 8800 रूपये का सम्मन शुल्क वसूल किया गया है।
उन्होने बताया कि वाहन चेकिंग की यह प्रक्रिया निरंतर जारी रहेगी। होने वाले वाहन एक्ट के बदलाव के तहत अब बाइक चालक के साथ बैठने वाले को भी हेलमेट लगाना होगा। अगर ऐसा नही हुआ तो चालान किया जायेगा। यातायात पुलिस की इस कार्यवाही से कस्बे में पूरे दिन हडकमप मचा रहा। वही थाना पुलिस ने सघन वाहन चेकिंग अभियान चलाकर एक सैकडा वाहनो के ई चालान किये है। इस दौरान कस्बा इंचार्ज सतीश कुमार यादव, अनुपम यादव, अजब सिंह, शिवदान यादव आदि एसआई मौजूद रहे।

 

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram