हमीरपुर विस उपचुनाव : भाजपा के युवराज का मतदाताओं ने किया राजतिलक

हमीरपुर सदर विधानसभा के उपचुनाव में भी 17771 मतों से भाजपा का कमल खिला है। भाजपा उम्मीदवार को 74168 मत मिले है। समाजवादी पार्टी 56397 मत पाकर दूसरे स्थान पर रही। भाजपा की जीत होते ही यहां पार्टी कार्यकर्ताओं ने पटाखे दागे और जय श्रीराम के नारे लगाये।

हमीरपुर सदर विधानसभा सीट के उपचुनाव में भाजपा समाजवादी पार्टी को शुरू से पछाड़ते हुये बढ़त बनाये थी। 34 और आखिरी राउन्ड की मतगणना के बाद भाजपा ने यहां की सीट पर जीत का परचम फहराकर साइकिल को पंचर कर दिया है। भाजपा उम्मीदवार युवराज सिंह को 74168 मत मिले जबकि समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार डा.मनोज कुमार प्रजापति को 56397 मत, बसपा उम्मीदवार नौशाद अली को 28749 मत तथा कांग्रेस उम्मीदवार हरदीपक निषाद को 16083 मत मिले है। भाजपा की जीत होते ही मतगणना स्थल के बाहर कार्यकर्ता पटाखे दाग कर नारेबाजी करने लगे। सड़कों पर भाजपाई खुशी से डांस भी कर रहे है। विधासभा के उपचुनाव में नोटा में 2290 मत पड़े है। उपचुनाव में शानदार जीत पर युवराज सिंह ने कहा कि यहां के मतदाताओं ने मोदी और योगी के कार्यों पर विश्वास जताया है। इस विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य कराने के साथ ही आवारा मवेशियों से भी किसानों को निजात दिलाने का काम किया जायेगा।

हमीरपुर विधानसभा उपचुनाव परिणाम – उम्मीदवार दल कुल प्राप्त मत

युवराज सिंह भाजपा 74168
डॉ. मनोज कुमार प्रजापति सपा 56397
नौशाद अली बसपा 28749
हरदीपक निषाद कांग्रेस 16083
जमाल आलम मंसूरी सीपीआई 3906
राजाभइया जन अधिकार पार्टी 5197
सुखपाल सिंह रा.शोषित समाज पार्टी 2581
सुरेश कुमार वर्मा प्र.समाज पार्टी 1648
हनुमान मिश्रा भा.शक्ति चेतना पार्टी 1554
नोटा 2290
कुल पड़े मत 192523

जमानत बचाने के लिए उम्मीदवार नहीं हासिल कर पाये 16.66 फीसद मत, सात उम्मीदवारों की जमानतें जब्त

हमीरपुर सदर विधानसभा के उपचुनाव में बसपा और कांग्रेस समेत सात उम्मीदवारों की जमानतें जब्त हो गयी हैं। उपचुनाव में भाजपा, सपा, बसपा, कांग्रेस समेत नौ उम्मीदवारों ने किस्मत आजमायी जिसमें भाजपा उम्मीदवार युवराज सिंह को 38.55 फीसद मत मिले हैं जबकि समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार डॉ. मनोज कुमार प्रजापति को 29.29 फीसद मत मिले है। यहां इस सीट पर बसपा के उम्मीदवार नौशाद अली भी अपनी जमानत नहीं बचा पाये है। उन्हें मात्र 14.92 प्रतिशत मत मिले हैं।
इण्डियन नेशनल कांग्रेस के उम्मीदवार हरदीपक निषाद को 8.34 फीसद मत मिले हैं। इसके अलावा सीपीआई उम्मीदवार जमाल आलम मंसूरी को 2.03 प्रतिशत, जन अधिकार पार्टी के राजाभइया को 2.69 प्रतिशत, राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी उम्मीदवार सुखपाल सिंह पाल को 1.34 प्रतिशत, प्रगतिशील समाज पार्टी उम्मीदवार सुरेश कुमार वर्मा को 0.85 प्रतिशत व भारतीय शक्ति चेतना पार्टी के उम्मीदवार हनुमान मिश्रा को 0.81 प्रतिशत मत मिले हैं। नोटा में भी 1.19 प्रतिशत मत पड़े है। निर्वाचन विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक सदर विधानसभा के उपचुनाव की मतगणना में 193037 मतों की गिनती हुई है जिसमें उम्मीदवार को जमानत बचाने के लिये 32163 (16.66 फीसद) मत चाहिये थे लेकिन सपा छोड़ अन्य सभी सात उम्मीदवारों की जमानतें जब्त हो गयी हैं।
हमीरपुर के अपर जिलाधिकारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव ने शुक्रवार की शाम बताया कि उम्मीदवार को जमानत बचाने के लिये वन/सिक्स वोट मिलना चाहिये लेकिन बसपा, कांग्रेस समेत अन्य सात उम्मीदवार मानक पूरा नहीं कर सके। इसीलिये इन उम्मीदवारों की जमानतें जब्त हो गयी हैं। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भी हमीरपुर सीट पर भाजपा ने 112995 मत हासिल कर जीत का परचम फहराया था और सपा उम्मीदवार डॉ. मनोज कुमार प्रजापति 62233 मत पाकर दूसरे स्थान पर रहे थे। बसपा उम्मीदवार संजय दीक्षित 60543 मत पाकर तीसरे स्थान पर रहे थे। इसके अलावा 3356 मतदाताओं ने नोटा का बटन दबाया था। पिछले विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों की जमानतें भी जब्त हुई थी।
भाजपा को मिले सर्वाधिक पोस्टल मत, नोटा को भी मिला एक पोस्टल मत
विधानसभा उपचुनाव में भाजपा के खाते में 35 पोस्टल मत आये वहीं सपा को 14 पोस्टल मत मिले है जबकि बसपा को 8 तथा कांग्रेस को सिर्फ एक पोस्टल मत ही मिल सका। हैरानी की बात तो यह है कि ईवीएम के नोटा में भी एक पोस्टल मत आया है। इसके अलावा सीपीआई को एक, राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी को भी एक पोस्टल मत मिला है। सर्वाधिक कम 081 फीसद मत भारतीय शक्ति चेतना पार्टी के उम्मीदवार हनुमान मिश्रा को मिला है। भाजपा, सपा, बसपा और कांग्रेस को छोड़कर बाकी पांच उम्मीदवारों के खाते में 14886 से अधिक मत आये है। मतों के बिखराव के कारण ही बसपा अपनी जमानत नहीं बचा पायी है।

छत्तीसगढ़, केरल, त्रिपुरा और उत्तर प्रदेश में चार विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव का मतदान 23 सितंबर को हुआ था.  अभी तक मिले नतीजों के मुताबिक केरल की पाला विधानसभा सीट लेफ्ट गठबंधन और उत्तर प्रदेश की हमीरपुर विधानसभा सीट का उपचुनाव बीजेपी ने जीत लिया है.  चुनाव आयोग द्वारा छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा, उत्तर प्रदेश के हमीरपुर, केरल के पाला और त्रिपुरा के बधरघाट में उपचुनाव के लिए मतदान कराया गया था. बता दें कि छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव में 60.1 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. वहीं, हमीरपुर विधानसभा सीट के लिए सोमवार को हुए उपचुनाव में 51 प्रतिशत मतदान हुआ था. केरल के पाला विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव में 13 उम्मीदवार उतरे हैं. यहां पूर्व वित्त मंत्री एवं केरल कांग्रेस (एम) के नेता केएम मणि के निधन के चलते उपचुनाव की जरूरत पड़ी.

भाजपा ने त्रिपुरा के बधरघाट उपचुनाव में माकपा को हराया
भाजपा उम्मीदवार मिमी मजूमदार ने त्रिपुरा में बधरघाट (अजा) विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में अपनी निकटवर्ती प्रतिद्वंद्वी माकपा उम्मीदवार बुल्टी बिस्वास को 5276 मतों के अंतर से हराया. अधिकारियों ने इस बारे में बताया. कांग्रेस उम्मीदवार रतन चंद्र दास तीसरे स्थान पर रहे लेकिन पिछले साल फरवरी में हुए विधानसभा चुनाव की तुलना में उन्हें 18 गुणा अधिक वोट मिले. अप्रैल में भाजपा विधायक दिलीप सरकार के निधन के कारण यह सीट रिक्त हुई थी. उपचुनाव 23 सितंबर को हुआ था.

आशा हैं हमने ऊपर दी गयी जानकारी से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर नहीं तो कृपया कमेन्ट के जरिये हमें बताएं। आज के इतिहास के बारे में और भी जानकारी हो तो वो भी हमें कमेन्ट के जरिये बताये हम इस लेख में जरुर अपडेट करेंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Instagram
Telegram